close ads


लोकसभा 11 मार्च तक स्‍थगित, हंगामे की जांच के लिए समिति गठित

 लोकसभा 11 मार्च तक स्‍थगित, हंगामे की जांच के लिए समिति गठित

नई दिल्ली: कांग्रेस के 7 सदस्यों को पूरे सत्र के लिए निलम्बित किए जाने के बाद लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने सदन में 3 से 5 मार्च के बीच हुई घटनाओं की जांच के लिए सर्वदलीय समिति गठित करने की घोषणा की है. शुक्रवार को लोकसभा में पीठासीन उपाध्यक्ष डॉ किरीट सोलंकी ने यह जानकारी देते हुए बताया कि समिति में सभी दलों को प्रतिनिधित्व दिया जाएगा और ओम बिरला खुद इस समिति के अध्यक्ष होंगे. 

कांग्रेस के सातों सदस्यों का निलम्बन वापस लेने की मांग :
यह समिति सदन में 3 से 5 मार्च के बीच हुई घटनाओं की जांच करेगी. कांग्रेस समेत सभी विपक्षी दल लोकसभा अध्यक्ष से कांग्रेस के सातों सदस्यों का निलम्बन वापस लेने की मांग कर रहे हैं. समझा जाता है कि समिति की जांच के आधार पर निलम्बित सदस्यों का निलम्बन वापस लेने के बारे में विचार किया जा सकता है, हालांकि डॉ सोलंकी ने सदन में सिर्फ इतना कहा कि समिति 3 से 5 मार्च के बीच की कार्यवाही के दौरान हुई घटनाओं की जांच करेगी. 

मध्यप्रदेश में होने वाला आईफा अवॉर्ड्स कैंसिल, कोरोना वायरस की वजह से टला आयोजन  

दिल्ली हिंसा पर तत्काल चर्चा शुरू कराने की मांग:
उल्लेखनीय है कि संसद के बजट सत्र के दूसरे चरण की शुरूआत से दिल्ली हिंसा पर तत्काल चर्चा शुरू कराने की मांग पर अड़े कांग्रेस और अन्य विपक्षी सदस्यों के शोर-शराबे के कारण सदन की कार्यवाही सुचारू तरीके से नहीं चल पा रही है. गुरूवार को कांग्रेस के कुछ सदस्यों ने हंगामे के बीच ही अध्यक्ष की पीठ से कुछ कागज उठाकर फाड़ दिए और उछाल दिए थे, जिसके बाद सात कांग्रेस सदस्यों को मौजूदा सत्र की शेष अवधि के लिए निलंबित कर दिया गया.

लोकसभा की कार्यवाही स्थगित:
इन सदस्यों में गौरव गोगोई, टीएन प्रतापन, डीन कुरियाकोस, राजमोहन उन्नीथन, बैनी बहनान, मणिकम टेगोर और गुरजीत सिंह औजला शामिल हैं. वहीं, शुक्रवार को कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी सहित कुछ विपक्षी दलों ने अध्यक्ष से कांग्रेस के सात सदस्यों के निलंबन के निर्णय पर पुनर्विचार करने की अपील की. लोकसभा की कार्यवाही आज स्थगित हो गई है और अब सदन की कार्यवाही 11 मार्च से शुरु होगी.

VIDEO: एयरपोर्ट पर मिले 2 कोरोना संदिग्ध! दुबई से पहुंचे थे जयपुर

और पढ़ें