झूठ और फर्जीवाड़े का खुलासा: दिल्ली पुलिस भर्ती परीक्षा 2007 में जाली दस्तावेज जमा करा कर रहे थे सरकारी नौकरी, जांच में 12 कांस्टेबल को किया गया बर्खास्त

झूठ और फर्जीवाड़े का खुलासा: दिल्ली पुलिस भर्ती परीक्षा 2007 में जाली दस्तावेज जमा करा कर रहे थे सरकारी नौकरी, जांच में 12 कांस्टेबल को किया गया बर्खास्त

झूठ और फर्जीवाड़े का खुलासा: दिल्ली पुलिस भर्ती परीक्षा 2007 में जाली दस्तावेज जमा करा कर रहे थे सरकारी नौकरी, जांच में 12  कांस्टेबल को किया गया बर्खास्त

नई दिल्ली: दिल्ली पुलिस के 12 कांस्टेबल को 2007 पुलिस भर्ती परीक्षा के संबंध में विभागीय जांच के उपरांत 10 साल से अधिक समय तक ड्यूटी करने के बाद सेवा से बर्खास्त कर दिया गया. 

ये था पूरा मामला:
पुलिस ने कहा कि ये कांस्टेबल पीसीआर इकाई में चालक के रूप में तैनात थे और उन्होंने 2007 में दिल्ली पुलिस द्वारा आयोजित परीक्षा के दौरान कथित तौर जाली ड्राइविंग लाइसेंस (वाहन चलाने के लिए) और दस्तावेज जमा किए थे. इस परीक्षा में 81 से ज्यादा उम्मीदवार शामिल हुए थे. दिल्ली पुलिस के आधिकारिक आदेश में कहा गया कि एक उम्मीदवार जिसने 2007 की परीक्षा के लिए पंजीकरण किया था, उसने लाइसेंसिंग प्राधिकरण, मथुरा द्वारा जारी उसी लाइसेंस का उपयोग कर फिर से चालक के लिए 2012 में आवेदन किया था.

 

पुलिस ने बताया कि दिल्ली पुलिस आयुक्त के निर्देश पर इस मामले को आगे की जांच के लिए अपराध शाखा को दिया गया. जांच के दौरान कई पत्र उत्तर प्रदेश के मथुरा के लाइसेंसिंग प्राधिकरण प्रशासन को भेजे गए. पुलिस ने बताया कि इस संबंध में विभागीय जांच शुरू हुई जिसमें पाया गया कि 12 कांस्टेबल ने जाली ड्राइविंग लाइसेंस जमा किया था, जिसे उसने मथुरा से हासिल किया था. सोर्स-भाषा

और पढ़ें