कलयुगी बहू ने बीमार और बुजुर्ग सास-ससुर को घर से निकाला, पीड़ित दम्पति ने तहसीलदार को ज्ञापन देकर मांगी इच्छा मृत्यु

कलयुगी बहू ने बीमार और बुजुर्ग सास-ससुर को घर से निकाला, पीड़ित दम्पति ने तहसीलदार को ज्ञापन देकर मांगी इच्छा मृत्यु

नागौर: जिले के डीडवाना के नजदीकी धनकोली गांव में रहने वाले एक बीमार बुजुर्ग दम्पति को बहु ने घर से निकाल दिया. उसके बाद रहने को ठिकाना नहीं मिला तो बुजुर्ग दम्पति ने मंदिर में शरण ली और प्रशासन से कार्यवाही की मांग करते हुए इच्छा मृत्यु की मांग की है.  

बुजुर्ग दम्पति अपनी जिंदगी के अंतिम पड़ाव पर: 
बुजुर्ग दम्पति अपनी जिंदगी के अंतिम पड़ाव पर है और दवाइयों के सहारे अपनी बीती जिंदगी गुजार रहा थी. इसी बीच लालची बहु ने बुजुर्ग दम्पति को घर से निकाल बेघर कर दिया और यह बुजुर्ग अपना घर दिलवाने की मांग को लेकर डीडवाना के उपखण्ड अधिकारी के पास पहुंचा. उपखण्ड अधिकारी की तबियत ठीक नही होने पर घंटों बुजुर्ग दम्पति इंतजार करती रही. लेकिन उपखण्ड अधिकारी खुद बीमारी का बहाना बनाकर अपने आवास से नीचे ही नही आये तो दम्पति तहसीलदार के पास पंहुचे मगर तहसीलदार भी गायब मिले और डीडवाना के एडीएम का पद बीते 6 महीने से ज्यादा वक्त से खाली पड़ा है आखिर किसको सुनाए फरियाद. फिर दम्पति को किसी ने तहसीलदार के घर जाकर मिलने की सलाह दी तो लड़खड़ाते कदमों से एक दूसरे को थामते बुजुर्ग दम्पति तहसीलदार के आवास पंहुचे और अपनी फरियाद सुनाई.  

तहसीलदार ने बहू को किया पाबंद:
डीडवाना तहसीलदार ने बुजुर्ग दम्पति की फरियाद सुनकर मौलासर थाना अधिकार को बुजुर्ग दम्पति के साथ जाकर घर मे प्रवेश करवाने और बहू को पाबंद करने के साथ साथ बुजुर्ग दम्पति का ध्यान रखकर भरण पोषण के लिए पाबंद करने के निर्देश दिए और थानाधिकारी को पालना रिपोर्ट पेश करने की बात कही है. 

रिश्तें शायद स्वार्थी लोगों के लिए कोई मायने नहीं रखतें: 
आजकल परिवार सास बहू पति पत्नी यह रिश्तें शायद स्वार्थी लोगों के लिए कोई मायने नहीं रखता. बुजुर्ग दम्पति को घर से निकालने पर संवेदनाये मर गई है. ऐसे लोगों के खिलाफ कड़ी कार्यवाही की जाए ताकि दूसरे कोई इस तरह की हरकतें नही कर पाए. 

...नरपत ज़ोया संवाददाता फ़र्स्ट इंडिया न्यूज,डीडवाना

और पढ़ें