प्रदेशभर के शराब व्यवसायियों ने आबकारी विभाग के खिलाफ बजाया आंदोलन का बिगुल

Nirmal Tiwari Published Date 2019/08/26 03:48

जयपुर: प्रदेशभर के शराब व्यवसायियों ने आज आबकारी विभाग के खिलाफ आंदोलन का बिगुल बजा दिया. राजधानी में जुटे सैकड़ों शराब व्यवसायियों ने आज वित्त भवन पहुंचकर जोरदार नारेबाजी की और अतिरिक्त आबकारी आयुक्त मातादीन शर्मा का घेराव किया. नारेबाजी करते हुए शराब व्यवसायी सचिवालय पहुंचे और वित्त विभाग के एसीएस निरंजन आर्य और एफएसआर डॉ. पृथ्वी को भी को मांग पत्र सौंपा जिसमें उनकी मांगे न मानने की स्थिति में कल से शराब दुकानों पर ताला लगाने की चेतावनी दी. दरअसल पिछले दिनों आबकारी विभाग ने प्रदेश के पांच जिलों में शराब दुकानों पर ओवर रेट वसूली को लेकर डिकॉय ऑपरेशन करवाया था. इसके बाद से शराब व्यवसायियों में आक्रोश पनपा.

लाखों रुपए का लगाया जाता है जुर्माना: 
शराब लाइसेंसियों का आरोप है कि आबकारी नीति में उन्हें 20 फीसदी कमीशन का प्रावधान है लेकिन उन्हें 12 फीसदी कमीशन ही मिलता है. यही नहीं हर तीन महीने में लिफ्टिंग का लक्ष्य बढ़ा दिया जाता है और तय सीमा में शराब न बेचने पर लाखों रुपए जुर्माना लगाया जाता है. लाइसेंसियों ने साफ कहा कि वे जबरन किसी को शराब नहीं पिला सकते. ऐसे में सरकार को चाहिए कि वे लिफ्टिंग की बाध्यता को समापत करे. शराब लाइसेंसियों ने यह भी कहा कि विभाग और पुलिस उनकी दुकानों पर कई बार जबरन केस बनाते हैं ताकि विभागीय लक्ष्यों को पूरा कर सकें. इसलिए यह व्यवस्था भी समाप्त हो.

ठोस आश्वासन नहीं मिलने पर कल से दुकान बंद करने का ऐलान: 
लाइसेंसियों ने यह भी कहा कि शराब की दरें तो चार महीने में चार बार बढ़ा दी लेकिन उन्हें डिपो से दी जा रही शराब पर पुरानी दरें अंकित हैं इससे उपभोक्ताओं में भ्रम पैदा होता है. राजधानी में सैंकडों जगह अवैध शराब बिक रही है इस पर विभाग का कोई नियंत्रण नहीं है. कुल मिलाकर शराब व्यवसायियों ने अपनी समस्या बताते हुए साफ कहा कि आज शाम तक कोई ठोस आश्वासन नहीं मिला तो कल से दुकान बंद कर देंगे. 

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in