नई दिल्ली: नहीं रहे यूपी के पूर्व CM Kalyan singh, लखनऊ PGI में ली अंतिम सांस

नहीं रहे यूपी के पूर्व CM Kalyan singh, लखनऊ PGI में ली अंतिम सांस

नहीं रहे यूपी के पूर्व CM Kalyan singh, लखनऊ PGI में ली अंतिम सांस

नई दिल्ली: उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और राजस्थान के राज्यपाल रहे कल्याण सिंह (Kalyan Singh passes away) का शनिवार को निधन हो गया है. सिंह लंबे समय से बिमार चल रहे थे और इनका लखनऊ के पीजीआई अस्पताल में इलाज चल रहा था. बीते दो दिनों से कल्याण सिंह की तबीयत काफी नाजुक बनी हुई थी. अलग-अलग विभागों के विभागाध्यक्ष लगातार उनकी निगरानी रख रहे थे. अस्पताल में पूर्व मुख्यमंत्री के परिवारजन भी मौजूद थे. कल्याण सिंह के इलाज में दिल, गुर्दा, डायबिटीज, न्यूरो, यूरो, गैस्ट्रो और क्रिटिकल केयर मेडिसिन विभाग समेत 12 विशेषज्ञ डॉक्टरों की टीम लगातार निगरानी में लगी हुई थी.

उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह का निधन हो गया है. उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और राजस्थान के पूर्व राज्यपाल कल्याण सिंह का लंबी बीमारी के बाद शनिवार को निधन हो गया. कल्याण सिंह के निधन पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी दुख व्यक्त किया है. संजय गांधी आयुर्विज्ञान संस्थान (SGPGI) द्वारा शनिवार रात जारी बयान में बताया गया कि सिंह लंबे समय से बीमार थे और उनके अंगों धीरे-धीरे काम करना बंद कर दिया जिससे शनिवार शाम उनका निधन हो गया. 

गौरतलब है कि वयोवृद्ध नेता सिंह को पिछली 4 जुलाई को संक्रमण और हल्की बेहोशी की वजह से SGPGI के ICU में भर्ती कराया गया था. इससे पहले उनका इलाज डॉक्टर राम मनोहर लोहिया इंस्टीट्यूट में चल रहा था. सीएम योगी आदित्यनाथ ने आगे कहा कि 23 तारीख को नरौरा में गंगा तट पर उनका अंतिम संस्कार किया जाएगा. 


पीएम मोदी ने अपने ट्वीट में लिखा  है कि मैं अपने दुख को शब्दों में जाहिर नहीं कर सकता. कल्याण सिंह जी. राजनेता, अनुभवी प्रशासक, जमीनी स्तर के नेता और महान इंसान. उत्तर प्रदेश के विकास में उनका अमिट योगदान है. मैंने उनके पुत्र श्री राजवीर सिंह से बात की और संवेदना व्यक्त की. ओम् शांति.

दुख की इस घड़ी में मेरे पास शब्द नहीं हैं। कल्याण सिंह जी जमीन से जुड़े बड़े राजनेता और कुशल प्रशासक होने के साथ-साथ एक महान व्यक्तित्व के स्वामी थे। उत्तर प्रदेश के विकास में उनका योगदान अमिट है। शोक की इस घड़ी में उनके परिजनों और समर्थकों के प्रति मेरी गहरी संवेदनाएं। ओम शांति! pic.twitter.com/Z3fq49n1yE

— Narendra Modi (@narendramodi) August 21, 2021


केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने ट्वीट कर कहा कि हमारे वरिष्ठ नेता कल्याण सिंह जी के निधन का समाचार सुनकर अत्यंत व्यथित हूं. जनसंघ और भाजपा को उत्तर प्रदेश में खड़ा करने में कल्याण सिंह जी का सबसे महत्वपूर्ण योगदान रहा है.

हमारे वरिष्ठ नेता आदरणीय कल्याण सिंह जी के निधन का समाचार सुनकर अत्यंत व्यथित हूं। जनसंघ और भाजपा को उत्तर प्रदेश में खड़ा करने में कल्याण सिंह जी का सबसे महत्वपूर्ण योगदान रहा है।

— Nitin Gadkari (@nitin_gadkari) August 21, 2021


केंद्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि कल्याण सिंह जी के निधन से मैंने अपना बड़ा भाई और साथी खोया है. उनके निधन से आई रिक्तता की भरपाई लगभग असम्भव है. ईश्वर उनके शोक संतप्त परिवार को दुःख की इस कठिन घड़ी में धैर्य और संबल प्रदान करे.

श्री कल्याण सिंह जी के निधन से मैंने अपना बड़ा भाई और साथी खोया है। उनके निधन से आई रिक्तता की भरपाई लगभग असम्भव है। ईश्वर उनके शोक संतप्त परिवार को दुःख की इस कठिन घड़ी में धैर्य और संबल प्रदान करे। ओम शान्ति!

— Rajnath Singh (@rajnathsingh) August 21, 2021

लोकसभा के अध्यक्ष ओम बिरला ने ट्वीट कर कहा कि कल्याण सिंह जी के निधन से आज हमने एक ऐसा विराट व्यक्तित्व खो दिया जिसने अपने राजनीतिक कौशल, प्रशासकीय अनुभव और विकासोन्मुखी दृष्टिकोण से राष्ट्रीय स्तर पर एक अमिट छाप छोड़ी. ईश्वर दिवंगत आत्मा को शांति प्रदान करें.

कल्याण सिंह जी के निधन से आज हमने एक ऐसा विराट व्यक्तित्व खो दिया जिसने अपने राजनीतिक कौशल, प्रशासकीय अनुभव और विकासोन्मुखी दृष्टिकोण से राष्ट्रीय स्तर पर एक अमिट छाप छोड़ी। वे वंचित वर्ग के उत्थान और सभी वर्गों के कल्याण को समर्पित रहे। ईश्वर दिवंगत आत्मा को शांति प्रदान करें।

— Om Birla (@ombirlakota) August 21, 2021

उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ में हुआ था जन्म:
बता दें कि कल्याण सिंह का जन्म 5 जनवरी 1932 को उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ के अतरौली तहसील के मढ़ौली गांव में हुआ था. कल्याण सिंह की पहचान एक हिंदुत्ववादी नेता और प्रखर वक्ता की थी. एक दौर में कल्याण राम मंदिर आंदोलन के सबसे बड़े चेहरों में से एक थे. 

यूपी में भाजपा के पहले मुख्यमंत्री बने:
कल्याण सिंह 2 बार यूपी के मुख्यमंत्री रहे. वह भाजपा के यूपी में पहले सीएम भी थे. पहले कार्यकाल में 24 जून 1991 से 6 दिसम्बर 1992 तक और दूसरी बार 21 सितंबर 1997 से 12 नवंबर 1999 तक मुख्यमंत्री रहे. कल्याण सिंह 1967 में पहली बार अतरौली से विधायक बने थे. कल्याण सिंह 10 बार विधायक चुने गए. कल्याण सिंह 4 सितंबर 2014 से 8 सितंबर 2019 तक राजस्थान के राज्यपाल रहे. कल्याण सिंह ने 1991 में अपने दम पर यूपी में सरकार बनाई थी. इसके बाद कल्याण सिंह यूपी में भाजपा के पहले सीएम बने. 

कल्याण ने बाबरी मस्जिद गिराने की नैतिक जिम्मेदारी ली थी:
6 दिसंबर 1992 को अयोध्या में बाबरी ढांचा गिराए जाने के दौरान कल्याण सिंह यूपी के मुख्यमंत्री थे. उन्होंने कारसेवकों पर गोली चलाने की अनुमति नहीं दी थी. ढांचा गिराए जाने के बाद कल्याण ने इस्तीफा सौंप दिया था. बाबरी मस्जिद विध्वंस के लिए कल्याण सिंह को जिम्मेदार माना गया. कल्याण सिंह ने इसकी नैतिक जिम्मेदारी लेते हुए सीएम पद से इस्तीफा दे दिया था. लेकिन दूसरे दिन केंद्र सरकार ने यूपी की भाजपा सरकार को बर्खास्त कर दिया.

और पढ़ें