देशी गौवंश आधुनिक दुग्धशाला का उद्घाटन, राज्यपाल मिश्र ने गायों को हरा चारा व गुड़ खिलाकर किया दुलार

देशी गौवंश आधुनिक दुग्धशाला का उद्घाटन, राज्यपाल मिश्र ने गायों को हरा चारा व गुड़ खिलाकर किया दुलार

देशी गौवंश आधुनिक दुग्धशाला का उद्घाटन, राज्यपाल मिश्र ने गायों को हरा चारा व गुड़ खिलाकर किया दुलार

जयपुर: राज्यपाल कलराज मिश्र ने बुधवार को राजभवन में देशी गौवंश की आधुनिक दुग्धशाला का उद्घाटन किया. दुग्धशाला राजस्थान पशु चिकित्सा एवं पशु विज्ञान विश्वविद्यालय, बीकानेर द्वारा बनाई गई है. विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफेसर विष्णु शर्मा ने राज्यपाल को बताया कि गौशाला में गौवंश के लिए चारे, आराम, साफ सफाई और स्वास्थ्य की दृष्टि से उचित व्यवस्था की गई है. तेज गर्मी से बचाव के लिए यहां फव्वारा प्रणाली, गौवंश की स्वच्छता के लिए स्विंगिंग गाय ब्रश, स्वचालित स्नान के उपकरण आदि लगाए गए हैं. इससे पहले राज्यपाल कलराज मिश्र ने गौशाला का अवलोकन कर वहां गौवंश की देखभाल के लिए विकसित की गई अत्याधुनिक सुविधाओं और उपकरणों की कार्य प्रणाली को समझा.

राज्यपाल ने गायों को हरा चारा व गुड़ खिलाकर किया दुलार:
उन्होंने गौशाला में की गई व्यवस्थाओं को संतोषप्रद बताते हुए सराहना की. उन्होंने इस दौरान गायों को हरा चारा और गुड़ खिलाकर दुलार किया. राज्यपाल ने विश्वविद्यालय के त्रैमासिक न्यूज लेटर का विमोचन भी किया. इस दौरान राज्यपाल के सचिव सुबीर कुमार, प्रमुख विशेषाधिकारी गोविन्दराम जायसवाल मौजूद रहे. राज्यपाल ने आज राजभवन में संविधान निर्माता बाबा साहेब डाॅ. भीमराव अम्बेडकर की 130वीं जन्म जयन्ती के मौके पर उनके चित्र पर माल्यार्पण कर श्रद्धांजलि अर्पित की.

राज्यपाल ने बाबा साहेब डॉ. भीमराव अम्बेडकर को श्रद्धांजलि दी:
राज्यपाल ने सभी देशवासियों से बाबा साहेब के बहुजन हिताय बहुजन सुखाय के दर्शन और उनके आदर्शों को आत्मसात करने का आह्वान भी किया. राज्यपाल ने कहा कि बाबा साहेब ने भारतीय संविधान में यह सुनिश्चित करने की पहल की कि देश में किसी भी हिस्से में रहने वाले नागरिकों के लिए जातीय और भाषायी आधार पर कोई भेद भाव नहीं हो. उनका स्पष्ट रूप से मानना था कि देश के सभी नागरिक पहले भारतीय हैं उसके बाद ही उनकी कोई और पहचान है.

और पढ़ें