Kota: कोरोना के खिलाफ जंग जारी, कोटा रेल मंडल ने बनाया 22 कोच का आइसोलेशन वार्ड

Kota: कोरोना के खिलाफ जंग जारी, कोटा रेल मंडल ने बनाया 22 कोच का आइसोलेशन वार्ड

कोटा: लगातार बढ़ रही कोरोना रोगियों की संख्या को देखते हुए कोटा रेल मंडल ने आपातकाल के लिए 22 कोच की पैसेंजर ट्रेन को आइसोलेशन वार्ड में तब्दील कर दिया है. इसके अलावा दो अतिरिक्त कोच भी आइसोलेशन वार्ड में तब्दील किए गए हैं. कोरोना रोगियों की संख्या में हर दिन इजाफा हो रहा है जिसके कारण सरकार ने अस्पतालों के अलावा कई इमारतों में आइसोलेशन वार्ड बनाए हैं. ऐसे में आपातकालीन स्थिति से निपटने के लिए रेलवे भी अपनी तरफ से तैयारी पूरी कर रहा हैं. 

कोटा रेल मंडल ने एक ट्रेन के 22 कोच को आइसोलेशन वार्ड बनाया है ताकि जरूरत पड़ने पर इन कोचों में कोरोना मरीजों को भर्ती कर इलाज किया जा सके. ट्रेन के इस आइसोलेशन वार्ड के प्रत्येक कोच में 8 मरीजों के रुकने की व्यवस्था होगी. कोच के केबिन में पैरामेडिकल स्टाफ के साथ ऑक्सीजन की पूरी व्यवस्था रहेगी. कोच में टॉयलेट है उसको वॉइस रूप में तब्दील किया जा रहा है, जिससे किसी भी मरीज को परेशानी ना हो. ट्रेन के कोच में बने वार्ड में सारी व्यवस्था और सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए हैं. इन 22 कोच में बनाए गए आइसोलेशन वार्ड का ट्रायल हो चुका है और जो कमियां अब इसमें बची है उनको पूरा करने में रेल मंडल जुड़ा हुआ है. 

गंभीर रोगियों को अस्पताल में ही इलाज करवाना होगा:
रेलवे अधिकारियों के मुताबिक खाने और इलाज का इंतजाम राज्य सरकार की ओर से किया जाएगा. ट्रेन के कोच में बनाया गया आइसोलेशन वार्ड अति-गंभीर रोगियों के लिए नहीं है. अति-गंभीर रोगियों को अस्पताल में ही इलाज करवाना होगा. व्यवस्थाएं पूरी होने के बाद इस ट्रेन के आइसोलेशन वार्ड को प्लेटफार्म नंबर चार पर स्थापित किया जाएगा.

और पढ़ें