पटना बिहार में 10 लाख फिरौती देने के बाद भी LJP नेता की हत्या, 4 दिन बाद मिला अनिल उरांव का शव

बिहार में 10 लाख फिरौती देने के बाद भी LJP नेता की हत्या, 4 दिन बाद मिला अनिल उरांव का शव

बिहार में 10 लाख फिरौती देने के बाद भी LJP नेता की हत्या, 4 दिन बाद मिला अनिल उरांव का शव

पटना: बिहार के पूर्णिया में लोक जनशक्ति पार्टी LJP (Lok Janshakti Party) के नेता का गुरुवार को अपहरण कर लिया गया था. चार दिन के बाद यानी रविवार को पुलिस ने कृत्यानंद नगर थाना (Kratyanand Nagar Police Station) क्षेत्र के डंबराहा गांव से नेता का शव बरामद किया है. मीडिया रिपोर्ट्स (Media Reports) के अनुसार पुलिस ने लाश का पंचनामा भरकर पोस्टमार्टम (Post Martam) के लिए भेज दिया है. 

29 अप्रैल को हुआ था अनिल उरांव का अपहरण:
बताया जा रहा है कि लोक जनशक्ति पार्टी के नेता अनिल उरांव (Anil Oraons) का 29 अप्रैल को अपहरण कर लिया था. तत्पश्चात उरांव के परिजन ने पुलिस में अपहरणकर्ताओं के खिलाफ शिकायत भी दर्ज की थी. परिजनों ने पुलिस पर इल्जाम लगाते हुए कहा है कि अपहरणकर्ताओं ने 10 लाख रुपये की मांग की थी. फिरौती देने के लिए परिजनों के साथ पुलिस भी गई थी. इसके बावजूद अपहर्ताओं ने पुलिस को चकमा देकर फिरौती वसूलने के बाद हत्या कर दी. लेकिन पुलिस कुछ नहीं कर पाई. बेशक यह पुलिस की बड़ी नाकामी है.

RN साहू चौक पर परिजनों में किया हंगामा:
पोस्टमार्टम के बाद नेता की लाश को परिजनों को सौंप दिया गया है. इसके बाद आक्रोशित परिजनों ने आरएन साहू (RN Shahu Chowk) चौक पर हंगामा और पूर्णिया शहर (Purniyan City) में चक्का जाम करना शुरू कर दिया है. आपको बता दें अनिल उरांव ने साल 2015 और 2020 में कटिहार के निहारी विधानसभा (Nihari Vidhansabha) से चुना लड़ा था, लेकिन हार गए थे. 

 

और पढ़ें