कोटा Kota: देवा गुर्जर की हत्या के बाद हाईवे पर उत्पात का मामला, 30 से अधिक लोगों के खिलाफ किया मामला दर्ज

Kota: देवा गुर्जर की हत्या के बाद हाईवे पर उत्पात का मामला, 30 से अधिक लोगों के खिलाफ किया मामला दर्ज

कोटा: हाड़ौती के हाई प्रोफाइल डॉन देवा गुर्जर उर्फ देवा डॉन की कल हुयी निर्मम हत्या के बाद हाईवे पर उत्पाद करने के मामले में 30 से अधिक लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है. आरके पुरम थाना पुलिस ने मारपीट, तोड़फोड़ और बस में आग लगाने पर मामला दर्ज किया है. कल उग्र भीड़ ने वाहनों में तोड़फोड़ कर बस को आग के हवाले किया था. 

इससे पहले मंगलवार को कोटा-रावतभाटा रोड़ के गुर्जर बहुल गांवों से लेकर एमबीएस अस्पताल कोटा की मोर्चरी तक दिनभर हंगामे होते रहे. बोराबास में मृतक देवा के साथी ग्रामीणों ने बसों को फूंका-टायर जलाये और पत्थर डालकर रोड़  जाम कर दिये तो वहीं पंचनामे की प्रक्रिया के दौरान देवा समर्थकों ने पुलिस पर पत्थरबाजी तक कर डाली. जिसमें कई पुलिसकर्मी-अधिकारी और पत्रकार घायल होते-होते बचे और भीड़ को काबू में करने के लिये पुलिस को कभी लाठियां भांजनी पड़ी तो कभी बड़े-बुजुर्गों से समझाइश करनी पड़ी. 

आगजनी-पत्थरबाजी-जाम और लाठीचॉर्ज:
चित्तौड़गढ़ के रावतभाटा में हुयी देवा डॉन की निर्मम हत्या की कोटा-रावतभाटा रोड़ से लेकर एमबीएस अस्पताल कोटा की मोर्चरी तक मंगलवार को दिनभर ऐसी ही उग्र और हिंसक प्रतिक्रियाएं देखने को मिले. कोटा के बोराबास गांव के रहने वाले देवा गुर्जर के पैतृक गांव के लोगों ने आज सवेरे ही रोड़ जाम से लेकर टायर फूंक प्रदर्शन और हंगामे तो जारी रखे ही लेकिन देर सवेरे जब प्रदर्शनकारी ग्रामीणों ने बसें फूंकी तो पुलिस के हाथ-पांव फूल गये. आनन-फानन में 3 एएसपी, कई डिप्टी एसपी और सीआई को साथ लेकर भारी जाप्ते के साथ गांवों में पहुंचे तो समानान्तर ही एक बड़ा बवाल एमबीएस अस्पताल कोटा की मोर्चरी पर पंचनामे की प्रक्रिया के दौरान हो गया. जहां कोटा के अलावा आसपास और दूर के भी कई जिलों से जुटे देवा समर्थकों ने पुलिस पर पत्थरबाजी कर डाली. इस दौरान कई अधिकारी और पत्रकार घायल होते-होते बचे तो पुलिस को भी लाठियां भांजनी पड़ी. पंचनामे के दौरान जैसे ही देवा की बॉडी को एक्स-रे के लिये एम्बुलेन्स में रखा गया. पत्थरबाजी शुरु हो गयी थी. इस दौरान परिजन और समर्थक देवा के निर्मम मर्डर पर पुलिस-प्रशासन को कटघरे में खड़ा करके जमकर भड़ास निकालते रहे.

देवा की 2 पत्नियों और 09 बच्चों वाली लाइफ हमेशा सुर्खियों में रही:
कोटा के बोराबास का रहने वाला देवा गुर्जर एक ग्लैमरस डॉन था. जिसकी  2 पत्नियों और 09 बच्चों वाली लाइफ हमेशा सुर्खियों में रही. हर छोटी-मोटी बात और जीवन की हर घटना  का वीडियो बनाकर सोशल मीडिया पर अपलोड करना और हर समय कैमरामेन को साथ रखना उसकी खास आदतों में था. केवल इंस्टाग्राम पर ही उसके हजारों फॉलोअर थे. देवा खुद आपराधिक पृष्ठभूमि वाला युवक था. जिसकी कोटा के आरकेपुरम थाने में हिस्ट्रीशीट खुली थी और पेशे से रावतभाटा प्लांट में ठेकेदारी कार्य के दौरान उसके लफड़े-झगड़े भी लगे रहते थे और इसी दौरान आपसी रंजिश में कल रावतभाटा में गणेशमंदिर के पास एक सैलून की दुकान में घुसकर चाकू-डंडो-लाठियों और पिस्तौल से लैस करीब एक दर्जन बदमाशों ने इस डॉन को मौत के घाट उतार डाला, जो उसकी ही जाति के बताये जा रहे हैं. आज पंचनामे की प्रक्रिया के दौरान भी कोटा में उसके समर्थक जमकर भड़ास निकालते रहे और एसपी सिटी केसरसिंह शेखावत को हालातों को संभालने के लिये भारी पुलिसदल तैनात करके खुद मोर्चा संभालना पड़ा और कई बार समर्थकों से पुलिस की तीखी भिड़ंत होती रही.

अंतिम संस्कार के दौरान पुलिस को खासे इन्तजाम करने पड़े:
बहरहाल देवा डॉन के पंचनामे के बाद भी अंतिम संस्कार के दौरान बोराबास में भारी जमावड़े की आशंका में पुलिस को खासे इन्तजाम करने पड़े और कोटा से बोराबास के रास्ते के गुर्जर बहुल गांवों में एम्बुलेन्स से उतारकर शव को सड़क पर रखकर प्रदर्शन करने की आशंका में शव भी भारी पुलिस सुरक्षा में बोराबास ले जाया गया. बाद में समाज के लोगों के साथ वार्ता में 5 लाख की सरकारी मदद और 1 परिजन को नौकरी के लिये सरकार को प्रस्ताव भेजने और रावतभाटा सीआई को हटाने के साथ ही जांच कोटा पुलिस से कराने और हत्यारों की तुरंत धरपकड़ के आश्वासन पर ही जाकर अंतिम संस्कार पर सहमति बनी.

और पढ़ें