निर्दलीय विधायक Mahadev Singh Khandela ने किया गहलोत का समर्थन, कहा- इनके अलावा और कोई CM नहीं बन सकता

निर्दलीय विधायक Mahadev Singh Khandela ने किया गहलोत का समर्थन, कहा- इनके अलावा और कोई CM नहीं बन सकता

निर्दलीय विधायक Mahadev Singh Khandela ने किया गहलोत का समर्थन, कहा- इनके अलावा और कोई CM नहीं बन सकता

जयपुर: पिछले कई  दिनों से राजस्थान में सियासी घमासान (Political Turmoil) जारी है. पूर्व डिप्टी CM सचिन पायलट (Former Deputy CM Sachin Pilot) और मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (Chief Minister Ashok Gehlot) के बीच तनातनी चल रही है. ऐसे में सीकर से कांग्रेस से बागी होकर खंडेला विधानसभा से निर्दलीय विधायक बने महादेव सिंह खंडेला गहलोत के पक्ष में सामने आए हैं. उन्होंने साफ कहा कि गहलोत ही कांग्रेस और कांग्रेस ही गहलोत है. उनकी आस्था कांग्रेस और अशोक गहलोत में है. कांग्रेस उनकी मां है. गहलोत के अलावा कोई और CM बन ही नहीं सकता.

राजस्थान में कांग्रेस मतलब अशोक गहलोत: 
खंडेला विधायक महादेव सिंह सीकर के सर्किट हाउस (Circut House) में प्रेसवार्ता कर रहे थे. प्रेसवार्ता में उन्होने कहा कि खंडेला में लोग उन्हें ही कांग्रेस मानते है. वैसे ही राजस्थान में कांग्रेस (Congress) सिर्फ अशोक गहलोत ही है. खंडेला ने कहा कि कांग्रेस मेरी मां है. 1978 में पहली दफा गांव का सरपंच बना. इसके बाद 1979 में इंदिरा गांधी को जेल भेज दिया था. उस समय समर्थन में जेल गया था. इसका सर्टिफिकेट दिखाते हुए कहा कि 1980 में ही कांग्रेस विधायक बनने का मौका मिला. 1985 में फिर से विधायक बना. इसके बाद चुनाव हार गया. बाबरी मस्जिद के कारण मध्यावधि चुनाव हुए. उसमें मेरा टिकट काट लिया, लेकिन स्थानीय लोगों ने मुझे ही कांग्रेस मानते हुए निर्दलीय जिताया. अब जनता के सामने मैं कांग्रेस की छवि धुमिल नहीं होने दूंगा. 

कांग्रेस ने मुझे टिकट नहीं दिया फिर भी पार्टी नहीं छोड़ी:
उन्होने बताया कि 1993 के मध्यावधि विधानसभा चुनाव में हम कुल दस उम्मीदवार थे. सबसे अधिक अकेले को 52 हजार वोट मिले थे. 22 विधायकों में से 17 विधायक भाजपा के समर्थन में चले गए थे. उन्हें मंत्री बनाया गया था. उस समय भी हम 5 विधायक भाजपा में नहीं गए. पार्टी ने 2003 में टिकट दिया चुनाव जीता. 2008 में टिकट दिया फिर हार गया. हारे हुए को पांच महीने के अंदर ही सीकर से लोकसभा से चुनाव लड़ाया. 

2013 में नहीं दिया सांसद का टिकट, फिर भी कोई नाराजगी नहीं:
महादेव सिंह को केंद्र में मनमोहन सरकार (Manmohan Government) में मंत्री बनाया. 2013 में सांसद का टि​कट नहीं दिया, कोई नाराजगी नहीं, MLA का टिकट नहीं दिया कोई नाराजगी नहीं है. खंडेला की जनता मुझे ही कांग्रेस मानती है. महादेव सिंह ने अपने कार्यकालों में हुए विकास कार्य को गिनवाया. CM गहलोत पर पूरा विश्वास है. गांधी परिवार का उन पर विश्वास है. खंडेला के विकास के लिए उनसे मांगा उन्होंने वो दिया. मैंने कभी मंत्री पद के लिए मंशा नहीं रखी.

पार्टी से बगावत कर चुनाव लड़ने पर महादेव सिंह ने कहा कि मैंने बगावत नहीं की, खंडेला की जनता मुझे ही कांग्रेस मानती है. उन्होंने कहा कि आप कैंडीडेट को समर्थन मत करो आप तो चुनाव लड़ो. उनकी बात मानकर ही मैंने चुनाव लड़ा.  

और पढ़ें