सही लोगों पर भरोसा कर निराशाजन चीजों को नजरअंदाज करना सीखा: पोप

सही लोगों पर भरोसा कर निराशाजन चीजों को नजरअंदाज करना सीखा: पोप

सही लोगों पर भरोसा कर निराशाजन चीजों को नजरअंदाज करना सीखा: पोप

लंदन: इंग्लैंड के मध्यक्रम के बल्लेबाज ओली पोप ने अपने घरेलू मैदान पर अर्धशतक के साथ टेस्ट में वापसी का जश्न मनाने के बाद कहा कि उन्होंने सही लोगों पर भरोसा करके ‘निराशाजनक चीजों’ को नजरअंदाज करना सीख लिया है. जनवरी 2020 में दक्षिण अफ्रीका में अपना पहला शतक बनाने वाले 23 वर्षीय यह बल्लेबाज इस साल अपनी शुरुआत को बड़े स्कोर में बदलने में नाकाम रहा है.  इस मैच में 81 रन (159 गेंद में) की पारी से पहले इस साल का उनका सर्वश्रेष्ठ स्कोर फरवरी में भारत के खिलाफ चेन्नई में 34 रन था.

श्रृंखला के शुरुआती तीन टेस्ट के दौरान ड्रेसिंग रूम में समय बिताने वाले पोप को विकेटकीपर बल्लेबाज जोस बटलर के स्थान पर अंतिम 11 में शामिल किया गया है. बटलर ने अपने दूसरे बच्चे के जन्म के समय परिवार के साथ समय बिताने के लिए ब्रेक लिया है. पोप ने इस मौके का फायदा उठाते हुए उस समय दो अर्धशतकीय साझेदारियां की जब टीम 62 रन पर पांच विकेट गंवाकर संघर्ष कर रही थी. उन्होंने जॉनी बेयरस्टॉ और फिर मोईन अली के साथ शानदार साझेदारी की जिससे इंग्लैंड की टीम पहली पारी में 290 रन का स्कोर खड़ा करने में सफल रही.

पोप ने दूसरे दिन के खेल के बाद कहा कि यह कठिन (टीम से अंदर-बाहर होना) है, मुझे लगा कि यह कभी-कभी निराशाजनक होता है. ईमानदारी से कहूं तो यह सीखने का मौका है. मैंने सीखा है कि निराशाजनक बातों से कैसे निपटना है. मैं दूसरी बातों को नजरअंदाज कर के अपने खेल को लेकर जितना हो सके उतना आश्वस्त होना चाहता हूं. 

उन्होंने कहा कि आपको उन लोगों की बात सुननी होगी जिन पर आप भरोसा करते हैं और जिन से आपको सबसे अच्छी सलाह मिल रही है. खिलाड़ियों के रूप में बहुत तरह की बातें सुननी होती है,  इंग्लैंड के लिए खेलने के दौरान हमेशा ऐसा होगा. इसलिए यह सही लोगों और उन लोगों को सुनने की कोशिश करने के बारे में है जिन पर आप सबसे ज्यादा भरोसा करते हैं. अगस्त 2020 में पाकिस्तान के खिलाफ तीसरे टेस्ट के दौरान अपने कंधे की चोट को याद करते हुए उन्होंने कहा कि यह अब तक एक स्टॉप-स्टार्ट (रुकावट से भरा)’ करियर रहा है. मैंने लगभग चार साल पहले अपनी शुरुआत की थी. इस दौरान कई बार टीम से अंदर-बाहर होता रहा हूं और कंधे के ऑपरेशन भी हुए हैं.

कंधे की इस चोट के कारण उन्हें लगभग चार महीने तक खेल से दूर रहना पड़ा था. ओवल के मैदान पर पोप की बल्लेबाजी औसत 19 पारियों में 101.8 की है और वह भारत के खिलाफ शतक पूरा करने से चुकने के कारण निराश है. उन्होंने कहा कि यह मेरे घरेलू मैदान पर पहला टेस्ट है और मेरे लिए वास्तव में एक खास मौका है. आप अपने घरेलू मैदान पर खचाखच भरे दर्शकों के सामने शतक लगाने का सपना देखते हैं. उम्मीद है कि मुझे भविष्य में कुछ और मौके मिलेंगे लेकिन अभी के लिए मुझे टीम को अच्छी स्थिति में लाने में योगदान देने में खुशी हो रही है.  (भाषा) 

और पढ़ें