जयपुर पर्यटक स्थलों पर लपकों पर लगेगा अंकुश, अब पर्यटकों से दुर्व्यवहार करने वालों पर होगी कड़ी कार्रवाई - पर्यटन राज्य मंत्री

पर्यटक स्थलों पर लपकों पर लगेगा अंकुश, अब पर्यटकों से दुर्व्यवहार करने वालों पर होगी कड़ी कार्रवाई - पर्यटन राज्य मंत्री

पर्यटक स्थलों पर लपकों पर लगेगा अंकुश, अब पर्यटकों से दुर्व्यवहार करने वालों पर होगी कड़ी कार्रवाई - पर्यटन राज्य मंत्री

जयपुर: राजस्थान विधानसभा में पर्यटन व्यवसाय संशोधन विधेयक 2021 चर्चा के बाद पारित हो गया. इससे पहले हुई चर्चा में भाग लेते हुए भाजपा विधायक वासुदेव देवनानी ने कहा कि सरकार पर्यटन को लेकर गंभीर नहीं है. सरकार के पास पूर्णकालिक पर्यटन मंत्री ही नहीं है.

पहले भिखारियों के पुनर्वास के लिए कानून लाना चाहिए. लेकिन मंशा भिखारियों को परेशान करने की लग रही है. जिस दिन मंत्रिमंडल का विस्तार होगा उस दिन पूरी सरकार ही नीचे आ जाएगी. वहीं भाजपा विधायक अविनाश ने कहा कि सरकार धार्मिक आधार पर भेदभाव कर रही है सरकार को केवल अल्लाहु अकबर पर ध्यान नहीं देना चाहिए. जय श्री राम पर भी ध्यान देना चाहिए.

मेरे क्षेत्र का प्रस्ताव इसलिए रद्दी की टोकरी में डाल दिया. क्योंकि वह हिन्दू धर्म के केंद्र से जुड़ा था चर्चा में बोलते हुए विधायक जोगेश्वर गर्ग ने कहा कि नेहरू के जमाने से भिक्षावृत्ति खत्म करने की बात चल रही. लेकिन मर्ज बढ़ता गया ज्यों-ज्यों दवा की . भिक्षावृत्ति आज संगठित व्यवसाय बन गया है. 

अपराध की पुनरावृत्ति को गैर जमानतीय और संज्ञेय अपराध माना गया:
चर्चा के बाद पर्यटन राज्यमंत्री गोविंद डोटासरा ने जवाब पेश करते हुए कहा कि संशोधन लाने की आवश्यकता इसलिए पड़ी. क्योंकि यह संज्ञेय अपराध है या नहीं यह अंकित नहीं था. जमानतीय अपराध है या नहीं यह भी अंकित नहीं था. इसमें अपराध की पुनरावृत्ति को गैर जमानतीय और संज्ञेय अपराध माना गया है. भिखारियों को परेशान करने के लिए यह कानून नहीं था. अब भी इस कानून की मंशा यह नहीं है.

लपकों के खिलाफ कार्यवाही लगातार जारी:
लपकों के खिलाफ कार्यवाही लगातार जारी है. जब तक संज्ञेय अपराध नहीं होगा तब तक एफआईआर दर्ज नहीं कर सकते. भविष्य में भी ऐसे अगर दुरुस्त करने के लिए संशोधन की जरूरत पड़ी तो सरकार लाएगी. हम सब चाहते हैं कि ज्यादा से ज्यादा पर्यटक राजस्थान आएं. मंत्री के जवाब के बाद विधानसभा में ध्वनिमत से विधायक पारित हो गया

और पढ़ें