तरुण गोगोई का अंतिम संस्कार गुरुवार को होगा, आखिरी इच्छा के अनुसार पार्थिव शरीर को पहले मंदिर, मस्जिद और गिरजाघर ले जाया जाएगा

तरुण गोगोई का अंतिम संस्कार गुरुवार को होगा, आखिरी इच्छा के अनुसार पार्थिव शरीर को पहले मंदिर, मस्जिद और गिरजाघर ले जाया जाएगा

तरुण गोगोई का अंतिम संस्कार गुरुवार को होगा, आखिरी इच्छा के अनुसार पार्थिव शरीर को पहले मंदिर, मस्जिद और गिरजाघर ले जाया जाएगा

गुवाहाटी: असम के पूर्व मुख्यमंत्री तरुण गोगोई का अंतिम संस्कार गुरुवार को किया जाएगा. कांग्रेस की राज्य इकाई के अध्यक्ष रिपुन बोरा ने यह जानकारी दी. बोरा ने कहा कि गोगोई की आखिरी इच्छा के अनुसार उनके पार्थिव शरीर को अंतिम संस्कार से पहले मंदिर, मस्जिद और गिरजाघर ले जाया जाएगा. असम में गोगोई के निधन पर तीन दिन के राजकीय शोक की घोषणा की गई है.

मंगलवार सुबह गोगोई के पार्थिव शरीर को अस्पताल से दिसपुर में उनके आधिकारिक आवास पर ले जाया जाएगाः
गुवाहाटी मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल (जीएमसीएच) में संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए बोरा ने कहा कि मंगलवार सुबह गोगोई के पार्थिव शरीर को अस्पताल से दिसपुर में उनके आधिकारिक आवास पर ले जाया जाएगा. जीएमसीएच में ही सोमवार को गोगोई का निधन हुआ. राज्यसभा सदस्य बोरा ने कहा कि डॉक्टर पार्थिव शरीर को तीन दिन तक सुरक्षित रखने के लिए रात में आवश्यक चिकित्सा औपचारिकताएं पूरी करेंगे. इसके बाद गोगोई के पार्थिव शरीर को राज्य के सचिवालय जनता भवन ले जाया जाएगा, जहां वह 15 साल तक मुख्यमंत्री की कुर्सी पर विराजमान रहे. इसके बाद अपराह्न 3 बजकर 30 मिनट पर पार्थिव शरीर को राज्य के कांग्रेस मुख्यालय राजीव भवन ले जाया जाएगा.

पैतृक नगर तीताबोर के बजाय गुवाहाटी में किया जाएगा अंतिम संस्कारः
बोरा ने कहा कि उनकी पत्नी डॉली और बेटे गौरव ने राज्य के मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल से एक दिन के लिए पार्थिव शरीर को अंतिम दर्शन के लिए आम जनता के लिए रखने का अनुरोध किया. परिवार की इच्छा के अनुसार, मंगलवार शाम पार्थिव शरीर को गुवाहाटी में श्रीमंत शंकरदेव कलाक्षेत्र ले जाया जाएगा और 25 नवंबर को पूरे दिन उसे वहीं रखा जाएगा. उन्होंने कहा कि 26 नवंबर को कलाक्षेत्र से गोगोई की अंतिम यात्रा शुरू होगी और उनके पैतृक नगर तीताबोर के बजाय गुवाहाटी में अंतिम संस्कार किया जाएगा.

आखिरी इच्छा के अनुसार उनके पार्थिव शरीर अंतिम संस्कार से पहले मंदिर, मस्जिद और गिरजाघर ले जाया जाएगाः
बोरा ने कहा कि गोगोई की आखिरी इच्छा के अनुसार उनके पार्थिव शरीर को अंतिम संस्कार से पहले मंदिर, मस्जिद और गिरजाघर ले जाया जाएगा. बोरा ने कहा कि राहुल गांधी समेत पार्टी के कई केन्द्रीय नेता गोगोई को श्रद्धांजलि देने के लिए अगले तीन दिन में असम आ सकते हैं.

तरुण गोगोई का 84 वर्ष की आयु में हुआ निधनः 
गोगोई का कोविड-19 के बाद की दिक्कतों का इलाज चल रहा था. 84 वर्ष की आयु में उनका निधन हो गया. वह 2001 से 2016 तक असम के मुख्यमंत्री रहे. इसके अलावा वह छह बार सांसद और दो बार केन्द्रीय मंत्री भी रहे. गोगोई के निधन पर असम में तीन दिन के राजकीय शोक की घोषणा की गई है. राज्य में सत्तारूढ़ भाजपा और विपक्षी दल कांग्रेस ने पूर्व मुख्यमंत्री के सम्मान में अगले तीन दिन तक पार्टी से संबंधित सभी कार्यक्रम रद्द कर दिए हैं. एक आधिकारिक बयान में कहा गया है कि मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल ने पूर्व मुख्यमंत्री तरुण गोगोई के सम्मान में तीन दिन के राजकीय शोक का ऐलान किया है. सोनोवाल ने गुवाहाटी मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल जाकर गोगोई को श्रद्धांजलि भी दी.
सोर्स भाषा
 

और पढ़ें