प्रदेश में नए जिलों के लिए अभी करना होगा लंबा इंतजार, विधानसभा में उठा मुद्दा 

Naresh Sharma Published Date 2019/07/18 09:49

जयपुर: प्रदेश में नए जिलों के गठन के लिए लगातार मांग उठ रही है, लेकिन फिलहाल नए जिलों के लिए अभी लंबा इंतजार करना होगा. राजस्व मंत्री हरीश चौधरी ने गुरुवार को राज्य विधानसभा में बताया कि नवीन जिलोें के गठन एवं पुनर्गठन समिति की रिपोर्ट अभी तक विभाग को प्राप्त नहीं हुई है. रिपोर्ट आने के बाद आगे की प्रक्रिया शुरू की जाएगी. उन्होंने कहा कि रिपोर्ट और गुणा व गुणन के आधार पर नवीन जिलों के निर्माण पर फैसला किया जाएगा. 

विधायक मदन प्रजापत ने उठाया मुद्दा:
विधायक मदन प्रजापत ने बालोतरा को जिला बनाने के संबंध में प्रश्न लगाया था. मदन प्रजापत ने बुधवार को अनुदान मांगों पर चर्चा के दौरान हुई यह मांग उठाई थी. इसके जवाब में राजस्व मंत्री हरीश चौधरी ने कहा कि मेरी व्यक्तिगत राय कुछ भी हो सकती है, लेकिन मंत्री के रूप में मुझे नियमों के अनुसार ही काम करना पड़ेगा. चौधरी ने बताया कि समिति का गठन आदेश दिनांक 20.01.2014 के द्वारा किया गया था. उन्होंने बताया कि समिति के अध्यक्ष द्वारा वर्ष 2018 में सरकार को एक रिपोर्ट प्रस्तुत की है. उन्होंने बताया कि वर्तमान में नवीन जिला बनाने का प्रस्ताव राज्य सरकार के एक्टिव कंसीडरेशन में नहीं है. प्रशासनिक आवश्यकता एवं वित्तीय संसाधनों की उपलब्धता के आधार पर सक्षम स्तर पर विचार कर यथोचित निर्णय लिया जाएगा. 

धारियावद को नगरपालिका बनाने के बारे में भी प्रश्न: 
सदन में आज प्रतापगढ जिले के धारियावद को नगरपालिका बनाने के बारे में भी प्रश्न पूछा गया. स्वायत्त शासन मंत्री  शांति धारीवाल ने कहा है कि सरकार किसी ग्राम पंचायत को नगरपालिका बनाने के लिए जिला कलक्टर द्वारा निर्धारित बिन्दुओं के आधार पर तथ्यात्मक टिप्पणी के साथ अनुशंसा प्राप्त होने पर ही विचार कर सकती है. प्रतापगढ जिले के धारियावद को नगरपालिका बनाने के लिए भी जिला कलक्टर की अनुशंसा आवश्यक है. 

सीपी जोशी का मामले में हस्तक्षेप:
धारीवाल ने कहा कि धारियावद की जनसंख्या केवल 11 हजार 368 है. इसे नगरपालिका बनाने के लिए पूर्ववर्ती सरकार के समय भी वस्तुस्थिति की जानकारी के साथ अनुशंसात्मक टिप्पणी के लिए तत्कालीन जिला कलक्टर को बार-बार लिखा गया, लेकिन कोई जवाब प्राप्त नहीं हुआ. विधानसभा अध्यक्ष सी.पी.जोशी ने मामले में हस्तक्षेप करते हुए कहा कि जनजातीय उप योजना का पैसा राज्य सरकार को मिलता है. प्रतापगढ जिले में प्रतापगढ कस्बे के बाद धारियावद ही सबसे बड़ा कस्बा है. उन्होंने कहा कि अगर धारियावाद को नगरपालिका बनाया जाता है तो इसे लेकर आदिवासी इलाके के लोगाें में अच्छा संदेश जाएगा. 
 

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in