प्रार्थना सभा: अटल जी की आत्मा की शांति के लिए की गई प्रार्थना

FirstIndia Correspondent Published Date 2018/08/20 05:12

नई दिल्ली। पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी को श्रद्धांजलि और उनकी आत्मा की शांति के लिए सोमवार शाम 4 से 6 बजे के बीच इंदिरा गांधी इंडोर स्टेडियम में सार्वजनिक, सर्वदलीय प्रार्थना सभा का आयोजन किया गया है। इस सभा में भाजपा के तमाम बड़े नेता शामिल हुए हैं और इनके अलावा विभिन्न क्षेत्रों की गणमान्य हस्तियां मौजूद हैं। साथ ही आम लोग भी इसमें वाजपेयी की आत्मा की शांति के लिए प्रार्थना कर सकेंगे। 

लंबी बीमारी के बाद अटल बिहारी वाजपेयी का बीते 16 अगस्त को दिल्ली के एम्स अस्पताल में निधन हो गया था। इसके बाद केंद्र सरकार ने 7 दिन के राष्ट्रीय शोक का ऐलान किया है। 

  • 2018/08/20 06:31

    जम्मू-कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने कहा कि वह एक महान इंसान थे लेकिन जम्मू-कश्मीर के लोगों के लिए वह एक मसीहा से कम नहीं थे। वह पहले भारतीय नेता थे जिन्होंने जम्मू-कश्मीर के लोगों पर भरोसा किया और जिन पर लोगों ने भरोसा किया।

  • 2018/08/20 06:29

    योग गुरु बाबा रामदेव ने कहा कि जब तक वे जीवित थे तब तक उन्होंने भारत माता को गर्व महसूस करवाया और उन्होंने इस तरह का एक उदाहरण स्थापित किया है कि उन्हें आने वाले युगों में याद किया जाएगा।

  • 2018/08/20 06:24

    जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री फारूक अब्दुल्ला ने कहा कि वो वज़ीर-ए-आज़म नहीं हिंदुस्तान के दिलों के मालिक थे। उनका दिल बड़ा था। उनके जैसा दिल किसी का नहीं था।

  • 2018/08/20 05:56

    आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत ने कहा कि अटल जी के शब्दों और उनके जीवन को जिसने भी नज़दीकी से देखा या उसे दूर से देखा, उन्हें एक जैसा पाया और उसे विश्वास किया। साथ ही कहा कि भाजपा आज फलदायी है, उसे सींचकर बड़ा करने वाले महान हैं।

  • 2018/08/20 05:49

    राजनाथ सिंह ने कहा कि पीएम बनने के बाद अटल जी सबको साथ लेकर चले। अटल जी को जानने वाला हर व्यक्ति उनसे प्रभावित है।

  • 2018/08/20 05:48

    अटल जी को याद करते हुए राजनाथ ने कहा कि पंडित नेहरू ने 35 साल के अटल में भावी प्रधानमंत्री देख लिया था।

  • 2018/08/20 05:34

    गुलाम नबी आजाद ने कहा कि अटल जी कड़वी बातें भी अच्छी लगती थी।

  • 2018/08/20 05:29

    प्रार्थना सभा में पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि 11 मई को परमाणु परीक्षण अटल जी की दृढ़ता की वजह से हुआ। उसके बाद दुनिया ने भारत पर प्रतिबंध लगा दिया, लेकिन ये अटल थे जो 11 मई को परीक्षण के बाद 13 मई को एक बार फिर दुनिया को चुनौती देते हुए भारत की ताकत का अहसास कराया।

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in