Live News »

सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पर डॉक्टरों की कमी 

सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पर डॉक्टरों की कमी 

आमेट (राजसमंद)। आमेट उपखण्ड पर सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र पर डॉक्टरों की कमी को लेकर भारतीय राष्ट्रीय सद्भावना कांग्रेस प्रदेश उपाध्यक्ष के नेतृत्व में कांग्रेस कार्यकर्ता उपखंड कार्यालय पहुंचे। जिसके बाद उपखण्ड अधिकारी की अनुपस्थिति में कार्मिक को ज्ञापन सौंपा गया। 

गौरतलब है कि आमेट उपखंड के सीएचसी पर डॉक्टरों की कमी के कारण मरीजों को परेशानी का सामना करना पड़ता हैं। जिस पर भारतीय राष्ट्रीय सद्भावना कांग्रेस प्रदेश उपाध्यक्ष दिलीप सिंह के नेतृत्व में कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने नारेबाजी करते हुए उपखण्ड अधिकारी कार्यालय पहुंचे और उपखंड अधिकारी को जिला कलेक्टर के नाम ज्ञापन सौंपना था। लेकिन उपखण्ड अधिकारी कि अनुपस्थिति में कार्मिक डालचन्द को ज्ञापन सौंपा गया।  सौंपे गए ज्ञापन में बताया कि क्षेत्र में करीब बीस पंचायतों की सवा लाख जनता हैं और आमेट मुख्यालय पर स्थित राजकीय रेफरल में 9 डॉक्टरों के पद स्वीकृत हैं जिसमें से तीन डॉक्टर कार्यरत है। एक मुख्य डॉक्टर अनुराग शर्मा का स्थानान्तरण भी राजसमंद कर दिया गया जिससे सीएचसी अब दो डॉक्टरों के भरोसे रह गया हैं। आउटडोर में रोगियों की कतारें लग जाती हैं। कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने डॉक्टरों की जल्द नियुक्ति कर जनता को राहत प्रदान करने की मांग करी है। 

और पढ़ें

Most Related Stories

आमेट नगर पालिका चुनाव में कांग्रेस ने 45 साल बाद रचा इतिहास, परिणाम ने भाजपा को दिया झकझोर

आमेट नगर पालिका चुनाव में कांग्रेस ने 45 साल बाद रचा इतिहास, परिणाम ने भाजपा को दिया झकझोर

राजसमंद: जिले के आमेट नगर पालिका चुनाव में कांग्रेस में 45 साल बाद इतिहास रच दिया. नगर पालिका बनने के बाद से राह देख रही कांग्रेस की झोली में 45 साल बाद पालिका का सत्ता हाथ लगा. कांग्रेस ने आमेट के 25 सीटों में से 17 सीट पर ऐतिहासिक जीत दर्ज की. जबकि भाजपा का गढ़ माने जाने वाला आमेट में भाजपा को सिर्फ 8 सीटें ही हाथ लगी, भाजपा लंबे समय से आमेट नगर पालिका में काबिज थी. लेकिन इस बार के परिणाम और भाजपा को झकझोर के रख दिया. 

भाजपा से बागी चल रहे कैलाश मेवाड़ा ने जो कांग्रेस का दामन थाम लिया था: 
परिणाम चुनाव नामांकन से पहले ही स्पष्ट हो चुका था क्योंकि भाजपा से बागी चल रहे कैलाश मेवाड़ा ने जो कांग्रेस का दामन थाम लिया था और कांग्रेस नहीं भाई सही समय पर बड़ा निर्णय लेते हुए कैलाश मेवाड़ा को कांग्रेस में शामिल होते ही अध्यक्ष पद का उम्मीदवार घोषित कर दिया. जीत के बाद से आमेट कांग्रेस में जश्न का माहौल है. कार्यकर्ता आतिशबाजी के साथ डीजे की धुन पर नाच रहे हैं. 

Open Covid-19