कोटा Kota: तेज बारिश के चलते हाड़ौती की नदियां उफान पर, राजस्थान और मध्य प्रदेश का संपर्क कटा

Kota: तेज बारिश के चलते हाड़ौती की नदियां उफान पर, राजस्थान और मध्य प्रदेश का संपर्क कटा

Kota: तेज बारिश के चलते हाड़ौती की नदियां उफान पर, राजस्थान और मध्य प्रदेश का संपर्क कटा

इटावा(कोटा): हाड़ौती क्षेत्र से निकलने वाली नदियों का विकराल रूप देखने को मिल रहा है. जहाँ मध्यप्रदेश में हो रही बारिश के चलते हाड़ौती (Hadoti) की 3 प्रमुख नदियों पर इसका असर देखने को मिल रहा है. जिसके चलते चम्बल, कालीसिंध, पार्वती नदियों में उफान देखने को मिला है. कोटा जिले के इटावा (Etawah) उपखंड क्षेत्र के खातोली के पास से निकल रही पार्वती नदी (Parwati River) में आज शुक्रवार अलसुबह करीब 3 बजे अचानक पुलिया पर पानी आने के चलते नदी में एक बार फिर उफान आ गया और नदी में पानी की चादर चलने के साथ ही राजस्थान और मध्य प्रदेश का संपर्क कट गया. 

जिससे स्टेट हाईवे 70 कोटा श्योपुर राजमार्ग भी अवरुद्ध हो गया. मध्य प्रदेश में लगातार हो रही बारिश का असर इस नदी पर देखने को मिला है और मध्य प्रदेश में बारिश के चलते राजस्थान के खातोली के पास से निकल रही इस पार्वती नदी में उफान आ गया है नदी की पुलिया पर करीब 7 फीट पानी की चादर चल रही है और लगातार पानी का जलस्तर बढ़ता हुआ दिखाई दे रहा है. वहीं नदी की पुलिया पर पानी आने के साथ ही खातोली थाने का जाब्ता थाना अधिकारी रामस्वरूप राठौड़ के नेतृत्व में मौके पर पहुंचा है और किसी भी तरह के वाहनों की आवाजाही पर पूर्ण रूप से रोक लगाकर पुलिस जाब्ता तैनात किया गया है. 

थानाधिकारी रामस्वरूप राठौर ने बताया कि वाहनों का आवागमन बंद करवाया गया है. साथ ही नदी का जलस्तर बढ़ने के चलते लोगों से नदी के किनारों पर नहीं जाने की अपील की है. वहीं कैथूदा के पास से निकल रही चम्बल नदी की झरेर पुलिया पर लगातार पानी की आवक बनी हुई है. नदी की पुलिया पर करीब 12 फिट पानी की चादर चल रही है. जिसके कारण पिछले 41 दिनों से इटावा-खातोली-सवाईमाधोपुर-मथुरा मार्ग अवरुद्ध है. जिसके चलते वाहन चालकों को खासी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है. राजस्थान और मध्यप्रदेश को जोड़ने वाली इस पार्वती नदी की पुलिया पर आज अलसुबह पानी आ गया. जिसके चलते राजमार्ग अवरुद्ध हो गया है.

इस मानसून सत्र में 7वीं बार पानी आने से राजमार्ग 70 कोटा श्योपुर मार्ग अवरुद्ध हुआ है. इटावा उपखंड क्षेत्र को कोटा जिला मुख्यालय से जोड़ने वाली ढिबरी की कालीसिंध नदी में इस मानसून सत्र में पहली बार उफान देखने को मिला है. जहाँ झालावाड़ के कालीसिंध डेम से पानी की निकासी के साथ ढिबरी की कालीसिंध नदी में उफान आया है और नदी की पुलिया पर करीब 8 फिट पानी की चादर चल रही है. साथ ही पानी का जलस्तर तेजी के साथ बढ़ रहा है. जिसके चलते इटावा उपखंड क्षेत्र का जिला मुख्यालय से संपर्क कटा हुआ है. वहीं स्टेट हाइवे 70 कोटा इटावा राजमार्ग अवरुद्ध है. साथ ही इस नदी ने स्टेट हाइवे 37A बारां-नेनवा-दूदू मार्ग की भी राह रोक दी है.

पुलिया पर करीब 4 फिट पानी की चादर चल रही:

वहीं मंडावरा के पास से निकल रही चम्बल नदी की पुलिया पर करीब 4 फिट पानी की चादर चल रही है. जिसके चलते मंडावरा रोटेदा मार्ग अवरुद्ध हो रहा है. वहीं हाड़ौती में लगातार बारिश का भी दौर जारी है. जिससे जनजीवन भी प्रभावित हुआ है. कालीसिंध नदी में उफान आने के साथ ही नदी के किनारे पर बसा नोनेरा पंचायत का नारायणपुरा गांव टापू में तब्दील हो गया है और इस गाँव के मार्ग पर कालीसिंध नदी का पानी आने के साथ ही गांव का पंचायत मुख्यालय के साथ उपखंड क्षेत्र से संपर्क कट गया है और गांव टापू में तब्दील हो गया.

और पढ़ें