नई दिल्ली क्या इस बार खिताब पाने का अपना लंबा इंतजार खत्म कर पाएगी कोहली की आरसीबी

क्या इस बार खिताब पाने का अपना लंबा इंतजार खत्म कर पाएगी कोहली की आरसीबी

क्या इस बार खिताब पाने का अपना लंबा इंतजार खत्म कर पाएगी कोहली की आरसीबी

नई दिल्लीः कई शीर्ष खिलाड़ियों की मौजूदगी के बावजूद अब तक खिताब से वंचित रही रॉयल चैलेंजर्स बेंगलोर (आरसीबी) की टीम कुछ नए खिलाड़ियों के जुड़ने से आवश्यक संतुलन स्थापित करके आगामी इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) में चैंपियन बनने का लंबा इंतजार खत्म करना चाहेगी.

इस सत्र में आरसीबी ने अपनी बल्लेबाजी और गेंदबाजी को मजबूत करने पर दिया ध्यानः
विराट कोहली की अगुवाई वाली टीम में एबी डिविलियर्स जैसा दिग्गज बल्लेबाज भी है लेकिन टीम इन दोनों पर जरूरत से ज्यादा निर्भर रही और ऐसे में टीम कभी संतुलन स्थापित नहीं कर पाई. अब ऑस्ट्रेलियाई ऑलराउंडर ग्लेन मैक्सवेल और न्यूजीलैंड के तेज गेंदबाज काइल जैमीसन जैसे खिलाड़ियों के जुड़ने से टीम आवश्यक संतुलन स्थापित करने की स्थिति में दिख रही है. पिछली बार यूएई में आरसीबी ने अच्छी शुरुआत की थी लेकिन आखिर में उसकी लय गड़बड़ा गई और लगातार पांच मैच गंवाने से एलिमिनिटेर में बाहर हो गई थी. इस बार टीम प्रबंधन ने नीलामी से पहले 10 खिलाड़ियों को ‘रिलीज’ करके अपनी बल्लेबाजी और गेंदबाजी को मजबूत करने पर ध्यान दिया है.
 
मध्यक्रम की जिम्मेदारी डिविलियर्स और मैक्सवेल परः
आरसीबी की बल्लेबाजी काफी मजबूत नजर आती है. रन मशीन कोहली का आईपीएल में शानदार रिकॉर्ड रहा है. कोहली पहले ही स्पष्ट कर चुके हैं कि वह पारी की शुरुआत करेंगे. उनके साथ दूसरे छोर पर देवदत्त पडिक्कल होंगे जिन्होंने पिछले सत्र में शानदार प्रदर्शन किया था और अभी बेहतरीन फार्म में चल रहे हैं. शीर्ष क्रम में युवा विकेटकीपर बल्लेबाज मोहम्मद अजहरूद्दीन और न्यूजीलैंड के फिन एलेन तेजी से रन बनाने में सक्षम हैं जबकि डिविलियर्स और मैक्सवेल जैसे अनुभवी खिलाड़ी मध्यक्रम को संभालेंगे. सचिन बेबी, डेनियल क्रिस्टियन और वाशिंगटन सुंदर उनकी बल्लेबाजी को मजबूती प्रदान करते हैं.

स्पिन विभाग आरसीबी का मजबूत पक्षः
आरसीबी का मजबूत पक्ष उसका स्पिन विभाग भी है. उसे अपने अधिकतर मैच चेन्नई और अहमदाबाद के स्पिनरों के लिए मददगार विकेट पर खेलने हैं और ऐसे में आईपीएल में हमेशा सफल रहने वाले युजवेंद्र चहल उसके लिए तुरुप का इक्का होंगे. वाशिंगटन सुंदर पिछली बार की तरफ फिर से पावरप्ले में जिम्मेदारी संभाल सकते हैं. मैक्सवेल स्पिन विभाग में एक अच्छा विकल्प हैं जबकि जरूरत पड़ने पर एडम जंपा को अंतिम एकादश में शामिल कया जा सकता है.

आरसीबी का तेज गेंदबाज खेमा कमजोरः
जैमीसन के टीम से जुड़ने के बावजूद आरसीबी का तेज गेंदबाज विभाग कमजोर नजर आता है. नवदीप सैनी और मोहम्मद सिराज को सफेद गेंद से गेंदबाजी का कम अनुभव है और वे अक्सर रन लुटा देते हैं. जैमीसन भी टी20 में संघर्ष करते रहे हैं और उन्हें भारत में खेलने का अनुभव नहीं है. तेज गेंदबाजी विभाग में हर्षल पटेल तथा आस्ट्रेलियाई तिकड़ी क्रिस्टियन, डेनियल सैम्स और केन रिचर्डसन अन्य विकल्प हैं. ऐसी स्थिति में आरसीबी के बल्लेबाजों को अधिक जिम्मेदारी उठानी होगी. उसके पास डिविलियर्स और मैक्सवेल जैसे ‘बिग हिटर’ हैं. मैक्सवेल की फार्म पर सभी की निगाह टिकी रहेगी. यदि वह कोहली और डिविलियर्स के साथ मिलकर अपना पूरा योगदान देते हैं तो यह तिकड़ी किसी भी टीम के लिए सबसे बड़ा खतरा बन जाएगी.
सोर्स भाषा

और पढ़ें