बेंगलुरू कर्नाटक: ऑक्सीजन की कमी से 24 मरीजों की मौत का मामला, High Court के रिटायर्ड जज करेंगे घटना की जांच

कर्नाटक: ऑक्सीजन की कमी से 24 मरीजों की मौत का मामला, High Court के रिटायर्ड जज करेंगे घटना की जांच

कर्नाटक: ऑक्सीजन की कमी से 24 मरीजों की मौत का मामला, High Court के रिटायर्ड जज करेंगे घटना की जांच

बेंगलुरू: कर्नाटक सरकार (Karnatka Government) ने कथित रूप से ऑक्सीजन (Oxygen) की कमी के कारण चामराजनगर (Chamraj Nagar) में कोविड-19 के 24 मरीजों की मौत के मामले की जांच के लिए उच्च न्यायालय के सेवानिवृत्त न्यायाधीश बी ए पाटिल (Retired Judge BA Patil) का एक सदस्यीय आयोग बुधवार को नियुक्त किया है. अब मामले की जांच गठीत कमेटी करेगी. आयोग को जांच कर एक महिने में अपनी रिपोर्ट पेश करनी होगी.

अतिरिक्त मुख्य सचिव गृह विभाग रजनीश गोयल ने जारी की अधिसूचना:
गृह विभाग (Home Department) में अतिरिक्त मुख्य सचिव रजनीश गोयल (Additional Chief Secretary Rajneesh Goyal) ने न्यायमूर्ति पाटिल (Justice Patil) की नियुक्ति के संबंध में बुधवार को अधिसूचना जारी की. अधिसूचना में कहा गया है कि चामराजनगर के जिला अस्पताल में तीन मई को कोविड-19 मरीजों की कथित रूप से ऑक्सीजन की कमी या अन्य कारणों से मौत से जुड़े घटनाक्रम एवं परिस्थितियों की जांच के लिए सरकार ने जांच आयोग गठित किया है.

आयोग को एक महीने में अपनी रिपोर्ट पेश करनी होगी:
अधिसूचना में कहा गया है कि चामराजनगर और मैसूर जिलों (Maysore) के उपायुक्तों समेत संबंधित अधिकारियों को स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग को सभी आवश्यक दस्तावेज एवं साक्ष्य तत्काल सौंपने होंगे, जिन्हें जांच आयोग को दिया जाएगा. कर्नाटक उच्च न्यायालय (Karnataka High Court) के आदेश के बाद इस आयोग का गठन किया गया है. अदालत ने चामराजनगर में हुई मरीजों की मौत का गंभीर संज्ञान लिया था और न्यायिक जांच की सिफारिश की थी.

इससे पहले, राज्य सरकार ने IAS अधिकारी शिवयोगी कलसाड (IAS Officer Shivayogi Kalsad) को जांच अधिकारी नियुक्त किया था. स्वास्थ्य मंत्री डॉ. के. सुधाकर (Health Minister Dr. K. Sudhakar) ने कहा था कि ऑक्सीजन की कमी से तीन लोगों की मौत हुई, न कि 24 लोगों की, जबकि विपक्ष ने 28 लोगों की मौत होने का दावा किया है.

और पढ़ें