लॉकडाउन ने बदल दी आरपीएफ की ड्यूटी, 152 जवान स्टेशन आने-जाने वालों को दे रहे अपनेपन का अहसास

लॉकडाउन ने बदल दी आरपीएफ की ड्यूटी, 152 जवान स्टेशन आने-जाने वालों को दे रहे अपनेपन का अहसास

जयपुर: रेलवे स्टेशन पर आने वाले यात्रियों, श्रमिकों एवं उनके परिवार को इन दिनों खाकी वर्दी का एक अलग ही रूप देखने को मिल रहा है. कोरोना के संक्रमण को रोकने के लिए पिछले 58 दिनों से जब नियमित यात्री ट्रेनों का संचालन बंद है. इस दौरान रेलवे सुरक्षा बल (आरपीएफ) की डयूटी का स्वरूप ही बदल गया है. पहले जहां ट्रेनें बंद होने पर आरपीएफ जवान ट्रेनों के खाली रैक की सुरक्षा कर रहे थे. वहीं अब श्रमिक और स्पेशल ट्रेनों से आने-जाने वाले लोगों की सेवा कर, उन्हें अपनेपन का अहसास करा रहे हैं.

मजदूरों के लिए बसों को लेकर बोली प्रियंका गांधी, कहा- बीजेपी के झंडे लगाने हों तो लगा लें लेकिन परमिशन दीजिए 

श्रमिकों एवं उनके परिवार को खाने के पैकेट उपलब्ध करवाए जा रहे: 
जयपुर जंक्शन आरपीएफ पोस्ट के इंस्पेक्टर राजकुमार ने बताया कि जंक्शन पर इन दिनों 152 जवान रात-दिन ड्यूटी कर रहे हैं. सभी जवानों ने अपनी सैलरी में से एक हजार रूपए इकट्ठे कर एक स्पेशल फंड बनाया है. इस फंड में जयपुर कमांडेंट एमएम खान ने भी अपनी सैलरी में से 10 हजार रूपए की सहायता की है. जिससे स्टेशन पर आने जाने वाले श्रमिकों एवं उनके परिवार को खाने के पैकेट उपलब्ध करवाए जा रहे हैं. स्टेशन आ रहे बच्चों को चॉकलेट, खिलौने भी दे रहे हैं. ताकि वे भय के माहौल से निकल, अच्छा महसूस करें और उन्हें अपनेपन का अहसास हो.

कोरोना काल के सच्चे पब्लिक सर्वेंट, चार युवा IAS अधिकारियों ने जरूरतमंदों की मदद कर छोड़ी छाप 

कोच के अंदर यात्रियों को पेयजल भी उपलब्ध करवा रहे:
करीब 50 जवान स्टेशन पर आने-जाने वाले बुजुर्ग और दिव्यांग यात्रियों को स्टेशन की एंट्री से रिसीव कर, उन्हें व्हील चेयर पर बिठाकर ट्रेन के कोच तक छोड़ते हैं. इसके साथ ही जवान कोच के अंदर यात्रियों को पेयजल भी उपलब्ध करवा रहे हैं.

...फर्स्ट इंडिया के लिए संवाददाता काशीराम चौधरी की रिपोर्ट

और पढ़ें