Live News »

लगातार बारिश के कारण हुआ जनजीवन अस्त-व्यस्त, बने बाढ़ के हालात

लगातार बारिश के कारण हुआ जनजीवन अस्त-व्यस्त, बने बाढ़ के हालात

छीपाबड़ौद(बारां): लगातार ल्हासी डेम से पानी की निकासी की जा रही है. कई इलाकों मे बारिश के कारण आम जनजीवन बुरी तरह से प्रभावित हुआ है. उपखण्ड से कई गांवों का संपर्क कट गया है. साथ ही कई हिस्सों में भी बाढ़ जैसे हालात के कारण सार्वजनिक संपत्तियों को भी काफी नुकसान हुआ है. 

सरकारी विभागों में भरा पानी: 
कस्बे के सरकारी महकमे बारिश से ज्यादा प्रभावित है जिनमे पुलिस थाना भवन, राजकीय दानमल स्कूल दानमल ,वन विभाग ,पंचायत समिति, विद्युत विभाग समेत और भी अन्य कार्यालयो में लगातार पानी भरा हुआ देखने को मिल रहा है. इधर सारथल में मूसलाधार बारिश होने के कारण कस्बे की निचली बस्ती बसेड़ा बस्ती, हरिजन बस्ती, समेत मेला मैदान स्थित दुकानों में पानी घुसने से यहां के रहवासियों को खासा नुकसान उठाना पड़ रहा है. वहीं, बारिश के कारण कच्चे मकानों की दीवारे गिरने का सिलसिला लगातार जारी है. रोजाना क्षेत्र में दस से बारह मकानों की दीवारे गिरना आम बात हो गई है.  

हाईवे समेत तमाम रास्ते हुए बंद: 
बारिश के चलते राष्ट्रीय राजमार्ग 90 जो अकलेरा से जोड़ता है वहां  पर 2 महीने से वाहनों की आवाजाही बंद है. इसके अलावा कई गांवो की सड़कों पर वाहनों की आवाजाही अवरुद्ध है. उपखण्ड में इस बार अब तक की सबसे अधिक बारिश मानी जा रही है.  
 

और पढ़ें

Most Related Stories

छीपाबड़ौद में बारिश से जनजीवन बेहाल, पुलिस थाने में भरा पानी

छीपाबड़ौद में बारिश से जनजीवन बेहाल, पुलिस थाने में भरा पानी

छीपाबड़ौद(बारां): उपखंड क्षेत्र में लासी डैम के तीनों गेट खोल कर लगातार पानी की निकासी जारी है जिसके चलते सभी नदी नालों का बहाव तेजी से बढ़ रहा है. सबसे ज्यादा बेहाल है छीपाबड़ौद पुलिस थाना, वो आमजन की समस्या सुने या अपनी समस्याएं देखें. बात की जाए छीपाबड़ौद के सरकारी महकमों की तो जहां थाना छीपाबड़ौद में 4 फीट पानी भरा हुआ है. वहीं कस्बे का माध्यमिक विद्यालय पंचायत समिति कार्यालय भी इससे अछूते नहीं हैं. पूरे थाना भवन में पानी टपक रहा है तो वहीं पुलिसकर्मी अपने रहने खाने-पीने के चलते परेशानी उठा रहे है. 5 दिनों से मेस बंद पड़ा हुआ है कल ही पनडुब्बी लगाकर पानी की निकासी की गई थी लेकिन रात्रि को ही फिर मूसलाधार बारिश आने से थाने में  फिर 4 फीट पानी भर गया.

पुलिसकर्मी नए थाना भवन में पलायन करने को मजबूर: 
अव्यवस्था के चलते पुलिसकर्मी नए थाना भवन में पलायन करने को मजबूर हो रहे हैं. इधर लासी डैम विस्थापितों परिवारों ने नदी के कुछ हिस्से को घुमाव देने की बात कही. उनका कहना है कि डैम से छोड़े जाने वाला पानी कॉलोनी में भर जाता है जब भी डेम से पानी छोड़ा जाता है उनके अन्दर एक भय बना रहता है. 10 और 11 तारीख को प्रशासन द्वारा भारी बारिश को लेकर अलर्ट जारी किया है. अगर इसी तरह से बारिश आती है तो छीपाबड़ोद को फिर बाढ़ का सामना करना पड़ेगा. 

Open Covid-19