Live News »

VIDEO: स्वाइन फ्लू के तेवर कम, लेकिन आंकड़ा बना रहा 'रिकार्ड'

VIDEO: स्वाइन फ्लू के तेवर कम, लेकिन आंकड़ा बना रहा 'रिकार्ड'

जयपुर। आईए अब हम बात करते हैं राजस्थान में मौत बनकर उभर रहे स्वाइन फ्लू को लेकर नई तस्वीर की। प्रदेश में इस साल जनवरी-फरवरी की तुलना में भले की मार्च माह में स्वाइन फ्लू के तेवर कम हुए हो, लेकिन पिछले चार सालों में देखे तो यह आंकड़ा रिकॉर्ड छू रहा है। स्वाइन फ्लू को लेकर क्या है राजस्थान में मौजूदा स्थिति और विभाग रोकथाम के लिए किस प्लानिंग पर कर रहा है काम, एक रिपोर्ट: 

मरूधरा में मौसमी बीमारियों ने पूरे 12 महीने घर कर लिया है। फिर चाहे स्वाइन फ़्लू हो या डेंगू, हर बीमारी मौत के रूप में कहर बरपा रही है। भले ही चिकित्सा विभाग दावा कर रहा हो कि राजस्थान को बीमारू प्रदेश की स्थिति से बाहर ला दिया गया है, लेकिन सच्चाई ये है कि अकेले स्वाइन फ्लू ने इस साल में 186 जानें लील ली है। यानी हर दो दिन में पांच लोग बने मौत का ग्रास। इस दौरान रिकॉर्ड तोड 4808 मरीज पॉजिटिव चिन्हित किए गए। हालांकि चिकित्सा विभाग मार्च आते-आते थोड़ा राहत की सांस ले रहा है। मौत और पॉजिटिव मरीजों का ग्राफ कुछ कम होता नजर आ रहा है, लेकिन चिंता ये है कि यह आंकड़ा भी पिछले सालों की तुलना में काफी अधिक है। ऐसे में अब चिकित्सा विभाग स्वाइन फ्लू की जांच को लेकर केन्द्र सरकार की गाइडलाइन पर फोकस कर रहा है। 

पिछले चार सालों में मार्च में स्वाइन फ्लू की स्थिति:
वर्ष             मौत             पॉजिटिव 

2016           5                   17
2017           9                   39
2018          211                19
2019          644                49

इस साल आधा दर्जन जिलों में सर्वाधिक मौतें:
- प्रदेश में छह जिलों में स्वाइन फ्लू के मौत का आंकड़ा पहुंचा दहाई पार 
- जोधपुर में सर्वाधिक 34 मौत, जयपुर 17, बाड़मेर में 16, कोटा 14, उदयपुर 11, चूरू 10 लोग गंवा चुके जान 
- सिरोही, बारां व झालावाड़ा जिले में इस बार नहीं किसी भी व्यक्ति की मौत 
- पॉजिटिव मरीजों के आंकड़े में जयपुर सबसे ऊपर, 2081 मरीज किए गए पॉजिटिव चिन्हित 

राजस्थान में स्वाइन फ्लू के बढ़ते मामलों को चिकित्सा विभाग माइक्रो सर्विलांस से जोड़कर देख रहा है। विभाग का मानना है कि राजस्थान में जांच का दायरा जिला स्तर पर उपलब्ध है, जिसके चलते मामले बढ़े है। जबकि अगर गाइडलाइन के हिसाब से देखें तो सर्दी, खांसी, जुखाम के केटेगेरी ए के मरीजों को जांच के बजाय सीधे दवा दी जानी चाहिए, लेकिन अब विभाग देशभर में राजस्थान की बदनामी को देखते हुए गाइडलाइन की पालना पर जोर दे रहा है। फील्ड अधिकारियों को गाइडलाइन को समझाने के लिए बकायदा वीडिया कांफ्रेस का आयोजन किया गया है। 

स्वाइन फ्लू के वायरस को रोकने के लिए स्वास्थ्य विभाग ने पूरी ताकत फील्ड में झोक रखी है। हालांकि अभी इसके सकारात्मक परिणाम आने बाकी है। ऐसे में अब जरूरत इस बात की है कि विभाग जागरूकता पर और फोकस करे। खुद चिकित्सकों की मानें तो अगर स्वाइन फ्लू के लक्षण दिखते ही उपचार लेना शुरू किया जाए, तो निश्चित तौर पर स्वाइन फ्लू से होने वाली मौतों पर लगाम कसी जा सकती है। 

...संवाददाता विकास शर्मा की रिपोर्ट 

और पढ़ें

Most Related Stories

कोरोना संकट के बीच सीएम गहलोत के अहम फैसले, 2 अहम परियोजनाओं पर लगाई मुहर

कोरोना संकट के बीच सीएम गहलोत के अहम फैसले, 2 अहम परियोजनाओं पर लगाई मुहर

जयपुर: कोरोना संकट के बीच मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने अहम फैसले लेते हुए दो परियोजना पर मुहर लगाई. सीएम गहलोत ने एक तरफ जहां प्रदेश की 10 कृषि उपज मंडियों में ई-नाम परियोजना से संबंधित समस्त कार्य पायलट प्रोजेक्ट के रूप में कराने को स्वीकृति दी, वहीं राज्य के सभी 33 जिलों के गजेटियर्स नए सिरे से तैयार कराने पर भी अपनी मुहर लगा दी. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत सिर्फ कोरोना मामले में ही व्यस्त नहीं है, बल्कि प्रदेश से जुड़े अन्य अहम कार्यों पर भी फोकस किए हुए हैं. 

प्रदेश की 10 मंडियों में पायलट प्रोजेक्ट को मंजूरी:
सीएम गहलोत ने गुरुवार को दो अहम फैसले किए.पहला फैसला किसानों से जुड़ा है.गहलोत ने प्रदेश की 10 कृषि उपज मंडियों में ई-नाम परियोजना से संबंधित समस्त कार्य पायलट प्रोजेक्ट के रूप में विशेषज्ञ संस्था के माध्यम से कराए जाने के प्रस्ताव को स्वीकृति दी है. इस मंजूरी से इन मंडियों में राष्ट्रीय कृषि बाजार (ई-नाम) परियोजना का कार्य बेहतर ढंग से संचालित हो सकेगा.

स्पीक अप इंडिया अभियान: सोशल मीडिया पर जुड़े कांग्रेसी, केन्द्र सरकार से की मांग, गरीब मजदूरों, श्रमिकों को मिले सीधे पैसा

-राज्य की 25 मंडी समितियों में यह परियोजना चल रही है
-शेष 119 मंडी समितियों को भी इससे जोड़ा जा रहा है
-इस प्रोजेक्ट को सुगम एवं सुचारू संचालित किया जाएगा
-पायलट प्रोजेक्ट के तहत काम करने को दी गई मंजूरी
-12 माह के लिए विशेषज्ञ एजेंसी की सेवाएं ली जाएंगी
-दस मंडियों को दो क्लस्टर में बांटकर काम होगा
-पहले क्लस्टर में कोटा, बारां, रामगंजमंडी, बूंदी एवं देवली शामिल
-दूसरे क्लस्टर में श्रीगंगानगर, नागौर, बीकानेर, मेड़ता सिटी एवं
-जोधपुर अनाज मंडी को शामिल किया गया है

33 जिलों के गजेटियर्स तैयार कराएगी सरकार:
सीएम गहलोत ने एक और अहम परियोजना को मंजूरी देते हुए प्रदेश के सभी 33 जिलों के गजेटियर्स का नए सिरे से लेखन कराने का फैसला किया है. इसके तहत हर साल कम से कम 6 जिलों के गजेटियर का लेखन कर इनका प्रकाशन कराया जाएगा. प्रथम चरण में अलवर, बांसवाड़ा, जोधपुर, करौली, हनुमानगढ़ और प्रतापगढ़ जिलों के गजेटियर्स के लेखन एवं प्रकाशन का कार्य प्रारंभ कर दिया गया है. इनमें से प्रत्येक जिले के लिए 5 लाख रूपए के अनुसार कुल 30 लाख रूपए का बजट प्रावधान किया गया है. इसी के साथ अगले चरण में चूरू, भरतपुर, गंगानगर, बीकानेर, जैसलमेर एवं जालौर जिले की सूचना का संकलन एवं लेखन का कार्य किया जाएगा. मुख्यमंत्री ने निर्देश दिए हैं कि सभी जिलों के गजेटियर्स लेखन में एकरूपता एवं प्रामाणिकता रखने के लिए इन्हें राज्य स्तर पर चुनिंदा लेखकों से ही लिखवाया जाए. गौरतलब है कि पूर्व में प्रकाशित सभी जिला गजेटियर्स 15 से 40 वर्ष तक पुराने हैं. सीएम ने इस साल बजट में जिला गजेटियर्स के नए सिरे से लेखन करवाने की महत्वपूर्ण घोषणा की थी.

नहीं बढ़ रहा फ्लाइट्स का संचालन, कोलकाता के लिए एयर कनेक्टिविटी शुरू होने का इंतजार

नहीं बढ़ रहा फ्लाइट्स का संचालन, कोलकाता के लिए एयर कनेक्टिविटी शुरू होने का इंतजार

जयपुर: घरेलू फ्लाइट्स का संचालन शुरू हुए गुरुवार को चौथा दिन है, लेकिन जयपुर इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर अभी भी फ्लाइट्स का संचालन नहीं बढ़ पा रहा है. हालांकि आज अपेक्षाकृत रूप से यात्रीभार अधिक देखा जा रहा है. लेकिन इसके बावजूद गुरुवार को 20 में से 11 फ्लाइट रद्द रही हैं. फ्लाइट संचालन के चौथे दिन भी पश्चिम बंगाल के लिए एयर कनेक्टिविटी शुरू नहीं हो सकी है. जयपुर से पश्चिम बंगाल के कोलकाता के लिए इंडिगो एयरलाइन ने एक फ्लाइट शुरू करने का शेड्यूल दिया है, लेकिन पश्चिम बंगाल की राज्य सरकार के विरोध के कारण अभी तक इस फ्लाइट को उड़ान भरने की मंजूरी नहीं मिल सकी. एयरपोर्ट प्रशासन से जुड़े सूत्रों का कहना है कि शुक्रवार से कोलकाता के लिए फ्लाइट शुरू हो सकती है.

मुम्बई के लिए फिर रद्द हुई इंडिगो की फ्लाइट:
हालांकि गुरुवार को भी कुल फ्लाइट्स की संख्या में कमी देखी गई है. बुधवार को जहां जयपुर एयरपोर्ट से 10 फ्लाइट संचालित हुई थीं, वहीं आज 9 फ्लाइट ही संचालित हो रही हैं. दरअसल चार एयरलाइंस ने जयपुर एयरपोर्ट से कुल 20 फ्लाइट संचालित करने के लिए शेड्यूल दिया था. इनमें सर्वाधिक 8 फ्लाइट का शेड्यूल स्पाइसजेट एयरलाइन ने दिया था. इंडिगो ने 6 फ्लाइट, एयर इंडिया और एयर एशिया ने तीन-तीन फ्लाइट संचालित करने की बात कही थी, लेकिन पिछले चार दिनों में अभी तक एक भी दिन सभी 20 फ्लाइट संचालित नहीं हो सकी हैं. गुरुवार को 11 फ्लाइट्स जयपुर एयरपोर्ट से रद्द की गई हैं. स्पाइसजेट की 6, इंडिगो की 2, एयर एशिया की 2 और एयर इंडिया की 1 फ्लाइट रद्द हुई है.

धौलपुर के सैपऊ में तूफान से गिरा मकान, मलबे में दबने से 3 लोगों की मौत 

ये 11 फ्लाइट आज रद्द
- स्पाइसजेट की सुबह 5:45 बजे सूरत जाने वाली फ्लाइट SG-2763 हुई रद्द
- स्पाइसजेट की सुबह 7:20 बजे जालंधर जाने वाली फ्लाइट SG-2750 हुई रद्द
- इंडिगो की सुबह 6:40 बजे मुंबई जाने वाली फ्लाइट 6E-218 हुई रद्द
- एयर इंडिया की सुबह 7:35 बजे आगरा जाने वाली फ्लाइट 9I-687 हुई रद्द
- इंडिगो की शाम 4:45 बजे कोलकाता जाने वाली फ्लाइट 6E-6156 हुई रद्द
- स्पाइसजेट की सुबह 8 बजे मुंबई जाने वाली फ्लाइट SG-279 हुई रद्द
- स्पाइसजेट की सुबह 9:45 बजे उदयपुर जाने वाली फ्लाइट SG-6632 हुई रद्द
- स्पाइसजेट की सुबह 11:15 बजे अमृतसर जाने वाली फ्लाइट SG-3522 हुई रद्द
- स्पाइसजेट की दोपहर 2:15 बजे गुवाहाटी जाने वाली फ्लाइट SG-448 हुई रद्द
- एयर एशिया की सुबह 9:15 बजे बेंगलूरु जाने वाली फ्लाइट I5-1721 हुई रद्द
- एयर एशिया की शाम 5:15 बजे पुणे जाने वाली फ्लाइट I5-1427 हुई रद्द

हालांकि यात्रीभार में दिख रही अपेक्षाकृत बढ़ोतरी:
जिस तरह से एयरलाइंस अपने शेड्यूल के मुताबिक फ्लाइट संचालित नहीं कर रही हैं, उससे यात्रियों के लिए परेशानी बढ़ गई है. दरअसल जिन यात्रियों ने फ्लाइट में पहले से बुकिंग कर ली है, उनके टिकट को रद्द किया जा रहा है. इसके एवज में यात्रियों को उनकी राशि भी नहीं लौटाई जा रही है, बल्कि उनकी राशि को क्रेडिट शेल के रूप में एयरलाइन अपने पास ही रख रही हैं. ऐसे में यदि यात्रियों का दुबारा कोई शेड्यूल नहीं बैठता है तो उन्हें इसका रिफंड कभी नहीं मिल सकेगा. हालांकि एयरलाइंस का कहना है कि यात्री अगले एक साल की अवधि में इस क्रेडिट शेल की राशि से टिकट बुक करवा सकते हैं. आपको बता दें कि इस कारण जिन यात्रियों ने मुम्बई, जालंधर, सूरत आदि शहरों से आने या जाने के लिए टिकट बुक करवा रखे थे, उन्हें इसका नुकसान झेलना पड़ रहा है. अब देखना होगा कि फ्लाइट्स के रद्द होने का यह सिलसिला कितने दिनों तक जारी रहेगा.

COVID-19 की वैक्सीन बनाने में 30 ग्रुप कर रहे है काम, अक्टूबर तक मिल सकती है सफलता:  डॉ. राघवन

...फर्स्ट इंडिया के लिए काशीराम चौधरी की रिपोर्ट

स्पीक अप इंडिया अभियान: सोशल मीडिया पर जुड़े कांग्रेसी, केन्द्र सरकार से की मांग, गरीब मजदूरों, श्रमिकों को मिले सीधे पैसा

जयपुर: कांग्रेस ने गुरुवार को देशभर में सोशल मीडिया कैम्पेन चलाया. देश भर के कांग्रेस नेता और कार्यकर्ताओं की इसमें भागीदारी रही. राजस्थान से भी बड़ी तादाद में कांग्रेस नेता कैम्पेन से जुड़े. प्रवासी श्रमिकों ,कामगार ,मजदूर,मध्यम वर्ग,छोटे व्यापारियों की मांग केन्द्र सरकार के सामने रखी. डिप्टी सीएम और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष सचिन पायलट ने फेसबुक पर कहा कि जरुरत है प्रवासी श्रमिकों की पीड़ा को दूर करना,ये कार्य केन्द्र को करना चाहिए. कांग्रेस के कई नेता सोशल अभियान से जुड़े अविनाश पांडे ,डॉ रघु शर्मा समेत प्रमुख मंत्री विधायक और पदाधिकारी शामिल हुए. 

राजस्थान से ये दिग्गज हुए शामिल:
राहुल गांधी और प्रियंका गांधी के आह्वान के बाद पूरी कांग्रेस गरीब कामगारों की आवाज बुलंद कर रही है, जिन्होंने लॉकडाउन में दंश झेला उनकी आवाज बुलंद की जा रही. स्पीक इंडिया कार्यक्रम के तहत कांग्रेस के प्रमुख नेता और कार्यकर्ता सोशल मीडिया अभियान में शामिल हुए. डिप्टी सी एम सचिन पायलट, कांग्रेस के राजस्थान प्रभारी अविनाश पांडे ,चिकित्सा और स्वास्थ्य मंत्री डॉ रघु शर्मा ,मुख्य सचेतक डॉ महेश जोशी शामिल समेत दिग्गज शामिल हुए. 

SMS अस्पताल को कोरोना फ्री करने की तैयारी, चिकित्सा शिक्षा सचिव वैभव गालरिया ने व्यवस्थाओं का लिया जायजा

जेब तक सीधा पैसा पहुंचाया जाये:
सचिन पायलट ने फेसबुक पर कहा कि कांग्रेस पार्टी चाहती है ऐसे लोगों की मदद की जाए जो इनकम टैक्स तक नहीं दे पा रहे,उनकी जेब तक सीधा पैसा पहुंचाया जाये. पायलट ने सोशल मीडिया अभियान के जरिये केन्द्र सरकार से यहीं मांग की. पायलट ने कहा कि मनरेगा में राजस्थान में अच्छा काम किया है. कांग्रेस राज्य प्रभारी अविनाश पांडे ने कहा कि केंद्र सरकार से हमारी मांग है कि मध्यम वर्ग ,छोटे उधोग धंधो की मदद की जाये,मनरेगा में रोजगार 200दिन किया जाये,प्रवासी श्रमिकों को नि शुल्क सेवा से घर पहुंचाया जाये. चिकित्सा और स्वास्थ्य मंत्री डॉ रघु शर्मा ने कैम्पेन में भाग लिया और कांग्रेस की पहल का स्वागत किया. रघु शर्मा ने कहा कि महामारी से त्रस्त गरीब लोगों की मदद करना केन्द्र का नैतिक अधिकार हम उन्हें उनकी भूमिका याद दिला रहे.

COVID-19 की वैक्सीन बनाने में 30 ग्रुप कर रहे है काम, अक्टूबर तक मिल सकती है सफलता:  डॉ. राघवन

सोशल मीडिया कैम्पेन में टॉप पर रही:
ऐसा कहा जा रहा है कि राजस्थान की कांग्रेस सोशल मीडिया कैम्पेन में टॉप पर रही. मंत्री परिषद के तकरीबन सभी सदस्य , विधायक ,पीसीसी के पदाधिकरी, जिला अध्यक्ष, अग्रिम संगठनों के अध्यक्ष ,ब्लॉक अध्यक्ष शामिल हुए. मुख्य सचेतक महेश जोशी अपने श्रीगंगानगर दौरे के दौरान सोशल मीडिया अभियान से जुडे. फेसबुक,ट्विटर, इंस्टाग्राम पर कांग्रेस गुरुवार को छाई रही. जाहिर है बीजेपी को कांग्रेस उसी हथियार से घेरने में जुटी जिसके लिये बीजेपी को महारत हासिल थी,सोशल मीडिया रुपी हथियार के जरिये केन्द्र सरकार को घेरा जा रहा.

...फर्स्ट इंडिया के लिए योगेश शर्मा की रिपोर्ट

SMS अस्पताल को कोरोना फ्री करने की तैयारी, चिकित्सा शिक्षा सचिव वैभव गालरिया ने व्यवस्थाओं का लिया जायजा

SMS अस्पताल को कोरोना फ्री करने की तैयारी, चिकित्सा शिक्षा सचिव वैभव गालरिया ने व्यवस्थाओं का लिया जायजा

जयपुर: करीब ढाई माह के लम्बे इंतजार के बाद आम मरीजों के लिए शुरू हो रहे प्रदेश के सबसे बड़े एसएमएस अस्पताल में तैयारियां जोरशोर है. नॉन कोविड अस्पताल की शुरूआत से पहले प्रशासन किसी भी तरह की कमी नहीं रखना चाहता, जिसके लिए हर ब्लॉक में अलग-अलग व्यवस्थाएं की जा रही है.इन्हीं तैयारियों का जायजा लेने के लिए चिकित्सा शिक्षा सचिव वैभव गालरिया एसएमएस अस्पताल पहुंचे और वहां चल रही तैयारियों का जायजा लिया.

नॉन कोविड बनाने की दिशा में सभी तैयारियां पूरी:
गालरिया ने प्रशासनिक टीम के साथ चरक भवन, ओपीडी, आईपीडी, न्यू आईसीयू ब्लॉक, इमरजेंसी समेत अस्पताल के विभिन्न हिस्सों का एक घंटे तक निरीक्षण किया.इस दौरान IAS गौरव गोयल, SMS मेडिकल कॉलेज प्राचार्य डॉ.सुधीर भंडारी, SMS अस्पताल अधीक्षक डॉ.राजेश शर्मा, अति.अधीक्षक डॉ.एनएस चौहान, डॉ.अजीत सिंह, डॉ.जगदीश मोदी, डॉ.बीएम शर्मा समेत अन्य कई अधिकारी मौजूद रहे.निरीक्षण के बाद गालरिया ने बताया कि सरकार के निर्देशों की पालना में अस्पताल को नॉन कोविड बनाने की दिशा में सभी तैयारियां पूरी कर ली गई है.

सोशल मीडिया पर कांग्रेस का कैम्पेन, सचिन पायलट, अविनाश पांडे समेत प्रमुख नेता हुए शामिल

अस्पताल के विभिन्न हिस्सों का एक घंटे किया निरीक्षण:
कोरोना के मरीजों की आरयूएचएस में शिफ्टिंग का काम जारी है.उन्होंने बताया कि बुखार, खासी, जुखाम समेत अन्य आईएलआई के केस के लिए चरक भवन में अलग से ओपीडी चलती रहेगी.इसके अलावा गंभीर मरीजों के लिए अस्पताल के ही ठीक पास स्थित संक्रामक रोग हॉस्पिटल में उपचार जारी रहेगा.गालरिया ने ये भी स्पष्ट किया कि चरक भवन में पहले संचालित हो रही स्कीन और ईएनटी डिपार्टमेंट को भी फिर से शुरू किया जाएगा.हालांकि, ये डिपार्टमेंट दूसरी जगह पर संचालित होंगे, ताकि संक्रमण का खतरा नहीं रहे. 

भाजपा नेता संबित पात्रा अस्पताल में भर्ती, कोरोना वायरस के लक्षण दिखने पर हुए अस्पताल में भर्ती

सोशल मीडिया पर कांग्रेस का कैम्पेन, सचिन पायलट, अविनाश पांडे समेत प्रमुख नेता हुए शामिल

सोशल मीडिया पर कांग्रेस का कैम्पेन, सचिन पायलट, अविनाश पांडे समेत प्रमुख नेता हुए शामिल

जयपुर: कांग्रेस ने गुरुवार से देशभर में सोशल मीडिया कैम्पेन चलाया. देशभर के कांग्रेस नेता और कार्यकर्ताओं की इसमें भागीदारी रही. राजस्थान से भी बड़ी तादाद में कांग्रेस नेता कैम्पेन से जुड़े. प्रवासी श्रमिकों ,कामगार ,मजदूर,मध्यम वर्ग,छोटे व्यापारियों की मांग केन्द्र सरकार के सामने रखी. 

जेब तक पहुंचे सीधा पैसा: 
डिप्टी सीएम और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष सचिन पायलट ने फेसबुक पर कहा कि जरुरत है प्रवासी श्रमिकों की पीड़ा को दूर करना,उन गरीब कामगारों की आवाज बुलंद करना,जिन्होंने लॉकडाउन में दंश झेला,पायलट ने फेसबुक पर कहा कि कांग्रेस पार्टी चाहती है ऐसे लोगों की मदद की जाए, जो इनकम टैक्स तक नहीं दे पा रहे,उनकी जेब तक सीधा पैसा पहुंचाया जाये. 

मुंबई से श्रमिक स्पेशल ट्रेन पहुंची चूरू, 120 प्रवासियों को चूरू लेकर पहुंची ट्रेन

कांग्रेस की पहल का स्वागत:
पायलट ने सोशल मीडिया अभियान के जरिए केन्द्र सरकार से यहीं मांग की. पायलट ने कहा कि मनरेगा में राजस्थान में अच्छा काम किया है. कांग्रेस राज्य प्रभारी अविनाश पांडे ने कहा कि केंद्र सरकार से हमारी मांग है कि मध्यम वर्ग ,छोटे उधोग धंधो की मदद की जाये,मनरेगा में रोजगार 200दिन किया जाये,प्रवासी श्रमिकों को नि शुल्क सेवा से घर पहुंचाया जाए. चिकित्सा और स्वास्थ्य मंत्री डॉ रघु शर्मा ने कैम्पेन में भाग लिया और कांग्रेस की पहल का स्वागत किया.

कोरोना का खौफ...! वक्त पर मिल जाती बुजुर्ग इंसान को मदद, तो बच सकती थी जान, 3 घंटे तक बाजार में रहा बेहोश 

'अंतर्राष्ट्रीय माहवारी स्वच्छता' दिवस: महिलाएं स्वच्छ व स्वस्थ रहकर ही अपने परिवार को स्वस्थ रख पाएंगी- ममता भूपेश

'अंतर्राष्ट्रीय माहवारी स्वच्छता' दिवस: महिलाएं स्वच्छ व स्वस्थ रहकर ही अपने परिवार को स्वस्थ रख पाएंगी- ममता भूपेश

जयपुर: महिला एवं बाल विकास राज्यमंत्री ममता भूपेश ने कहा कि अपने परिवार को स्वस्थ रखने के लिए महिलाओं को पहले स्वयं के स्वास्थ्य पर ध्यान देना होगा. उन्होंने कहा कि महिलाएं स्वच्छ व स्वस्थ रह कर ही अपने परिवार को स्वस्थ रख सकती है. 

राज्य में एनपीआर रजिस्टर बनाने के सॉफटवेयर के नाम पर घोटाला, हाईकोर्ट ने 6 अधिकारियों को जारी किया नोटिस 

भूपेश गुरुवार को अन्तर्राष्ट्रीय माहवारी स्वच्छता दिवस पर अपने निवास पर महिला अधिकारिता विभाग द्वारा सोशल एवं फिजिकल डिस्टेंसिंग को ध्यान में रखते हुए आयोजित राष्ट्रीय कार्यक्रम में बोल रही थी. उन्होंने बताया कि 28 मई जो कि 28 दिन के अंतराल पर 5 दिवस के माहवारी दिवस के प्रतीक के रूप में महिलाओं के स्वास्थ्य सुरक्षा के लिए जागरूकता हेतु आयोजित किया जाता है. 

महिलाएं अपने स्वास्थ्य को नजरअंदाज नहीं करें:
इस अवसर पर उन्होंने कहा कि कोरोना महामारी के चलते महिलाएं अपने स्वास्थ्य को नजरअंदाज नहीं करें. आज हमारा प्रदेश, देश एवं संपूर्ण विश्व जिन विषम परिस्थितियों से गुजर रहा है उनमें महिलाओं को अपने घर एवं परिवार जनों की देखभाल पहले की तुलना में अधिक सजग होकर करने की जरूरत है. ऎसी स्थिति में महिलाएं अपने स्वास्थ्य का ध्यान रखेंगी तभी अपने परिवार को भी स्वस्थ रख पाऎंगी. इसके लिए जरूरी है कि महिलाएं अपने 5 दिनों में स्वच्छता विधियों एवं साधनों का प्रयोग करें. 

आगामी समय में निसंदेह हमारे लिए वित्तीय परिस्थितियां चुनौतीपूर्ण रहेंगी: 
भूपेश ने यह भी कहा कि आगामी समय में निसंदेह हमारे लिए वित्तीय परिस्थितियां चुनौतीपूर्ण रहेंगी इसलिए हमारे प्रदेश की बेटियां और बहनें मजबूती से अपने को संभाले एवं परिवार को स्वस्थ एवं सुरक्षित रखें और एक स्वस्थ भारत का निर्माण करें. 

प्रत्येक 10 महिलाओं को इसके लिए जागरूक करेंगी:
इस अवसर पर उपस्थित पांच महिला लाभार्थियों को जागरूकता संदेश के साथ सेनेटरी नैपकिन तथा साबुन का वितरण किया गया एवं कार्यक्रम समाप्ति के पश्चात जयपुर जिले की विभिन्न जगहों पर लाभार्थी महिलाओं को भी सैनेटरी नैपकिन तथा साबुन का वितरण करवाया गया. कार्यक्रम में उपस्थित सभी महिलाओं ने संकल्प भी लिया कि वे अपने आसपास की प्रत्येक 10 महिलाओं को इसके लिए जागरूक करेंगी. 

सोशल मीडिया की अफवाह पर परिजनों ने जताई कोरोना पॉजिटिव की आंशका, एसडीएम ने कराया दाह संस्कार 

इस मौके पर ये अधिकारी रहे मौजूद:
इस मौके पर विभाग के शासन सचिव के के पाठक, निदेशक समेकित बाल विकास सेवाएं डॉ. प्रतिभा सिंह, बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना की ब्रांड एंबेसडर अनुपमा सोनी ,महिला सुरक्षा एवं सलाह केंद्र की राज्य स्तरीय स्टीयरिंग कमेटी की सदस्य निशा सिद्धू ,मीनाक्षी माथुर एवं डॉक्टर मेनका व विभाग के अन्य अधिकारी भी उपस्थित थे. 

राज्य में एनपीआर रजिस्टर बनाने के सॉफटवेयर के नाम पर घोटाला, हाईकोर्ट ने 6 अधिकारियों को जारी किया नोटिस

राज्य में एनपीआर रजिस्टर बनाने के सॉफटवेयर के नाम पर घोटाला, हाईकोर्ट ने 6 अधिकारियों को जारी किया नोटिस

जयपुर: देश में राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर को लेकर कि जा रही कवायद में राज्य के सूचना विभाग की कंपनी राजकॉम्प ने सॉफटवेयर के नाम पर ही 2 करोड़ से अधिक का घोटाला किया है. बिना सॉफटवेयर के बिना निर्माण और बिना कम्प्यूटर में इंस्टाल किये ही करीब 2 करोड़ 40 लाख का भुगतान किया गया. मामले में शिकायत के बाद भी कार्यवाही नहीं करने पर राजस्थान हाईकोर्ट ने तत्कालिन यूआईडी आधार के अतिरिक्त निदेशक हंसराज यादव, आधार उपनिदेशक रणवीरसिंह, प्रोजेक्ट अधिकारी सीताराम स्वरूप, तत्कालिन वित्त निदेशक निलेश शर्मा, मैनेजेर वित्त कौशल गुप्ता, राजकॉम्प एमडी और एसीबी महानिदेशक को हाईकोर्ट ने नोटिस जारी कर जवाब तलब किया है. खण्डपीठ ने प्रकरण की अगली सुनवाई 6 जुलाई को तय की है. 

सोशल मीडिया की अफवाह पर परिजनों ने जताई कोरोना पॉजिटिव की आंशका, एसडीएम ने कराया दाह संस्कार 

टेण्डर में अतिशय लिमिटेड को 2 करोड़ 40 लाख का वर्क आर्डर दिया: 
पब्लिक अगेंस्ट करप्शन संस्था की ओर से दायर जनहित याचिका में एडवोकेट पूनम चंद भंडारी और डॉ टी एन शर्मा ने अदालत को बताया कि 7 मार्च 2018 को निकाले गये टेण्डर में अतिशय लिमिटेड को 2 करोड़ 40 लाख का वर्क आर्डर दिया गया. इस आर्डर के तहत 36 लाख रूपये सॉफटवेयर के निर्माण के लिए, 1 करोड़ 4 लाख रूपये सपोर्ट के लिए जारी किये गये. लेकिन कंपनी द्वारा ना तो ऐसा कोई सॉफ्टवेयर बनाया गया और ना ही किसी भी कम्प्यूटर में इंस्टाल ही किया गया. फिर भी सॉफ्टवेयर बनाने के लिए एक करोड़ 36 लाख और सपोर्ट एवं हेल्प डेस्क के नाम पर 26 लाख से अधिक का भुगतान कर दिया गया.

फेफड़े मजबूत करने के लिए खाएंगे ये चीजें तो रोगों से रहेंगे दूर 

6 अधिकारियों को नोटिस जारी कर जवाब तलब:
याचिका मे कहा गया कि सिरोही, टोंक और गंगानगर जिलों से प्राप्त आरटीआई  सूचना के अनुसार इन तीन जिलों मे सॉफ्टवेयर इंस्टाल ही नहीं किया गया है. मामले की शिकायत एसीबी में किेय जाने के बावजूद कोई कार्यवाही नहीं की गयी. बहस सुनने के बाद जस्टिस सबीना की खण्डपीठ ने राज्य के एसीबी महानिदेशक सहित 6 अधिकारियों को नोटिस जारी कर जवाब तलब किया है. 

फेफड़े मजबूत करने के लिए खाएंगे ये चीजें तो रोगों से रहेंगे दूर

फेफड़े मजबूत करने के लिए खाएंगे ये चीजें तो रोगों से रहेंगे दूर

जयपुर: शरीर में ऑक्सीजन पहुंचाने वाले फेफड़ों का सही तरीके से काम करना अतिआवश्यक है. यदि फेफड़ों में कोई बीमारी है तो शरीर में ऑक्सीजन की कमी हो सकती है, ऐसे में फेफड़ों का हमेशा ख्याल रखना आवश्यक है. दुनियाभर में कोरोना वायरस से मरने वालों की रिपोर्ट बताती है कि ये वायरस उनके फेफड़ों को कितनी तेजी से खराब करता है. उन्हें सांस लेने में भी तकलीफ इसी वजह से होती है. ऐसे में आज हम आपको कुछ ऐसी चीजें बता रहे हैं जो फेफड़ों को मजबूत करने में सहायता करेगी...

कांग्रेस का बड़ा ऑनलाइन अभियान, सोनिया गांधी ने की हर परिवार को 7500 रुपये प्रति माह देने की मांग 

पानी- पानी पीना फेफड़ों के लिए बहुत आवश्यक होता है. हर दिन 6 से 8 गिलास पानी पीना ही चाहिए. ये फेफड़ों को प्योरीफाई कर उन्हें रोगों से दूर रखता है.

लहसुन- भोजन करने के बाद एक कली लहसुन खाने से फेफड़े साफ होते हैं. लहसुन के सेवन से इम्यून सिस्टम भी मजबूत होता है. 

बीन्स- बीन्स का सेवन भी फेफड़ों के लिए बहुत जरूरी है. बीन्स में शरीर के लिए जरूरी हर तरह के न्यूट्रीशन पाए जाते हैं.

विटामिन ‘सी’-  सभी खट्टे फलों जैसे नींबू, संतरा, कीवी, अंगूर, टमाटर अनानास और स्ट्रॉबेरी आदि में विटामिन सी भरपूर मात्रा में होता है. विटामिन ‘सी’  के सेवन से फेफड़े मजबूत होते हैं. 

तुलसी-  तुलसी के पत्तों को सुखाकर उसमें कत्था, मैन्थाल और इलायची बराबर मात्रा में पीस लें और इसमे एक चम्मच पिसी हुई चीनी मिलाकर दिन में दो बार आधा चम्मच खाने से फेफड़ों में जमा हुआ कफ कम होता है.

ब्रोकोली- एंटी-ऑक्सीडेंट्स से भरपूर ब्रोकोली फेफड़ों को स्वस्थ बनाए रखने में कारगर है. 

VIDEO: फ्लाइट्स में नहीं बढ़ रहा यात्री भार, 70 फीसदी सीटें खाली 

Open Covid-19