कोटा ACB की बड़ी कार्रवाई, लाखेरी पुलिस उपाधीक्षक ओमप्रकाश रिश्वत लेते गिरफ्तार

Navin Sharma Published Date 2019/06/07 09:28

जयपुर: राजस्थान के बूंदी जिले के लाखेरी  पुलिस डीएसपी ओमप्रकश चांदोलिया ने खाकी को एक बार फिर दागदार किया है. अब घूसखोरी के खिलाफ राजस्थान एसीबी इन दिनों फुल एक्शन में है. एसीबी डीजी आलोक त्रिपाठी के निर्देशन में कोटा एसीबी टीम ने बूंदी के लाखेरी में बड़ी कार्रवाई करते हुए लाखेरी के डीएसपी ओमप्रकाश चांदोलिया को 24000 की घूस लेते हुए रंगे हाथों गिरफ्तार किया है. 

एसीबी के एडिशनल एसपी चंद्र शील ठाकुर ने बताया कि परिवादी जोगेंद्र सिंह ने शिकायत की थी कि लाखेरी डीएसपी ओमप्रकाश चंदेलिया शराब की दुकान संचालित करने की एवज में 15000 की मासिक बंदी की मांग कर रहा है. और रिश्वत नहीं देने पर झूठा मुकदमा बनाकर व शराब दुकान बंद करने की धमकी दे रहा है. 

एसीबी ने इस शिकायत का सत्यापन कराया और सत्यापन के दौरान डीएसपी ओमप्रकाश चांदोलिया ने 6000 ले लिए. जिसके बाद गुरुवार को एसीबी ने बड़ी कार्रवाई करते हुए जो ओमप्रकाश चंदोलिया को 24000 रूपये अप्रेल, मई और जून की मासिक बंधी घूस लेते हुए रंगे हाथों गिरफ्तार कर लिया है. वहीं जब एसीबी ने आरोपी के घर की तलाशी ली तो घर की तलाशी में एसीबी को शराब की बोतलों का जखीरा मिला है. बड़ी संख्या में शराब की बोतलें मिली है. एसीबी ने मौके पर आबकारी विभाग के अधिकारियों को बुलाया मौके पर पहुंचकर आबकारी विभाग के अधिकारियों शराब जब्त कर कार्रवाई की.  

शराब का भी शौकीन था डीएसपी ओमप्रकाश चांदोलिया 
जब एसीबी ने आरोपी के सरकारी आवास की तलाशी ली तो...... एसीबी को महंगी अंग्रेजी शराब की बोतलें मिली. जिस तरह से आरोपी के पास से बड़ी मात्रा में अंग्रेजी शराब की बोतले मिली हैं. उस तरह से एसीबी सूत्र बता रहे हैं. डीएसपी ओमप्रकाश चांदोलिया महंगी अंग्रेजी शराब पीने का भी शौकीन था.

एसीबी ने आरोपी के कई ठिकानो पर की छापेमारी-- 
एसीबी ने बूंदी में छापेमारी के साथ ही आरोपी के कई ठिकानो पर कार्रवाई की जिसमे जयपुर में एसीबी ने टोंक फाटक स्थित अंबेडकर नगर में कार्यवाही करते हुए घूसखोर डीएसपी ओमप्रकाश के घर की तलाशी ली. जयपुर एसीबी के एडिशनल एसपी देशराज यादव ने बताया की तलाशी में एसीबी को करीब  32 लाख की 4 दुकाने फागी में होने के कागजात मिले हैं. वहीं एसीबी ने मौके से कुछ महत्वपूर्ण दस्तावेज भी जब्त किये हैं. 

रिश्वत दोगे तो ही शराब की दुकान खोलने दूंगा. परिवादी को इस तरह दी जाती थी धमकी....
रिश्वत दोगे जब भी जब ही दुकान खुलेगी नहीं तो दुकान को करवा दूंगा बंद ....यह हम नहीं कह रहे यह कहता था परिवादी और शराब के ठेकेदारों से डीएसपी ओम प्रकाश....ओमप्रकाश शराब ठेकेदारों को धमकाकर कहता था कि मुझे आप मासिक बंधी दीजिए नहीं तो मैं आप की दुकानों को बंद करवा दूंगा और इस खौफ से परेशान होकर शराब दुकानदार मासिक बंदी दिया करते थे. 

कोटा स्थित आवास की तलाशी में एसीबी को करीब एक लाख 16 हज़ार की नकदी मिली है. अब ऐसे में एसीबी को शक है कि यह राशि भी रिश्वत की ही है. एसीबी ने आरोपी के कोटा स्थित सरकारी आवास से कुछ फाइलों को भी जब किया है. वहीं सूत्रों की मानें तो अब एसीबी इस पूरे मामले की जांच कर रही है कि यह कब से घूसखोरी का खेल खेल रहा था और संभवत इस पूरे खेल में कई लोगों के भी नाम सामने आ रहे हैं. अब एसीबी धीरे-धीरे उन सभी लोगों तक पहुंचेगी और हो सकता है कि अगले 1 या 2 दिन में ACB इस पूरे प्रकरण को लेकर बड़ा खुलासा कर दें. 

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in