नाबालिग का अपहरण कर दुष्कर्म करने के मामले में मुख्य दोषी बाल अपचारी को आजीवन कारावास

नाबालिग का अपहरण कर दुष्कर्म करने के मामले में मुख्य दोषी बाल अपचारी को आजीवन कारावास

नाबालिग का अपहरण कर दुष्कर्म करने के मामले में मुख्य दोषी बाल अपचारी को आजीवन कारावास

डूंगरपुर: जिले की पॉक्सो कोर्ट ने नाबालिग का अपहरण कर दुष्कर्म के मामले में मुख्य दोषी बाल अपचारी को आजीवन कारावास की सजा वहीं सहयोगी को 10 साल के कठोर कारावास की सजा सुनाई है. कोर्ट ने दोनों दोषियों पर 16-16 हजार रुपए का जुर्माना भी लगाया है. विशिष्ठ लोक अभियोजक योगेश जोशी ने बताया की मामला कोतवाली थाना क्षेत्र में 15 अगस्त 2017 का है. पीड़िता अपने मामा के घर से अपने गांव जाने के लिए निकली थी इस दौरान शहर की गेप सागर की पाल से आरोपी बाल अपचारी अपने साथी मुकेश डामोर के साथ आया और नाबालिग का अपहरण कर साबली कम्पे पर ले गए वहा बंद कमरे में आरोपी बाल अपचारी ने नाबालिग के साथ दुष्कर्म किया.

21 साल का होने तक सम्प्रेष्ण गृह में रखा जाएगा: 
मामले में पीड़िता के परिजनों ने 17 अगस्त को कोतवाली थाने में मामला दर्ज करवाया था जिस पर पुलिस ने बाल अपचारी को डिटेन कर उसके साथी मुकेश को गिरफ्तार किया था. मामले में पुलिस ने कोर्ट में चालान पेश किया था. इसी मामले में अंतिम सुनवाई करते हुए पॉक्सो कोर्ट ने मुख्य दोषी बाल अपचारी को आजीवन कारावास की सजा सुनाई जिसमे 21 साल का होने तक सम्प्रेष्ण गृह में रखने व बालिग होने पर जेल भेजने के आदेश दिए. वहीं उसके सहयोगी मुकेश डामोर को 10 साल के कठोर कारावास की सजा सुनाई. 

और पढ़ें