Dungarpur Violence: खेरवाड़ा कस्बे में उपद्रवियों का तांडव, श्रीनाथ कॉलोनी के 100 से ज्यादा घरों में की लूटपाट और तोड़फोड़

Dungarpur Violence: खेरवाड़ा कस्बे में उपद्रवियों का तांडव, श्रीनाथ कॉलोनी के 100 से ज्यादा घरों में की लूटपाट और तोड़फोड़

Dungarpur Violence:  खेरवाड़ा कस्बे में उपद्रवियों का तांडव, श्रीनाथ कॉलोनी के 100 से ज्यादा घरों में की लूटपाट और तोड़फोड़

डूंगरपुर: प्रदेश के डूंगरपुर जिले की कांकरी डूंगरी से शुरू हुए आदिवासियों के प्रदर्शन की आग तीसरे दिन भी थमने का नाम ही नहीं ले रही है. उदयपुर-अहमदाबाद हाइवे पर लगातार तनाव का माहौल बना हुआ है. अब उपद्रवियों ने खेरवाड़ा कस्बे की श्रीनाथ कॉलोनी में तांडव मचाया है. उपद्रवी यहां पर घरों में घुसकर लूटपाट और तोड़फोड़ की है. जानकारी के अनुसार उपद्रवियों ने यहां पर 100 से ज्यादा घरों में लूटपाट और तोड़फोड़ की है. इस पूरे मामले पर पुलिस और प्रशासन मूकदर्शक बना हुआ है. कस्बे के हालात नियंत्रण से बाहर नजर आ रहे है. कस्बे के वासी खौफजदा है. 

Image

तीन वरिष्ठ पुलिस अधिकारी जा रहे है डूंगरपुर:
उपद्रव और हिंसा पर नियंत्रण के लिए प्रदेश के तीन वरिष्ठ पुलिस अधिकारी  डूंगरपुर जा रहे है. डीजी एमएल लाठर, एडीजी दिनेश एमएन और पुलिस कमिश्नर आनंद श्रीवास्तव डूंगरपुर जा रहे है. थोड़ी देर में राज्य सरकार के हैलीकॉप्टर से उदयपुर रवाना होंगे. 

डूंगरपुर में प्रदर्शन को लेकर बड़ा अपडेट, हिंसक प्रदर्शन को लेकर बाहरी लोगों के भी हाथ होने की खबर

खैरवाड़ा कस्बे में स्थिति बेहद तनावपूर्ण:
आपको बता दें कि आंदोलनकारी तीसरे दिन भी कस्बे के विभिन्न इलाकों में जमकर आगजनी और लूटपाट की. पुलिस-प्रशासन एक बार फिर से आंदोलनकारियों को पीछे धकेलने में जुटा है. पुलिस द्वारा फायरिंग किए जाने की सूचना मिली है. जिला कलेक्टर चेतन देवड़ा मौके पर पहुंचे है. फिलहाल खैरवाड़ा कस्बे में स्थिति बेहद तनावपूर्ण हो गई है. 

जनजाति अभ्यर्थियों और प्रशासन के बीच वार्ता:
वहीं आज जनजाति अभ्यर्थियों और प्रशासन के बीच वार्ता हुई. यह वार्ता में TAD मंत्री अर्जुन बामणिया की मौजूदगी में हुई. हालांकि यह वार्ता किसी निष्कर्ष पर नहीं पहुंच पाई, लेकिन सभी जनजाति नेताओं ने एक स्वर में शांति कायम करने की मांग की है. आंदोलनकारियों से शांति कायम करने की मांग की गई है. यह  बैठक में CWC मेंबर रघुवीर मीणा के निवास पर हुई. पूर्व सांसद ताराचंद भगोरा, BTP विधायक रामप्रसाद डिंडोर और विधायक राजकुमार रोत बैठक में मौजूद रहे.

Image
यह है आंदोलनकारियों की मांग:
आंदोलनकारियों की मांग है कि जनजाति क्षेत्र में तृतीय श्रेणी शिक्षक भर्ती के रिक्त सामान्य वर्ग के 1167 पदों पर जनजाति अभ्यर्थियों से भरने की है. यह मुद्दा हाईकोर्ट में भी उठाया गया और हाईकोर्ट ने उनकी याचिका रद्द कर दी थी. 

और पढ़ें