Live News »

नहीं रही जवाई क्वीन नागिनी...नम आंखो से अंतिम विदाई

नहीं रही जवाई क्वीन नागिनी...नम आंखो से अंतिम विदाई

बाली(पाली)। बाली के सेना गांव में 10 दिन पूर्व लापता मादा पैंथर के शव को नम आँखो से वनकर्मियों ने विदाई दी । वन विभाग की मौजूद टीम ने मादा पैंथर को धार्मिक रीती रिवाज से फूल मालाओ गुलाल कफ़न ओढ़ा कर अंतिम सस्कार किया। इस दौरान मौजूद हर किसी कर्मचारी की आँख नम थी।

वन विभाग ने जवाई क़्वीन नामक मादा पैंथर का शव रेस्क्यू कर मेडिकल बोर्ड से पोस्टमार्टम करवाकर शव को विशेष रस्म के साथ अंतिम संस्कार किया। वनकर्मियों ने नम आंखो के साथ मादा पैंथर को फूल मालाओ और गुलाल के साथ कफ़न ओढ़ा कर जवाई क़्वीन को अलविदा कहा। 

वही कोठार गांव में 1 माह पूर्व लापता नर पैंथर अभी भी पकड़ से दूर है कोठार के नर पैंथर को लेकर भी चिंता बढ़ती जा रही है। मौजूद वन अधिकारी रेंजर नरेंद्र विश्नोई ने कहा की विभाग पूरी तरह मुस्तैद है सिमित ससाधनों के बावजूद घनी झाड़ियो और गुफा नुमा पहडियों पर स्थानीय जगल के जानकार पशुपालकों को भी आग्रह कर मदद ली जा रही है।

आखिर जिसका शक था वो ही हुआ.. और खोजबीन के दसवे दिन मादा पैंथर नागिनी का शव मिल गया । नागिनी अपने पीछे 3 नन्हे शावक छोड़ गई जिनकी जोधपुर में अमेरिकन दूध पर परवरिश हो रही।

नागिन खास इस लिए थी की बाली उपखण्ड के सेना गांव की पहाड़ी पर ही नागिनी मादा पैंथर 3 बार प्रसव के दौरान 8 शावकों को पूर्व में जन्म दे चुकी है । नागिनी की बदौलत ही बाली में पैंथरों का कुनबा बढ़ा जो प्रत्यटकों के लिए अच्छा संदेश रहा ।

मादा पैंथर नागिनी सरल और साधारण आज तक किसी इंसान पर हमला तक नही किया । नागिनी के करीब पर्यटकों की सफारी गाड़ी जाकर करीबन 10 फिट की दूरी से बेख़ौफ़ फोटो लेते देखे गए थे पर नागिनी अपनी मस्ती में मस्त रहती थी कभी मनुष्यों पर हमला नही किया । 
लापता मादा पैंथर का शव नजदीकी पहाड़ी में के पास झाड़ियों से ढका मिला । नाका प्रभारी विक्रम सिंह राव के अनुसार मादा पैंथर के शव के मुंह पर चोट देखी गई यह चोट सम्भवतय बच्चों का शिकार करने की नियत से आये जरख से नन्हे शावकों की  सुरक्षा के लिए हुई लड़ाई की वजह से आने की सम्भावनाओं से इंकार नही किया जा सकता।

पोस्टमार्टम और अंतिम संस्कर के दौरान जवाई चौकी रेंजर नरेंद्र विश्नोई,उदयपुर बायोलॉजी पार्क रेंजर विनोद,नाका प्रभारी विक्रमसिंह राव,टी टी शर्मा सहित विभिन कर्मचारी भी मौजूद रहे।
प्रकाश पालीवाल बाली (पाली)

और पढ़ें

Most Related Stories

Open Covid-19