जयपुर Rajasthan: प्रदेशभर में लागू होगा "लालसोट मॉडल", First India से खास बातचीत में चिकित्सा मंत्री परसादी लाल मीणा ने बताई प्राथमिकताएं

Rajasthan: प्रदेशभर में लागू होगा "लालसोट मॉडल", First India से खास बातचीत में चिकित्सा मंत्री परसादी लाल मीणा ने बताई प्राथमिकताएं

जयपुर: प्रदेश के नवनियुक्त चिकित्सा मंत्री परसादी लाल मीणा कल सचिवालय में कार्यभार ग्रहण करेंगे. विभाग की जिम्मेदारी मिलने पर आज चिकित्सा मंत्री मीणा के घर बधाईयों का तांता लगा रहा.

चिकित्सा विभाग के अधिकारियों, कर्मचारी एसोसिएशन का भी चिकित्सा मंत्री से मिले. इस दौरान मीणा ने कहा कि गांव के लोगों को गांव के आसपास ही बेहतर और हर तरह का ट्रीटमेंट मिले, इसके लिए पीएचसी-सीएचसी को ढांचागत मजबूत किया जाएगा. मीणा ने अपने विधानसभा क्षेत्र लालसोट का उदाहरण देते हुए कहा कि सीएम ने पीएचसी-सीएचसी के जो मापदण्ड तय किए है, वे भी जगह पूरे किए जाएंगे, जैसा लालसोट में किया गया है. 

वहीं प्रदेश में कोरोना के मामलों को लेकर बोलते हुए परसादी लाल मीणा ने कहा कि कोरोना के मामले इतने नहीं बढ़े है, हालात नियंत्रण में है. फिर भी हमारी कोशिश लोगों को वैक्सीनेट कर सुरक्षित करने की रहेगी. वंचित लोगों चिन्हित कर उन्हें वैक्सीनेट के प्रति जागरूक किया जाएगा. चिकित्सकों को लक्ष्य दिया जाएगा कि जिन्हें कोविड की पहली डोज लग चुकी उन सभी लोगों को एक माह के भीतर कोरोना की दूसरी डोज लग जाए. 

चिकित्सा के क्षेत्र में नहीं होगा कोई समझौता !
चिकित्सा मंत्री परसादी लाल मीणा ने फर्स्ट इंडिया न्यूज पर इंटरव्यू में बोलते हुए कहा कि चिकित्सा के क्षेत्र में कोई समझौता नहीं होगा. विभाग में खाली पदों को लेकर पूछे गए सवाल पर बोलते हुए उन्होंने कहा कि विभाग में बड़े स्तर पर भर्तियां की जा चुकी है. लेकिन फिर भी जहां होगी जरूरत, वहां भर्ती करके कार्मिक लगाएंगे. मुख्यमंत्री निरोगी राजस्थान चिरंजीवी शिविरों को लेकर बोलते हुए मंत्री मीणा ने कहा कि सीएम गहलोत ने जो निरोगी राजस्थान का सपना सजोया है उसे पूरा करने के लिए "चिरंजीवी कैम्प" मील का पत्थर साबित होंगे. 

चिकित्सा मंत्री परसादी लाल मीणा की सादगी !
वहीं फर्स्ट इंडिया से खास बातचीत में मीणा से दवा और दारू के महकमे की जिम्मेदारी को लेकर सवाल पूछा गया तो वो हंसकर टाल गए. लेकिन फिर बोले, सीएम साहब ने कुछ सोच कर ही जिम्मेदारी दी है. दोनों की विभागों की अपनी-अपनी जगह अलग जिम्मेदारी है. मीणा ने कहा कि उद्योग विभाग जब कोई लेना नहीं चाह रहा था तब सीएम साहब ने मुझे ये जिम्मेदारी सौंपी, जिसे बखूबी निभाया. उद्योग जैसे सुस्त विभाग में ही हमने बेहतर काम करके दिखाया तो चिकित्सा विभाग को पहले से ही एक्टिव विभागों में से है. खुद सीएम गहलोत विभाग की हर गतिविधि पर नजर रखते है. 

और पढ़ें