VIDEO: बारिश में उधड़ी रिंग रोड की परतें, 810 करोड़ का है ड्रिम प्रोजेक्ट

Nirmal Tiwari Published Date 2019/07/31 10:05

जयपुर: एनएचएआई का रिंग रोड प्रोजेक्ट कहीं हादसे का रिंग रोड न बन जाए. तमाम दावों के बाद भी बरसात ने रिंग रोड की क्वालिटी की पोल खोल कर रख दी है. दर्जनों जगह रिंग रोड के नीचे और साइड की मिट्टी धंस गई है और दो जगह सीसी की परत ही झूल कर टूट गई. 

रिंग रोड अब हादसों का रिंग रोड बनता जा रहा: 
ड्रीम प्रोजेक्ट माना जाने वाला रिंग रोड अब हादसों का रिंग रोड बनता जा रहा है. पहले रिंग रोड के दोनों और पौधारोपण में अनियमितता की गई. उसके बाद बरसात ने रिंग रोड की पोल खोली और कई जगह रिंग रोड के नीचे से मिट्टी धंस गई और रिंग रोड का कुछ हिस्सा भरभरा कर गिर गया. अब रिंग रोड की निर्माण कंपनी गावर ने रिंग रोड निर्माण के लिए जो दोनों और अनाधिकृत बोरवेल खोदे थे उन्हें खुला ही छोड़ दिया. हालात इस कदर भयावह हो गए हैं कि खुले बोरवेल के चारों तरफ बरसात का पानी भर गया है और नजदीक ही बस्ती होने से कभी भी यहां बड़ा हादसा हो सकता है.

एनएचएआई ने बरत रखी उदासीनता: 
एनएचएआई ने भी इस मामले में उदासीनता बरत रखी है और हाल में ही बामनवास में बोरवेल में महिला गिरने की घटना से कोई सबक भी नहीं लिया. डिग्गी रोड की तरफ से शुरू हो रहे रिंग रोड के पास बोरवेल खुला है. यही हाल आगे तक पूरी स्ट्रेच के दोनों और देखा जा सकता है. जहां आधा दर्जन के करीब अनाधिकृत बोरवेल खोदे गए थे जिन्हें निर्माण कंपनी ने काम होने के बाद खुला ही छोड़ दिया है. डिग्गी रोड की तरफ से रिंग रोड पर चढ़कर आगरा रोड की तरफ आने वाले वाहनों के लिए चेतावनी है. एनएचएआई की लापरवाही से यहां कभी भी बड़ा हादसा हो सकता है. जी हां...जयपुर के लिए ड्रीम प्रोजेक्ट माने जा रहे 810 करोड रुपए के रिंग रोड की मानसून की पहली अच्छी बरसात ने ही पोल खोलकर रख दी है. डिग्गी रोड की तरफ से रिंग रोड की परत हवा में झूल रही है. सीसी के नीचे की परत भरभरा कर गिर चुकी है और बरसात से करीब दो दर्जन जगह खतरनाक ढंग से सीसी के नीचे से मिट्टी निकल गई है.कई जगह सीसी धंस कर टूट गई है.

खतरनाक सड़क पर हादसों का सफर: 
दो तीन जगह तो 20-20 फीट गहरी गुफा नुमा बन गई है. खतरनाक बात यह है कि इस परत के ऊपर से निकलने वाले ट्रक और अन्य वाहनों को पता ही नहीं है कि वह एक खतरनाक सड़क पर हादसों का सफर कर रहे हैं. आपको बता दें कि हरियाणा की गावर कंपनी ने रिंग रोड बनाया है जिसमें जर्मनी की पेपर का इस्तेमाल किया गया है. कंपनी काका दावा था कि रिंग रोड उच्च गुणवत्ता का है और इसे 40 वर्ष तक मेंटिनेंस की जरूरत नहीं पड़ेगी लेकिन इस कंपनी के काम में कितनी पोल है यह सीजन की पहली बरसात बता चुकी है. खतरनाक बात यह भी है की एनएचएआई और गावर ने अभी तक हादसों की सड़क को दुरुस्त करने का काम शुरू नहीं किया है ऐसे में कभी भी कोई बड़ा हादसा हो सकता है.

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in