Live News »

 500 वर्ग किलोमीटर नहरी एरिया में टिड्डी दल का हमला, लाखों की फसल बर्बाद
500 वर्ग किलोमीटर नहरी एरिया में टिड्डी दल का हमला, लाखों की फसल बर्बाद

जैसलमेर: पाकिस्तान की ओर से आईं टिड्डियों ने राजस्थान में हजारों हेक्टेयर फसलें चट कर डाली हैं. किसानों की नींद उड़ी हुई है, क्योंकि खून-पसीने वाली सालभर की मेहनत पर पानी फिर गया है. टिड्डी दल जहां से भी गुजर रहे हैं वहीं पूरी की पूरी फसल बर्बाद हो रही है. जैसलमेर में इन दिनों एक और जहां हाड़ कंपा देने वाली ठंड ने आमजन को परेशान कर रखा है वहीं पाकिस्तान से आए टिड्डी दल ने किसानों की नींद हराम कर रखी है. सरकारी प्रयास जहां नाकाफी साबित हो रहे हैं वहीं अब किसान खुद अपने अपने जुगाड़ के साथ टिड्डियों के खात्मे में जुट गए हैं.  

500 वर्ग किलोमीटर में टिड्डी दल फैला हुआ: 
जैसलमेर के नहरी इलाके में इन दिनों 500 वर्ग किलोमीटर में टिड्डी दल फैला हुआ है  और वह किसानों की फसलों को चौपट कर रहा है. अपनी नजरों के सामने फसलों को चौपट होते देख  किसान ठगा सा रह गया है. सरकारी मशीनरी जहां समय पर नहीं पहुंचती है वहां खेत के खेत टिड्डी दल साफ कर रहा है. किसान दुखी होकर एक हो गए हैं और अपने अपने संसाधनों के साथ टिड्डियों के खात्मे को निकल पड़े हैं. 600 के करीब ट्रैक्टर और 2000 के करीब किसान एक साथ जुटकर टिड्डियों के खात्मे को निकल पड़े हैं. लेकिन टिड्डी है जो खत्म होने का नाम नहीं ले रही. सरकार भी काफी प्रयास कर रही है लेकिन सारे के सारे प्रयास नाकाफी साबित हो रहे हैं. टिड्डियों का इतना बड़ा झुंड पहली बार जैसलमेर में नजर आया है जो कई किलोमीटर तक फैला हुआ है. जिसको मारना बहुत बड़ा चैलेंज हो गया है. 

टिड्डियों पर नियंत्रण के लिए युद्धस्तर पर प्रयास जारी: 
वहीं प्रशासन की बात करें तो जैसलमेर जिले में टिड्डियों पर नियंत्रण के लिए युद्धस्तर पर प्रयास जारी हैं. टिड्डियों पर नियंत्रण की दृष्टि से जिला प्रशासन के निर्देशों पर टिड्डी नियंत्रण सहित संबंधित विभागों की ओर से टिड्डी प्रभावित क्षेत्रों में कीटनाशकों के व्यापक स्प्रे की वजह से टिड्डियों पर प्रभावी नियंत्रण संभव हुआ है. आज भोर में जैसलमेर जिले के भैंसड़ा क्षेत्र में क्लोरोपायरीफॉस 50 ईसी के छिड़काव का कारगर असर सामने आया और अनगिनत टिड्डियों का खात्मा हुआ. लेकिन टिडडी दल खत्म होते नज़र नहीं आ रहे हैं. किसानों की अरबों की फसल को वे चट कर चुके हैं और अगर ये टिडडी दल नहीं रुके तो किसान कहीं के नहीं रहेंगे. राज्य सरकार की तो प्रदेश सरकार के कैबिनेट मंत्री साले मोहम्मद पिछले लंबे समय से नियंत्रण के कार्यों में गति लाने के प्रयासों में जुटे हुए हैं.

राज्य सरकार नियंत्रण के लिए हर संभव प्रयास कर रही: 
मंत्री साले मोहम्मद का कहना है कि राज्य सरकार नियंत्रण के लिए हर संभव प्रयास कर रही है. राज्य सरकार के अधीन आने वाले कृषि विभाग के तहत टिड्डियों को मारने के कीटनाशक की सप्लाई पूरी की जा चुकी है. वहीं अधिकारियों की एक बड़ी फौज को फील्ड में लगाया गया है. मंत्री साले मोहम्मद ने कहा कि उन्होंने केंद्र सरकार को एक पत्र भी लिखा है जिसमें स्थानीय किसानों को राहत देने की मांग की गई है. मंत्री साले मोहम्मद ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि वे किसानों के दर्द को अच्छी तरह से समझते हैं, फील्ड में दौरा कर किसानों के हालातों से भी रूबरू हुए हैं और उन्होंने देखा है कि किस तरह किसान इन हालातों में बेबस और मजबूर दिखाई दे रहा है. मंत्री साले मोहम्मद ने बताया कि समय रहते अगर केंद्र सरकार ने टिड्डी नियंत्रण को लेकर प्रभावी कदम उठाए होते तो आज सीमावर्ती जिले के किसानों को यह दिन देखने को नहीं मिलता. उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार के स्तर पर अगर पाक सरकार से समय रहते बात की जाती तो टिड्डियों पर नियंत्रण किया जा सकता था.

सीएम ने भी लिया प्रभावित क्षेत्रों का जायजा:
वही मुख्यमंत्री ने भी दल प्रभावित क्षेत्रों का दौरा कर हालात का पूरा जायजा लिया है. राज्य सरकार स्थिति पर प्रभावी नियंत्रण के लिए प्रयासरत है जिन किसानों को नुकसान हुआ है उनको सरकार पर्याप्त मुआवजा देगी गिरदावरी रिपोर्ट के निर्देश दिए हैं और राज्य सरकार किसानों को मुआवजा राशि दे देगी. वही जैसलमेर विधायक रूपाराम ने कहा कि जैसलमेर जिले में टिड्डी विभाग के पास ना तो कोई संसाधन है ना ही पर्याप्त मात्रा में कीटनाशक है और कम स्टाफ के चलते विस्तृत भू-भाग में फैले सरहदी इलाके में टिड्डियों को नियंत्रित करने में यह विभाग पूरी तरह से विफल रहा है. उन्होंने कहा कि भले ही केंद्र सरकार अपनी जिम्मेदारी से मुंह मोड़े लेकिन प्रदेश की गहलोत सरकार इस विकट परिस्थिति में किसान के साथ खड़ी है और किसानों को हुए नुकसान की गिरदावरी करवाकर उन्हें मदद दिलाने का काम कर रही है. 

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें
और पढ़ें

Stories You May be Interested in