नई दिल्ली Jio, Airtel को मिल सकती है देशभर में 5G स्पेक्ट्रम, Voda Idea पर असमंजस

Jio, Airtel को मिल सकती है देशभर में 5G स्पेक्ट्रम, Voda Idea पर असमंजस

Jio, Airtel को मिल सकती है देशभर में 5G स्पेक्ट्रम, Voda Idea पर असमंजस

नई दिल्ली: बैंक ऑफ अमेरिका सिक्योरिटीज ने सोमवार को कहा कि रिलायंस Jio और भारती Airtel 5G स्पेक्ट्रम देशव्यापी स्तर पर खरीद पाने की स्थिति में हैं लेकिन वोडाफोन आइडिया को लेकर अनिश्चितता बनी हुई है.

एक रिपोर्ट में कहा गया है कि एक खास सर्किल में 5G स्पेक्ट्रम के लिए बोली न लगाने वाली किसी भी दूरसंचार कंपनी के लिए मौजूदा 4G बैंड पर 5G सेवा दे पाना मुश्किल होगा. इसकी वजह यह है कि मौजूदा नेटवर्क पहले ही पूरी क्षमता पर चल रहे हैं, लिहाजा खाली स्पेक्ट्रम सीमित ही रह गए हैं.

वोडाफोन आइडिया का प्रबंधन शीर्ष प्रमुख सर्किलों पर केंद्रित है: 

रिपोर्ट के मुताबिक, 5G स्पेक्ट्रम का ऊंचा आरक्षित मूल्य होने से कोई नई दूरसंचार कंपनी इस नीलामी में बोली लगाने से परहेज करेगी. सिर्फ मजबूत बही-खाते वाली कंपनियां, मसलन रिलायंस और भारती ही देशभर में 5G स्पेक्ट्रम खरीद पाने की स्थिति में हैं. यह अभी साफ नहीं है कि वोडाफोन आइडिया 5G स्पेक्ट्रम के लिए किस तरह से कोष जुटाएंगी.

बैंक ऑफ अमेरिका सिक्योरिटीज के शोध विश्लेषकों का मत है कि वोडाफोन आइडिया का प्रबंधन शीर्ष प्रमुख सर्किलों पर केंद्रित है और कंपनी अपने प्रमुख 3जी एवं 4जी सर्किलों में चुनिंदा बोलियां लगा सकती है. रिपोर्ट के मुताबिक,हमें लगता है कि वोडाफोन आइडिया को अगर देशभर में 5G स्पेक्ट्रम नहीं मिलता है तो वह और भी कमजोर हो जाएगी. 

सरकार जून के अंत या जुलाई की शुरुआत में स्पेक्ट्रम की अगली नीलामी कर सकती है: 

इस बारे में वोडाफोन आइडिया की राय जानने के लिए भेजे गए ईमेल का तत्काल कोई जवाब नहीं मिल पाया है. रिपोर्ट में अनुमान जताया गया है कि सेवा प्रदाता इस नीलामी में 3.5 गीगाहर्ट्ज बैंड को लेकर अधिक दिलचस्पी दिखाएंगे क्योंकि यह 5G का बुनियादी बैंड है. वहीं प्रीमियम माना जाने वाला 700 मेगाहर्ट्ज अपनी ऊंची कीमत के कारण कम ही कंपनियों को रास आएगा. सरकार जून के अंत या जुलाई की शुरुआत में स्पेक्ट्रम की अगली नीलामी कर सकती है. इसके आधार पर देश में अगस्त-सितंबर तक 5G सेवाएं शुरू होने की उम्मीद है. सोर्स-भाषा 

और पढ़ें