गुर्जर आरक्षण पर महापंचायत: किरोड़ी सिंह बैंसला का बयान, या तो सरकार मांगें करें पूरी, नहीं तो 1 नवम्बर को होगा राजस्थान जाम

गुर्जर आरक्षण पर महापंचायत: किरोड़ी सिंह बैंसला का बयान, या तो सरकार मांगें करें पूरी, नहीं तो 1 नवम्बर को होगा राजस्थान जाम

भरतपुर: प्रदेश के भरतपुर जिले के बयाना तहसील के अड्डा पीलूपुरा गांव में आरक्षण की मांग को लेकर शनिवार को गुर्जर महापंचायत आयोजित हुई. हालांकि शांतिपूर्ण तरीके से तो संपन्न हो गई. लेकिन गुर्जर नेता किरोड़ी सिंह बैंसला ने सरकार को अल्टीमेटम दिया है कि आगामी 31 अक्टूबर तक गुर्जर समाज की आरक्षण संबंधी सभी मांगे मान ली जाएं अन्यथा 1 नवंबर से प्रदेश भर में गुर्जर समाज आंदोलन करने को मजबूर हो जाएगा. पंचायत स्थल बयाना के अड्डा पीलूपुरा गांव में दोपहर 12 बजे से गुर्जर समाज के लोगों का जुटना शुरू हो गया था और शाम 4 बजे पंचायत स्थल पहुंचे गुर्जर नेता किरोड़ी सिंह बैंसला ने आंदोलन का अल्टीमेटम देने के साथ हैं पंचायत को समाप्त कर दिया.

मांगों पर सकारात्मक रूप से जल्द ही निर्णय ले सरकार:
गुर्जर नेता कर्नल किरोड़ी सिंह बैंसला ने कहा कि राज्य सरकार गुर्जर समाज की मांगों पर सकारात्मक रूप से जल्दी ही निर्णय ले और आरक्षण के मुद्दे को तत्काल सुलझाने का कार्य करें. महापंचायत से पूर्व राज्य सरकार ने गुर्जर नेता किरोड़ी सिंह बैंसला के पास आईएएस अधिकारी नीरज के पवन को विशेष दूत बना कर वार्ता के लिए भेजा था और आईएएस अधिकारी नीरज के पवन ने हिंडौन सिटी स्थित कर्नल किरोड़ी सिंह बैंसला के आवास पर जाकर कर्नल बैंसला को सरकार की तरफ से वार्ता के लिए न्योता दिया. साथ ही गुर्जरों की मांगें मानने के लिए सरकार का मसौदा बताया.

गुर्जर आंदोलनों में रही नीरज के पवन की अहम भूमिका:
आईएएस अधिकारी नीरज के पवन भरतपुर व करौली जिले के पूर्व में कलेक्टर भी रह चुके हैं साथ ही पूर्व में हुए गुर्जर आंदोलनों में उनकी अहम भूमिका रही है. इधर महापंचायत को लेकर जिला प्रशासन भी पूरी तरह से अलर्ट नजर आया था और बयाना इलाका पुलिस छावनी में तब्दील नजर आया. बयाना-हिंडौन रोड पर जगह-जगह पुलिस के जवान तैनात किए गए थे. जिला कलेक्टर नथमल डिडेल और एसपी डॉक्टर अमनदीप सिंह कपूर ने फर्स्ट इंडिया न्यूज़ को बताया कि बयाना इलाके में सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए है और लगभग ढाई हजार पुलिसकर्मी इस दौरान चप्पे-चप्पे पर तैनात किए गए है.

आरपीएस और आरएएस अधिकारियों को भेजा बयाना:
महापंचायत को लेकर राज्य सरकार ने कई आरपीएस और आरएएस अधिकारियों को भी विशेष ड्यूटी करने के लिए बयाना भेजा है. संभागीय आयुक्त प्रेमचंद बेरवाल, जिला कलेक्टर नथमल डिडेल, एसपी डॉक्टर अमनदीप सिंह कपूर सहित अन्य अधिकारियों ने भी महापंचायत पर पूरी नजर बना रखी थी. महापंचायत को देखते हुए आरपीएफ ने भी मोर्चा संभाल रखा था और दिल्ली-मुंबई रेलवे ट्रैक पर कई जगह आरपीएफ के जवान मुस्तैद दिखाई दिए. फिलहाल महापंचायत शांतिपूर्ण तरीके से समाप्त होने के बाद जिला प्रशासन में राहत की सांस ली है.

...फर्स्ट इंडिया के लिए दीपक लवानिया की रिपोर्ट

और पढ़ें