Live News »

VIDEO: सरकार की पहली वर्षगांठ पर किसान सम्मेलन, एक हजार करोड़ का कृषक कल्याण कोष गठित

VIDEO: सरकार की पहली वर्षगांठ पर किसान सम्मेलन, एक हजार करोड़ का कृषक कल्याण कोष गठित

जयपुर: गहलोत सरकार का एक साल पूरा होने के उपलक्ष आज जयपुर के विद्याधर नगर स्टेडियम में किसान सम्मेलन का आयोजन किया गया, जिसमें प्रदेश के कोने-कोने से आए हजारों किसानों, पशुपालकों एवं खेतीहर मजदूरों ने बेमिसाल एक साल का जश्न मनाया. इस मौके पर मुख्यमंत्री गहलोत ने किसानो को कई सौगातें दी. मुख्यमंत्री ने एक हजार करोड़ के ‘किसान कल्याण कोष‘ का शुभारम्भ किया और ‘राजस्थान कृषि प्रसंस्करण, कृषि व्यवसाय एवं कृषि निर्यात प्रोत्साहन नीति-2019’ जारी की. प्रदेश के किसानों को खेती की आधुनिकतम तकनीक से जोड़ने के लिए उन्होंने ‘कृषि ज्ञान धारा कार्यक्रम‘ की शुरूआत की.

सादगीपूर्ण तरीके से मनाया जश्न:
मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने अपनी मौजूदा सरकार का एक साल पूरा होने जश्न सादगीपूर्ण तरीके से मनाया. सुबह अल्बर्ट हॉल में रन फॉर निरोगी राजस्थान और जेकेके में दो दिवसीय प्रदर्शनी के आगाज के बाद मुख्यमंत्री ने किसानों के बीच अपनी सरकार का एक साल पूरे होने का जश्न मनाया. हजारों धरतीपुत्रों की मौजूदगी में सीएम गहलोत ने अपनी सरकार का एक साल का हिसाब दिया और भविष्य में जनता के लिए किए जाने वाले कार्यों का ब्लू प्रिंट सामने रखा. इस मौके पर मुख्यमंत्री गहलोत ने कहा कि सरकार बनते ही पहला फैसला हमने किसानों की कर्ज माफी के रूप में किया. हमने यह भी फैसला किया कि बिजली के बढ़े हुए दामों का भार पांच साल तक किसानों को नहीं उठाना पड़े. राज्य सरकार इसके लिए 12 हजार करोड़ रूपए की सब्सिडी दे रही है. 

बिजली के दाम बढ़ने की स्थिति में 2300 करोड़ वहन करेगी सरकार:
उन्होंने कहा कि आने वाले समय में बिजली के दाम बढ़ने की स्थिति में किसानों पर आने वाले 2300 करोड़ रूपए के भार को भी हमारी सरकार वहन करेगी. किसानों को इस संबंध में किसी तरह की चिंता करने की आवश्यकता नहीं है. मुख्यमंत्री ने कहा कि हमारी सरकार ने एक ऐतिहासिक फैसला लिया, जिसके तहत राज्य में फूड प्रोसेसिंग इकाई लगाने वाले किसानों को 10 हैक्टेयर भूमि तक लैण्ड यूज चेंज कराने की आवश्यकता नहीं होती है. काश्तकारों को उनकी उपज का पूरा दाम देने के लिए मूंग और मूंगफली की न्यूनतम समर्थन मूल्य पर खरीद के साथ ही हमारी सरकार हर संभव प्रयास कर रही है, जिससे किसानों को खाद एवं बीज लेने में कोई परेशानी न आए. जैविक खेती, बीज उत्पादन, एग्री प्रोसेसिंग, पैकेजिंग और कृषि उत्पादों के निर्यात को बढ़ावा देने के लिए किसानों को प्रोत्साहित किया जा रहा है. 

गांवों के विकास का मास्टर प्लान:
किसान सम्मेलन में मुख्यमंत्री ने स्पष्ट किया कि गांवों के विकास का मास्टर प्लान भी तैयार हो रहा है, जिसमें स्कूल, अस्पताल, पार्क जैसी स्थानीय आवश्यकताओं का आकलन कर पहले से ही जमीन चिन्हित कर ली जाए. गहलोत ने कहा कि भूमि विकास बैंक में समय पर लोन चुकाने वाले किसानों को ब्याज में पांच प्रतिशत की छूट मिलेगी. उन्होंने कहा कि हाल ही में हुई ओलावृष्टि के कारण हुई क्षति का आकलन करने के लिए अधिकारियों को निर्देश दे दिए गए हैं. उन्होंने प्रदेश को रोग मुक्त बनाने की दिशा में ‘निरोगी राजस्थान‘, मुख्यमंत्री निःशुल्क दवा योजना, प्रदेश के सभी जिलों में मेडिकल काॅलेज खोलने के लिए राज्य सरकार द्वारा किए जा रहे प्रयासों, सामाजिक सुरक्षा योजना के तहत पेंशन राशि की बढ़ोतरी जैसे राज्य सरकार के कल्याणकारी कदमों का भी उल्लेख किया. 

योजनाओं के तहत लाभार्थी किसानों को चैक:
इस मौके पर गहलोत ने कृषि एवं उद्यानिकी विभाग की विभिन्न योजनाओं के तहत लाभार्थी किसानों को चैक प्रदान किए. उन्होंने विभिन्न विभागों एवं संस्थाओं के माध्यम से लगाई गई प्रदर्शनी का भी अवलोकन किया और किसानों द्वारा किए जा रहे नवाचारों की सराहना की.  कार्यक्रम में सचिन पायलट, शांति धारीवाल व प्रमोद जैन भाया को छोड़कर मंत्री परिषद के सभी सदस्य मौजूद रहे. साथ ही विधायक, जिला प्रमुख एवं अन्य जनप्रतिनिधि, अधिकारी सहित बड़ी संख्या में आमजन, युवा एवं महिलाएं भी उपस्थित थे. सम्मेलन में कृषि मंत्री लालचंद कटारिया ने कहा कि राज्य सरकार ने ग्राम सेवा सहकारी संस्थाओं के माध्यम से किसानों को प्रमाणित बीज का वितरण सुनिश्चित किया है. अगले सीजन से मूंगफली का बीज उपलब्ध कराया जाएगा. उन्होंने कहा कि जैविक खेती पर हमारी सरकार जोर दे रही है. राजस्थान का किसान एवं पशुपालक खुशहाल हो, इस सोच के साथ सरकार काम कर रही है. सहकारिता मंत्री उदयलाल आंजना ने कहा कि आधार आधारित सत्यापन से हमारी सरकार ने यह सुनिश्चित किया है कि ऋण माफी का लाभ पात्र किसानों को मिले. साथ ही ऋण वितरण में भी पारदर्शिता सुनिश्चित की गई है. उन्होंने कहा कि आने वाले साल में सहकारी संस्थाओं के चुनाव करा लिए जाएंगे.

'बेटी बचाओ व घूंघट हटाओ' का नारा:
इस कार्यक्रम में मुख्य सचिव डीबी गुप्ता ने कहा कि कृषक कल्याण कोष के गठन तथा नई कृषि प्रसंस्करण नीति से जीरो बजट फार्मिंग को बल मिलेगा. उन्होंने कहा कि फसल बीमा योजना का समुचित लाभ किसानों को मिले, इसके लिए सरकार प्रत्यनशील है. किसानों के हित की बात करने के साथ ही मुख्यमंत्री गहलोत ने सामाजिक बुराईयों को दूर करने का भी आह्वान किया. गहलोत ने बेटी बचाओ व घूंघट हटाओ का नारा दिया. उन्होंने कहा कि महिलाओं के मान सम्मान से ही देश, राज्य व समाज का भला हो सकता है. मुख्यमंत्री गहलोत ने भले ही सादगीपूर्ण तरीके से अपनी सरकार की पहली वर्षगांठ मनाई हो लेकिन किसान सम्मेलन में हजारों किसानों, अधिकांश विधायकों व मंत्रियों की मौजूदगी से अपनी ताकत का अहसास करा दिया. 

... संवाददाता योगेश शर्मा के साथ नरेश शर्मा की रिपोर्ट 

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें
और पढ़ें

Stories You May be Interested in