Live News »

अपहरण कर दुष्कर्म के मामले में दोषी को आजीवन कारावास

अपहरण कर दुष्कर्म के मामले में दोषी को आजीवन कारावास

डूंगरपुर: जिला स्पेशल कोर्ट ने अपहरण कर दुष्कर्म के मामले में दोषी को आजीवन कारावास की सजा सुनाई है. वहीं दोषी पर 30 हजार रुपए का जुर्माना भी लगाया है. विशिष्ठ लोक अभियोजक योगेश जोशी ने बताया की मामला 25 जुलाई 2016 को बिछीवाड़ा थाना क्षेत्र का है जहां पीड़िता अपने घर के बाहर बर्तन धो रही थी. इस दौरान चुंडावाड़ा गांव निवासी सोमेश्वर वरहात आया और उसका अपहरण कर अपने साथ ले गया. वहीं किसी अज्ञात जगह पर सोमेश्वर ने पीड़िता के साथ दुष्कर्म किया. साथ ही किसी को बताने पर जान से मारने की धमकी भी दी.

पीड़िता ने परिजनों को बताई आपबीती: 
इधर इसके बाद पीड़िता ने आपबीती परिजनों को बताई. जिस पर परिजनों ने बिछीवाड़ा थाने में आरोपी सोमेश्वर के खिलाफ मामला दर्ज करवाया. पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार करते हुए कोर्ट में चालान पेश किया. इसी मामले में स्पेशल कोर्ट ने अंतिम सुनवाई करते हुए दोषी सोमेश्वर वरहात को आजीवन कारावास की सजा के साथ 30 हजार रुपए का जुर्माना भी लगाया. 

और पढ़ें

Most Related Stories

Dungarpur Violence: खेरवाड़ा कस्बे में चौथे दिन भी बवाल जारी, सीएम गहलोत ने केन्द्र से मांगी रैपिड एक्शन फोर्स

Dungarpur Violence:  खेरवाड़ा कस्बे में चौथे दिन भी बवाल जारी, सीएम गहलोत ने केन्द्र से मांगी रैपिड एक्शन फोर्स

डूंगरपुर: प्रदेश के डूंगरपुर जिले की कांकरी डूंगरी से शुरू हुए आदिवासियों के प्रदर्शन की आग चौथे दिन भी थमने का नाम ही नहीं ले रही है. खेरवाड़ा कस्बे  में उपद्रव के दौरान शनिवार रात झड़प में 2 लोग मारे गए. झड़प में मारे गए 2 लोगों के शव उदयपुर मोर्चरी में शिफ्ट कराए गए. 2 अन्य घायलों का भी अस्पताल में इलाज चल रहा है. पूरे खेरवाड़ा को उपद्रवियों ने घेर रखा है. उपद्रवियों ने होटल और मकान फूंक दिए है. उदयपुर-अहमदाबाद हाईवे 60 घंटे से ज्यादा समय से बंद पडा है. हाईवे पर उपद्रवियों ने 20 किलोमीटर क्षेत्र में पत्थर बिछाए हुए है. 

खेरवाड़ा कस्बे में फिलहाल तनावपूर्ण शांति:
डूंगरपुर के खेरवाड़ा कस्बे में फिलहाल तनावपूर्ण शांति है. पुलिस के आलाधिकारियों के जयपुर से आने के बाद रणनीति बनाई जा रही है. डीजी एमएल लाठर,आनंद श्रीवास्तव और दिनेश एममन अधिकारियों से चर्चा कर रहे है.जयपुर से आए तीनों ही अधिकारियों ने अपने पुराने कॉन्टैक्ट्स को एक्टिव किया है. महापड़ाव स्थल कांकरी डूंगरी तक पुलिस का भारी जाब्ता तैनात किया गया है. प्रदेश के विभिन्न जिलों से SDRF और अन्य जाब्ता तैनात किया गया है.

{related}

सीएम गहलोत ने केन्द्र से मांगी रैपिड एक्शन फोर्स:
प्रदेश के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने केंद्र से रैपिड एक्शन फोर्स मांगी है. स्थिति संभालने के लिए सरकार ने वरिष्ठ IPS एमएल लाठर, दिनेश एमएन और आनंद श्रीवास्तव को जयपुर से डूंगरपुर भेज दिया है. डूंगरपुर-बांसवाड़ा के बाद उदयपुर जिले में भी इंटरनेट सेवा बंद कर दी गई है. झारखंड से आए विशेष विचारधारा के गुट पर हिंसा भड़काने का आरोप लगा है.

उदयपुर जिले में पहले चरण के पंचायत चुनाव स्थगित:
उदयपुर जिले में पहले चरण के पंचायत चुनाव स्थगित कर दिए गए है. कानून व्यवस्था की स्थिति को देखते हुए राज्य निर्वाचन आयोग ने फैसला लिया है. 28 और 29 सितंबर को गोगुंदा,सराड़ा में पंचायत चुनाव होने थे. फील्ड में मौजूद सेक्टर ऑफिसर्स को मुख्यालय लौटने के निर्देश दिए गए हैं. 

यह है आंदोलनकारियों की मांग:
आंदोलनकारियों की मांग है कि जनजाति क्षेत्र में तृतीय श्रेणी शिक्षक भर्ती के रिक्त सामान्य वर्ग के 1167 पदों पर जनजाति अभ्यर्थियों से भरने की है. यह मुद्दा हाईकोर्ट में भी उठाया गया और हाईकोर्ट ने उनकी याचिका रद्द कर दी थी. 

Dungarpur Violence: खेरवाड़ा कस्बे में उपद्रवियों पर पुलिस ने की फायरिंग, एक गंभीर घायल किशोर को परिजन लेकर पहुंचे अस्पताल

Dungarpur Violence: खेरवाड़ा कस्बे में उपद्रवियों पर पुलिस ने की फायरिंग, एक गंभीर घायल किशोर को परिजन लेकर पहुंचे अस्पताल

डूंगरपुर: प्रदेश के डूंगरपुर जिले में 2018 शिक्षक भर्ती मामले को लेकर हुए उपद्रव से जुड़ी बड़ी खबर मिल रही है. उपद्रवियों पर पुलिस ने फायरिंग की है. जिसमें एक गंभीर घायल किशोर को परिजन अस्पताल लेकर पहुंचे. जिला अस्पताल में घायल का उपचार चल रहा है, और भी कई लोगों के घायल होने की खबर आ रही है. आपको बता दें कि डूंगरपुर जिले की कांकरी डूंगरी से शुरू हुए आदिवासियों के प्रदर्शन की आग तीसरे दिन भी थमने का नाम ही नहीं ले रही है. उदयपुर-अहमदाबाद हाइवे पर लगातार तनाव का माहौल बना हुआ है. अब उपद्रवियों ने खेरवाड़ा कस्बे की श्रीनाथ कॉलोनी में तांडव मचाया है. उपद्रवी यहां पर घरों में घुसकर लूटपाट और तोड़फोड़ की है. जानकारी के अनुसार उपद्रवियों ने यहां पर 100 से ज्यादा घरों में लूटपाट और तोड़फोड़ की है. इस पूरे मामले पर पुलिस और प्रशासन मूकदर्शक बना हुआ है. कस्बे के हालात नियंत्रण से बाहर नजर आ रहे है. कस्बे के वासी खौफजदा है. 

तीन वरिष्ठ पुलिस अधिकारी जा रहे है डूंगरपुर:
उपद्रव और हिंसा पर नियंत्रण के लिए प्रदेश के तीन वरिष्ठ पुलिस अधिकारी  डूंगरपुर जा रहे है. डीजी एमएल लाठर, एडीजी दिनेश एमएन और पुलिस कमिश्नर आनंद श्रीवास्तव डूंगरपुर जा रहे है. थोड़ी देर में राज्य सरकार के हैलीकॉप्टर से उदयपुर रवाना होंगे. 

{related}

खैरवाड़ा कस्बे में स्थिति बेहद तनावपूर्ण:
आपको बता दें कि आंदोलनकारी तीसरे दिन भी कस्बे के विभिन्न इलाकों में जमकर आगजनी और लूटपाट की. पुलिस-प्रशासन एक बार फिर से आंदोलनकारियों को पीछे धकेलने में जुटा है. पुलिस द्वारा फायरिंग किए जाने की सूचना मिली है. जिला कलेक्टर चेतन देवड़ा मौके पर पहुंचे है. फिलहाल खैरवाड़ा कस्बे में स्थिति बेहद तनावपूर्ण हो गई है. 

जनजाति अभ्यर्थियों और प्रशासन के बीच वार्ता:
वहीं आज जनजाति अभ्यर्थियों और प्रशासन के बीच वार्ता हुई. यह वार्ता में TAD मंत्री अर्जुन बामणिया की मौजूदगी में हुई. हालांकि यह वार्ता किसी निष्कर्ष पर नहीं पहुंच पाई, लेकिन सभी जनजाति नेताओं ने एक स्वर में शांति कायम करने की मांग की है. आंदोलनकारियों से शांति कायम करने की मांग की गई है. यह  बैठक में CWC मेंबर रघुवीर मीणा के निवास पर हुई. पूर्व सांसद ताराचंद भगोरा, BTP विधायक रामप्रसाद डिंडोर और विधायक राजकुमार रोत बैठक में मौजूद रहे.

डूंगरपुर में प्रदर्शन को लेकर बड़ा अपडेट, हिंसक प्रदर्शन को लेकर बाहरी लोगों के भी हाथ होने की खबर

यह है आंदोलनकारियों की मांग:
आंदोलनकारियों की मांग है कि जनजाति क्षेत्र में तृतीय श्रेणी शिक्षक भर्ती के रिक्त सामान्य वर्ग के 1167 पदों पर जनजाति अभ्यर्थियों से भरने की है. यह मुद्दा हाईकोर्ट में भी उठाया गया और हाईकोर्ट ने उनकी याचिका रद्द कर दी थी. 

Dungarpur Violence: खेरवाड़ा कस्बे में उपद्रवियों का तांडव, श्रीनाथ कॉलोनी के 100 से ज्यादा घरों में की लूटपाट और तोड़फोड़

Dungarpur Violence:  खेरवाड़ा कस्बे में उपद्रवियों का तांडव, श्रीनाथ कॉलोनी के 100 से ज्यादा घरों में की लूटपाट और तोड़फोड़

डूंगरपुर: प्रदेश के डूंगरपुर जिले की कांकरी डूंगरी से शुरू हुए आदिवासियों के प्रदर्शन की आग तीसरे दिन भी थमने का नाम ही नहीं ले रही है. उदयपुर-अहमदाबाद हाइवे पर लगातार तनाव का माहौल बना हुआ है. अब उपद्रवियों ने खेरवाड़ा कस्बे की श्रीनाथ कॉलोनी में तांडव मचाया है. उपद्रवी यहां पर घरों में घुसकर लूटपाट और तोड़फोड़ की है. जानकारी के अनुसार उपद्रवियों ने यहां पर 100 से ज्यादा घरों में लूटपाट और तोड़फोड़ की है. इस पूरे मामले पर पुलिस और प्रशासन मूकदर्शक बना हुआ है. कस्बे के हालात नियंत्रण से बाहर नजर आ रहे है. कस्बे के वासी खौफजदा है. 

Image

तीन वरिष्ठ पुलिस अधिकारी जा रहे है डूंगरपुर:
उपद्रव और हिंसा पर नियंत्रण के लिए प्रदेश के तीन वरिष्ठ पुलिस अधिकारी  डूंगरपुर जा रहे है. डीजी एमएल लाठर, एडीजी दिनेश एमएन और पुलिस कमिश्नर आनंद श्रीवास्तव डूंगरपुर जा रहे है. थोड़ी देर में राज्य सरकार के हैलीकॉप्टर से उदयपुर रवाना होंगे. 

डूंगरपुर में प्रदर्शन को लेकर बड़ा अपडेट, हिंसक प्रदर्शन को लेकर बाहरी लोगों के भी हाथ होने की खबर

खैरवाड़ा कस्बे में स्थिति बेहद तनावपूर्ण:
आपको बता दें कि आंदोलनकारी तीसरे दिन भी कस्बे के विभिन्न इलाकों में जमकर आगजनी और लूटपाट की. पुलिस-प्रशासन एक बार फिर से आंदोलनकारियों को पीछे धकेलने में जुटा है. पुलिस द्वारा फायरिंग किए जाने की सूचना मिली है. जिला कलेक्टर चेतन देवड़ा मौके पर पहुंचे है. फिलहाल खैरवाड़ा कस्बे में स्थिति बेहद तनावपूर्ण हो गई है. 

जनजाति अभ्यर्थियों और प्रशासन के बीच वार्ता:
वहीं आज जनजाति अभ्यर्थियों और प्रशासन के बीच वार्ता हुई. यह वार्ता में TAD मंत्री अर्जुन बामणिया की मौजूदगी में हुई. हालांकि यह वार्ता किसी निष्कर्ष पर नहीं पहुंच पाई, लेकिन सभी जनजाति नेताओं ने एक स्वर में शांति कायम करने की मांग की है. आंदोलनकारियों से शांति कायम करने की मांग की गई है. यह  बैठक में CWC मेंबर रघुवीर मीणा के निवास पर हुई. पूर्व सांसद ताराचंद भगोरा, BTP विधायक रामप्रसाद डिंडोर और विधायक राजकुमार रोत बैठक में मौजूद रहे.

Image
यह है आंदोलनकारियों की मांग:
आंदोलनकारियों की मांग है कि जनजाति क्षेत्र में तृतीय श्रेणी शिक्षक भर्ती के रिक्त सामान्य वर्ग के 1167 पदों पर जनजाति अभ्यर्थियों से भरने की है. यह मुद्दा हाईकोर्ट में भी उठाया गया और हाईकोर्ट ने उनकी याचिका रद्द कर दी थी. 

{related}

डूंगरपुर में प्रदर्शन को लेकर बड़ा अपडेट, हिंसक प्रदर्शन को लेकर बाहरी लोगों के भी हाथ होने की खबर

डूंगरपुर में प्रदर्शन को लेकर बड़ा अपडेट, हिंसक प्रदर्शन को लेकर बाहरी लोगों के भी हाथ होने की खबर

डूंगरपुर: जिले की कांकरी डूंगरी से शुरू हुए आदिवासियों के प्रदर्शन की आग तीसरे दिन भी थमने का नाम ही नहीं ले रही है. उदयपुर-अहमदाबाद हाइवे पर लगातार तनाव का माहौल बना हुआ है. उपद्रवी हाइवे और आसपास की पहाड़ियों पर डटे हुए हैं. शनिवार को एक बार फिर उपद्रवियों ने हाइवे पर बने होटलों को निशाना बनाया. इनमें जमकर तोड़फोड़ की गई.

प्रदर्शन में ट्रेंड संदिग्धों के पहुंचने की सूचना:  
ऐसे में इस आंदोलन को लेकर अब जानकार सूत्रों के हवाले से बड़ी खबर निकल रही है. हिंसक प्रदर्शन को लेकर बाहरी लोगों के भी हाथ होने की जानकारी सामने आ रही है. प्रदर्शन में ट्रेंड संदिग्धों के पहुंचने की सूचना है. बताया जाता है कि प्रदर्शन में भरुच, अंकलेश्वर और पूर्वोत्तर के कुछ राज्यों से आदिवासी भी शामिल हुए हैं. यही संदिग्ध आंदोलन का नेतृत्व कर रहे हैं. हिंसक आदोलन के दौरान दर्जनों वाहनों में आगजनी कर चुके हैं. इसके साथ ही दर्जनों घटनाओं को अंजाम दे चुके हैं. ये उपद्रवी अभी तक करोड़ों की संपत्ति आग के हवाले कर चुके हैं. 

करीब 700 लोगों को नामजद भी किया गया: 
वहीं, एक्शन में आई पुलिस उपद्रवियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर रही है. डूंगरपुर जिले के बिछीवाड़ा और सदर थानों में एफआईआर दर्ज की जा रही है. करीब 700 लोगों को नामजद भी किया गया है. वहीं, प्रदर्शन के दौरान करीब 7 कंटेनर के साथ कुल 30 वाहनों को आग के हवाले कर दिया गया. जयपुर ग्रामीण एसपी शंकर दत्त शर्मा को स्पेशल ड्यूटी पर लगाया गया है. 

{related}

मेवाड़ अंचल की पहचान तक बदल सकता है यह आंदोलन:
जानकारों की माने तो डूंगरपुर में चल रहा उपद्रव सिर्फ एसटी अभ्यर्थियों की 1167 सीटों पर भर्ती की मांग को पूरा करने का आंदोलन तो नहीं लग रहा है. इसके पीछे की हकीकत ये भी हो सकती है जिससे की मेवाड़ अंचल की पहचान तक बदल जाए. ऐसे में डूंगरपुर का यह उपद्रव आदिवासी अंचल के किसी बड़े मूवमेंट का ट्रेलर तो नहीं है…? क्यों कि जितने बेकाबू हालात हाईवे पर बाहरी तौर पर दिख रहे हैं, उसकी गंभीरता और हिंसकपन अंदरूनी तौर पर कहीं ज्यादा है.

कहीं यह मूवमेंट भील राज्य की मांग का एक ट्रेलर तो नहीं है..? 
ऐसे में कहीं यह मूवमेंट भील राज्य की मांग का एक ट्रेलर तो नहीं है..? अगर ऐसा है तो इस आग की जद में सिर्फ राजस्थान ही नहीं, गुजरात और मध्यप्रदेश का बॉर्डर एरिया भी आएगा. स्थानीय प्रशासन पिछले लंबे समय से इन सब बातों को लेकर डरा हुआ है और जूझ भी रहा है. साल 2012-13 से ही मेवाड़ के आदिवासी अंचल के चिह्नित क्षेत्रों में माओवादियों से संबंधित गतिविधियों की आशंकाओं के इनपुट सरकार के पास आते रहे हैं. 

...फर्स्ट इंडिया के लिए सुनिल शर्मा की रिपोर्ट

Dungarpur Violence: डूंगरपुर में 22 घंटों से जारी है हिंसक प्रदर्शन, उपद्रवियों ने फूंकी कई गाड़ियां, जिले में लगाई धारा 144

Dungarpur Violence: डूंगरपुर में 22 घंटों से जारी है हिंसक प्रदर्शन, उपद्रवियों ने फूंकी कई गाड़ियां, जिले में लगाई धारा 144

डूंगरपुर: ​प्रदेश के डूंगरपुर जिले के NH-8 पर हालात तनावपूर्ण बने हुए है. पिछले 22 घंटों से क्षेत्र में उपद्रव जारी है. धौलपुर से STF की टुकड़ी के रवाना होने की सूचना मिली है. 70 के करीब STF जवान रवाना हुए है. जिला कलेक्टर कानाराम ने जिले में धारा 144 लागू करने के आदेश जारी किए है. खेरवाड़ा कस्बे में उपद्रवियों ने लूटपाट की है. शराब के ठेके से शटर तोड़कर शराब लूटकर ले गए है. कई किराना की दुकानों में भी लूटपाट की गई है. खेरवाड़ा कस्बे में उपद्रवियों ने उत्पात मचाया है. हाईवे पर खड़ी 2 निजी बसों को आग के हवाले किया. संभागीय आयुक्त विकास भाले खेरवाड़ा पहुंचे.

पुलिस और उपद्रवियों के बीच लाठी-भाटा जंग:
इससे पहले पुलिस और उपद्रवी एक बार फिर आमने-सामने हुए. इस दौरान पुलिस और उपद्रवियों के बीच लाठी-भाटा जंग भी हुई. पुलिस रबड बुलैट तथा आंसूगैस के गोल दागकर उन्हें खदेड़ने का प्रयास कर रही है लेकिन प्रदर्शनकारियों ने कांकरी डूंगरी पहाड़ी के निकट राष्ट्रीय राजमार्ग आठ के लगभग आठ किलोमीटर पर कब्जा जमाए हुए हैं.

आंदोलनकारियों ने सात ट्रकों को आग लगा दी:
उग्र आंदोलनकारियों ने सात ट्रकों को आग लगा दी तथा सामान लूट लिया. उग्र आंदोलन की वजह से पुलिस को पीछा लौटना पड़ा है. डूंगरपुर जिले के अलावा उदयपुर तथा आसपास जिलों से सशस्त्र पुलिस बल मौके पर बना हुआ है. घटना स्थल पर डूंगरपुर के पुलिस अधीक्षक भी बने हुए हैं. 

{related}

उपद्रवियों ने भुवाली पेट्रोल पंप में लूटपाट की: 
वहीं मामले को बढ़ता देख प्रशासन ने इंटरनेट सेवा पर रोक लगाई है. उपद्रवियों ने भुवाली पेट्रोल पंप में लूटपाट की है. इसके साथ ही पेट्रोल पंप के बाहर आग लगाने की घटना को भी अंजाम दिया गया है. उधर, जनप्रतिनिधियों का एक मंडल मोतली मोड़ पहुंचा है. पूर्व विधायक देवेंद्र कटारा के नेतृत्व में 10 सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल मोतली मोड़ से पैदल-पैदल उपद्रवियों की ओर रवाना हुआ है. प्रतिनिधिमंडल उपद्रवियों को समझाने का प्रयास करेंगे. 

आईजी विनीता ठाकुर ने संभाला मोर्चा:
मालले को बढ़ता देख आईजी विनीता ठाकुर ने भी मोर्चा संभाल लिया है. इसी के चलते दो थानाधिकारियों के लीड करने के निर्देश दिए है. शेष पुलिस जाब्ता मोतली मोड़ पर तैनात रहेगा. मोतली मोड़ की टीम बैकअप के लिए मूव करेगी. वहीं खैरवाड़ा में घुसने की कोशिश ने पुलिस ने नाकाम किया है. शुक्रवार को लगभग सौ से अधिक जवानों को पथराव के चलते छोटी-मोटी चोटें आ चुकी हैं.आंदोलनकारियों के चलते उदयपुर-अहमदाबाद हाईवे बीस घंटे से बाधित है. उदयपुर से जाने वाले वाहनों को खेरवाड़ा होकर गुजरात भेजने के प्रयास भी निष्फल हो चुके हैं. 

यह है आंदोलनकारियों की मांग:
आंदोलनकारियों की मांग है कि जनजाति क्षेत्र में तृतीय श्रेणी शिक्षक भर्ती के रिक्त सामान्य वर्ग के 1167 पदों पर जनजाति अभ्यर्थियों से भरने की है. यह मुद्दा हाईकोर्ट में भी उठाया गया और हाईकोर्ट ने उनकी याचिका रद्द कर दी थी. 

डूंगरपुर में लगातार चल रहा उग्र आंदोलन, लोगों ने कई गाड़िया फूंकी, प्रशासन ने इंटरनेट सेवा पर लगाई रोक

डूंगरपुर में लगातार चल रहा उग्र आंदोलन, लोगों ने कई गाड़िया फूंकी, प्रशासन ने इंटरनेट सेवा पर लगाई रोक

डूंगरपुर: जिले के भुवाली के पास एनएच 8 पर अभी तनावपूर्ण हालात बने हुए है. पुलिस और उपद्रवी एक बार फिर आमने-सामने हुए हैं. इस दौरान पुलिस और उपद्रवियों के बीच लाठी-भाटा जंग भी हुई. पुलिस रबड बुलैट तथा आंसूगैस के गोल दागकर उन्हें खदेड़ने का प्रयास कर रही है लेकिन प्रदर्शनकारियों ने कांकरी डूंगरी पहाड़ी के निकट राष्ट्रीय राजमार्ग आठ के लगभग आठ किलोमीटर पर कब्जा जमाए हुए हैं.

आंदोलनकारियों ने सात ट्रकों को आग लगा दी:
उग्र आंदोलनकारियों ने सात ट्रकों को आग लगा दी तथा सामान लूट लिया. उग्र आंदोलन की वजह से पुलिस को पीछा लौटना पड़ा है. डूंगरपुर जिले के अलावा उदयपुर तथा आसपास जिलों से सशस्त्र पुलिस बल मौके पर बना हुआ है. घटना स्थल पर डूंगरपुर के पुलिस अधीक्षक भी बने हुए हैं. 

उपद्रवियों ने भुवाली पेट्रोल पंप में लूटपाट की: 
वहीं मामले को बढ़ता देख प्रशासन ने इंटरनेट सेवा पर रोक लगाई है. उपद्रवियों ने भुवाली पेट्रोल पंप में लूटपाट की है. इसके साथ ही पेट्रोल पंप के बाहर आग लगाने की घटना को भी अंजाम दिया गया है. उधर, जनप्रतिनिधियों का एक मंडल मोतली मोड़ पहुंचा है. पूर्व विधायक देवेंद्र कटारा के नेतृत्व में 10 सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल मोतली मोड़ से पैदल-पैदल उपद्रवियों की ओर रवाना हुआ है. प्रतिनिधिमंडल उपद्रवियों को समझाने का प्रयास करेंगे. 

{related}

आईजी विनीता ठाकुर ने संभाला मोर्चा:
मालले को बढ़ता देख आईजी विनीता ठाकुर ने भी मोर्चा संभाल लिया है. इसी के चलते दो थानाधिकारियों के लीड करने के निर्देश दिए है. शेष पुलिस जाब्ता मोतली मोड़ पर तैनात रहेगा. मोतली मोड़ की टीम बैकअप के लिए मूव करेगी. वहीं खैरवाड़ा में घुसने की कोशिश ने पुलिस ने नाकाम किया है. शुक्रवार को लगभग सौ से अधिक जवानों को पथराव के चलते छोटी-मोटी चोटें आ चुकी हैं.

बीस घंटे से हाईवे जाम:
आंदोलनकारियों के चलते उदयपुर-अहमदाबाद हाईवे बीस घंटे से बाधित है. उदयपुर से जाने वाले वाहनों को खेरवाड़ा होकर गुजरात भेजने के प्रयास भी निष्फल हो चुके हैं. 

यह है आंदोलनकारियों की मांग:
आंदोलनकारियों की मांग है कि जनजाति क्षेत्र में तृतीय श्रेणी शिक्षक भर्ती के रिक्त सामान्य वर्ग के 1167 पदों पर जनजाति अभ्यर्थियों से भरने की है. यह मुद्दा हाईकोर्ट में भी उठाया गया और हाईकोर्ट ने उनकी याचिका रद्द कर दी थी. 

डूंगरपुर: 1167 खाली पद भरने की मांग को लेकर उपद्रवी नहीं आ रहे नियंत्रण में, कई और गाड़ियों को फूंका

डूंगरपुर: 1167 खाली पद भरने की मांग को लेकर उपद्रवी नहीं आ रहे नियंत्रण में, कई और गाड़ियों को फूंका

डूंगरपुर: जिले के भुवाली के पास एनएच 8 पर अभी स्थिति तनावपूर्ण बनी हुई है. उपद्रवियों भुवाली पेट्रोल पंप और मोतली मोड़ के पास अतिथि होटल पर भी तोड़फोड़ की और वहां पर खड़े पुलिस के वाहनों को भी आग लगा दी. उपद्रवी थोड़ी थोड़ी देर पथराव कर रहे हैं. इसके साथ ही पुलिस को फिर से 2 किलोमीटर तक खदेड़ा है. मामले को बढ़ता देख डूंगरपुर में पुलिस ने निगरानी के लिए ड्रोन उड़ाया है. ऐसे में उपद्रवी ड्रोन की नजर में भी आ रहे हैं.

हाईवे खाली कराने पहुंची पुलिस पर पहाड़ी से पथराव किया गया: 
वहीं उपद्रवियों से हाईवे खाली कराने पहुंची पुलिस पर पहाड़ी से पथराव किया गया. उपद्रवी ट्यूब से बनाई गुलेल से पुलिस पर पत्थर फेंक रहे हैं. उधर, प्रशासन वार्ता के जरिए मामले को हल करने में भी लगा है. दस लोगों के प्रतिनिधिमंडल से प्रशासन वार्ता के प्रयास में जुटा है.

{related}

घायल पुलिस कर्मियों का बिछीवाड़ा व अन्य अस्पताल में उपचार जारी: 
पथराव में घायल बिछीवाड़ा थानाधिकारी को रेफर किया गया है. अन्य घायल पुलिस कर्मियों का बिछीवाड़ा व अन्य अस्पताल में उपचार जारी है. इधर पथराव में घायल एएसपी गणपति महावर का जिला अस्पताल में उपचार जारी है. घायल एएसपी ने बताया कि उन्होंने ट्रक के पीछे लटक कर अपनी जान बचाई.

आंदोलन की वजह:
उल्लेखनीय है कि रीट 2018 में रिक्त रहे 1167 अनारक्षित सीटों को एसटी अभ्यर्थियों द्वारा भरे जाने की मांग को लेकर पिछले 18 दिनों से उदयपुर-डूंगरपुर सीमा के पास कांकरी डूंगरी पर चल रहे महापड़ाव ने आज उग्र रूप धारण कर लिया. डूंगरपुर में NH-8 पर हालात बेकाबू होते जा रहे है. उपद्रवियों ने एसपी जय यादव की गाड़ी को आग के हवाले कर दिया. महापड़ाव में मौजूद हजारों की तादाद में आदिवासी अभ्यर्थियों ने उदयपुर-अहमदाबाद हाईवे संख्या 8 को जाम कर दिया. यही नहीं इन अभ्यर्थियों ने भारी संख्या में मौजूद पुलिस बल पर जमकर पथराव किया और पुलिस के करीब आधे दर्जन से ज्यादा वाहनों को आग के हवाले कर दिया.


 

डूंगरपुर में ST अभ्यर्थियों ने लगाया NH-8 पर जाम, प्रदर्शनकारियों के पथराव में कई पुलिसकर्मी हुए घायल

डूंगरपुर: शिक्षक भर्ती 2018 के अनारक्षित रिक्त पदों को एसटी वर्ग से भरने की मांग को लेकर डूंगरपुर में ST अभ्यर्थियों द्वारा एनएच 8 पर जाम लगा दिया है. जिससे मौके पर माहौल गर्माया गया है. प्रदर्शनकारियों ने पुलिस पर पत्थरबाजी की. जवाब में पुलिस ने आंसू गैस के गोले छोड़े है. जानकारी के मुताबिक पथराव में कई पुलिसकर्मियों के घायल होने की सूचना भी मिली है. SDO के ड्राइवर के भी घायल होने की खबर मिली है. प्रदर्शनकारी रिक्त पदों को भरने की मांग कर रहे. 

प्रदर्शनकारियों ने की कई गाड़ियों में भी तोड़फोड़:
जानकारी के मुताबिक ST अभ्यर्थियों द्वारा ASP को बंधक बनाये जाने की सूचना भी मिली है. प्रदर्शनकारियों के पथराव में कई पुलिसकर्मी घायल हो गए है. डूंगरपुर एसडीएम का चालक भी घायल हो गया है.प्रदर्शनकारियों ने कई गाड़ियों में भी तोड़फोड़ की. अभ्यर्थियों ने 18 दिन से कांकरी डूंगरी पर पड़ाव डाल रखा था.

{related}