Live News »

विधायक अमित चाचण व जगदीश जांगिड़ गए जैसलमेर, कल शाम को टल गया था रवानगी का कार्यक्रम

विधायक अमित चाचण व जगदीश जांगिड़ गए जैसलमेर, कल शाम को टल गया था रवानगी का कार्यक्रम

जयपुर: कांग्रेस विधायकों की जैसलमेर में बाड़ेबंदी की जा रही है. इसी कड़ी में जयपुर बचे हुए 2 विधायकों को आज सुबह चार्टर विमान से जैसलमेर भेजा गया. विधायक अमित चाचण और जगदीशचंद्र जांगिड़ चार्टर विमान से जैसलमेर के लिए रवाना हुए. 

राजस्थान का रेगिस्तान तय करेगा सरकार का भविष्य!  

कांग्रेस सरकार को कोई खतरा नहीं: 
इनके साथ कांग्रेस नेता संदीप चौधरी, अरुण कुमावत और दिल्ली यूथ कांग्रेस से जुड़े अमित मलिक भी रवाना हुए. 7 सीटर छोटे चार्टर विमान में ये सभी नेता रवाना हुए. सभी ने एकसुर में कहा कि सीएम अशोक गहलोत के नेतृत्व में कांग्रेस सरकार को कोई खतरा नहीं है.

VIDEO: ऑफिशियल फेसबुक पेज पर पायलट अब भी पीसीसी चीफ ! राजनीतिक गलियारों में चर्चा का विषय 

और पढ़ें

Most Related Stories

अनुभवी मध्यक्रम से मदद मिलती है, लेकिन हमेशा अच्छी शुरूआत पर नजर : डिकॉक

अनुभवी मध्यक्रम से मदद मिलती है, लेकिन हमेशा अच्छी शुरूआत पर नजर : डिकॉक

दुबई: मुंबई इंडियंस के सलामी बल्लेबाज क्विंटॉन डिकॉक ने कहा कि अनुभवी और मजबूत मध्यक्रम किसी भी टीम की ताकत है लेकिन इससे सलामी बल्लेबाजों का काम आसान नहीं हो जाता जिन पर अच्छी शुरूआत देने की जिम्मेदारी होती है. शीर्ष पर काबिज मुंबई इंडियंस प्लेआफ में पहुंच चुकी है. उसके मध्यक्रम के बल्लेबाज सूर्यकुमार यादव, हार्दिक पंड्या, कीरोन पोलार्ड और कृणाल पंड्या शानदार फार्म में है.

डिकॉक ने कहा कि अनुभवी मध्यक्रम होने से किसी भी परिस्थिति में फायदा मिलता है. इससे मानसिकता में फर्क नहीं पड़ता. हम हमेशा सर्वश्रेष्ठ शुरूआत देने की कोशिश करते हैं. उन्होंने कहा कि साथ में रोहित शर्मा हो या युवा ईशान किशन, बल्लेबाजी को लेकर उनका रवैया समान रहता है. उन्होंने कहा कि बहुत कुछ बदला नहीं है. 

{related}

ईशान और मेरी आपसी समझ भी अच्छी है जैसे मेरी और रोहित की है. ईशान काफी युवा और प्रतिभाशाली है और उसका अच्छा फार्म देखकर खुशी होती है. डिकॉक ने स्वीकार किया कि शुरूआत में उन्होंने कुछ गलतियां की लेकिन अब लय हासिल कर ली है. उन्होंने कहा कि मैं नेट पर अच्छी बल्लेबाजी कर रहा था लेकिन टूर्नामेंट की शुरूआत में कुछ गलतियां की. लेकिन अब लय हासिल कर ली है.(भाषा) 

ये मास्क ऐसा, जो कर सकता है कोरोना वायरस को निष्क्रिय, एक अध्ययन में बात आई सामने

ये मास्क ऐसा, जो कर सकता है कोरोना वायरस को निष्क्रिय, एक अध्ययन में बात आई सामने

वाशिंगटन: वैज्ञानिकों ने एंटीवायरल परत वाला एक ऐसा नया मास्क डिजाइन किया है, जो कोरोना वायरस को निष्क्रिय कर देगा और इसे पहनने वाला व्यक्ति संक्रमण के प्रसार को कम करने में अहम भूमिका अदा कर सकेगा. अमेरिका में नॉर्थवेस्टर्न यूनिवर्सिटी के अनुसंधानकर्ताओं के अनुसार , मास्क के कपड़े में एंटी वायरल रसायन की परत होगी जो मास्क के बावजूद सांस के जरिए बाहर निकली छोटी बूंदों को संक्रमण मुक्त करेगी.

प्रयोगशाला में वैज्ञानिकों ने सांस लेने-छोड़ने, छींक, खांसी के अनुकरणों के जरिए यह पाया कि ज्यादातर मास्क में इस्तेमाल होने वाले नॉन-वोवेन कपड़े (लचीले, एक या अधिक कपड़े की परत वाले कपड़े) इस तरह के मास्क निर्माण के विचार के लिए सही हैं. यह अध्ययन जर्नल मैटर में बृहस्पतिवार को प्रकाशित हुआ. अध्ययन में पाया गया कि 19 फीसदी फाइबर घनत्व वाला एक लिंट फ्री वाइप (एक प्रकार की सफाई वाला कपड़ा) सांस के जरिए बाहर निकली बूंदों को 82 फीसदी तक संक्रमण मुक्त कर सकता है। ऐसे कपड़े से सांस लेने में कठिनाई नहीं होती है और प्रयोग के दौरान यह भी सामने आया कि इस दौरान मास्क पर लगा रसायन भी नहीं हटा.

{related}

नॉर्थवेस्टर्न यूनिवर्सिटी के शियाजिंग हुआंग ने बताया कि महामारी से लड़ने के लिए मास्क बेहद महत्वपूर्ण है. मास्क की डिजाइन पर काम कर रही टीम का लक्ष्य मास्क पहनने के बाद भी सांस के जरिए बाहर निकली बूंदों में मौजूद वायरस को तेजी से निष्क्रिय करना है. इस संबंध में कई प्रयोगों के बाद अनुसंधनाकर्ताओं ने इसके लिए एंटीवायरल रसायन फॉस्फोरिक एसिड और कॉपर सॉल्ट का सहारा लिया. ये दोनों रसायन ऐसे हैं, जो वायरस के लिए प्रतिकूल माहौल तैयार करते हैं. (भाषा)

राष्ट्रपति शासन लगाए बिना पश्चिम बंगाल में निष्पक्ष विधानसभा चुनाव असंभव : भाजपा महासचिव

राष्ट्रपति शासन लगाए बिना पश्चिम बंगाल में निष्पक्ष विधानसभा चुनाव असंभव : भाजपा महासचिव

इंदौर (मध्य प्रदेश): पश्चिम बंगाल में नौकरशाही का अपराधीकरण हो जाने का आरोप लगाते हुए भाजपा महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने शुक्रवार को कहा कि तृणमूल कांग्रेस शासित राज्य में राष्ट्रपति शासन लगाए बगैर विधानसभा चुनाव निष्पक्ष नहीं हो सकते. उन्होंने यह बात केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ की नयी दिल्ली में बृहस्पतिवार को हुई मुलाकात के अगले ही दिन कही है.

विजयवर्गीय, भाजपा संगठन में पश्चिम बंगाल के प्रभारी महासचिव हैं जहां अगले साल अप्रैल-मई में विधानसभा चुनाव संभावित हैं. उन्होंने यहां संवाददाता सम्मेलन में कहा कि मेरा व्यक्तिगत तौर पर मानना है कि वहां (पश्चिम बंगाल) राष्ट्रपति शासन लगाए बिना निष्पक्ष (विधानसभा) चुनाव नहीं हो सकते क्योंकि वहां पहले नौकरशाही का राजनीतिकरण हो गया, यहां तक तो ठीक है. पर अब नौकरशाही का अपराधीकरण भी हो गया है. विजयवर्गीय ने कहा कि मैं दावे से कह रहा हूं कि अगर पश्चिम बंगाल में निष्पक्ष (विधानसभा) चुनाव हुए, तो वहां भाजपा की सरकार बनेगी. 

उन्होंने हालांकि अपनी बात में जोड़ा कि केंद्र अपनी मंशा पहले ही बता चुका है कि पश्चिम बंगाल सरकार के खिलाफ बदले की भावना से कोई भी कार्रवाई नहीं की जाएगी और एक चुनी हुई सरकार को पर्याप्त अवसर दिए जाएंगे. विजयवर्गीय ने कहा कि केंद्रीय गृह मंत्री ने एक टीवी चैनल से साक्षात्कार में इस बात को स्वीकार किया है कि पश्चिम बंगाल में कानून-व्यवस्था की स्थिति बहुत खराब है. लेकिन हमारा प्रजातंत्र पर विश्वास है और हम एक चुनी हुई सरकार को लेकर संवैधानिक तरीके से ही कोई कदम उठाएंगे. 

{related}

उन्होंने कहा कि हमें समय का इंतजार करना चाहिए क्योंकि पश्चिम बंगाल के राज्यपाल ने (राज्य के मौजूदा हालात को लेकर) केंद्रीय गृह मंत्री को कल (बृहस्पतिवार) ही अपनी रिपोर्ट सौंपी है. विजयवर्गीय ने कहा कि पश्चिम बंगाल के अगले विधानसभा चुनावों में वामपंथी दलों और कांग्रेस के बीच संभावित चुनावी गठबंधन से भाजपा की जीत की संभावनाओं पर ज्यादा फर्क नहीं पड़ेगा. उन्होंने कहा कि पश्चिम बंगाल में भाजपा की विचारधारा के प्रति समर्पित वोट बैंक खड़ा हो गया है. अगले विधानसभा चुनावों में सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस और भाजपा में सीधी लड़ाई होनी है.

पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनावों में भाजपा के चेहरे के बारे में पूछे जाने पर विजयवर्गीय ने कहा कि भाजपा आमतौर पर उन राज्यों में अपना चुनावी चेहरा घोषित नहीं करती, जहां उसकी सरकारें नहीं रही हैं. पश्चिम बंगाल में कमल का फूल (भाजपा का चुनाव चिन्ह), प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृह मंत्री अमित शाह और भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा ही हमारे चुनावी चेहरे रहेंगे.

भाजपा महासचिव ने पश्चिम बंगाल में अपनी पार्टी के कार्यकर्ताओं की हत्याओं और इनमें शामिल अपराधियों के पुलिस की गिरफ्त से कथित तौर पर दूर रहने को लेकर आक्रोश व्यक्त किया. उन्होंने यह आशंका भी जताई कि पश्चिम बंगाल पुलिस कोई काल्पनिक कहानी गढ़कर उन्हें किसी भी वक्त झूठे मामले में फंसा सकती है. (भाषा)

कर्नल किरोड़ी सिंह बैंसला बोले...अब वार्ता नहीं आंदोलन होगा

हिंडौनसिटी(करौली): गुर्जर नेता कर्नल किरोड़ी सिंह बैंसला ने आरक्षण सहित विभिन्न मांगों को लेकर 1 नवंबर से आंदोलन करने की घोषणा की है. वर्धमान नगर में अपने आवास पर हुई पत्रकार वार्ता में कर्नल बैंसला ने एमबीसी समाज के लोगों से 1 नवंबर को सुबह 10 बजे पीलूपुरा पहुंचने का आह्वान किया है. आंदोलन किस तरह होगा, इस पर कर्नल बैंसला ने अभी खुलासा नहीं किया है.

समाज मांगों को लेकर कई वर्षों से आग्रह कर रहा:
बैंसला का कहना था कि पीलूपुरा पहुंचने के बाद ही आंदोलन का स्वरूप तय किया जाएगा. बैंसला ने नाराजगी जताते हुए कहा की समाज मांगों को लेकर कई वर्षों से आग्रह कर रहा है लेकिन सरकार एमबीसी समाज की मांगों को लगातार अनदेखा कर रही है. उन्होंने कहा कि 5 फीसदी आरक्षण और बैकलॉग भरने को चुनावी घोषणा पत्र में शामिल करने के बाद भी अनदेखा किया जा रहा है.

{related}

विजय बैंसला ने कहा - मांगों को अनदेखा किया जा रहा: 
इस दौरान कर्नल बैंसला के पुत्र विजय बैंसला ने कहा कि मांगों को अनदेखा करने के लिए कर गुर्जर समाज में सरकार के प्रति नाराजगी है. उन्होंने कहा कि पीलूपुरा और सिकंदरा में एक साथ आंदोलन किया जाएगा. वार्ता के प्रश्न पर उन्होंने कहा कि सरकार को जो भी देना है वह समाज के बीच में आ कर दे अब कोई वार्ता नहीं की जाएगी.  
 

गुजरात को पीएम मोदी की सौगात, केवडिया में आरोग्य वन, एकता मॉल, बच्चों के लिए पोषक पार्क का किया उद्घाटन

गुजरात को पीएम मोदी की सौगात, केवडिया में आरोग्य वन, एकता मॉल, बच्चों के लिए पोषक पार्क का किया उद्घाटन

केवडिया (गुजरात): प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने गुजरात के नर्मदा जिले के केवडिया में ‘‘स्टैच्यू ऑफ यूनिटी’’ के निकट नवनिर्मित आरोग्य वन, एकता मॉल और बच्चों के लिए पोषक पार्क का उद्घाटन किया. आरोगय वन में 15 एकड़ में औषधीय गुणों से युक्त पौधे लगाए गए हैं. इसमें 380 प्रजाति के पांच लाख पेड़ हैं. योग व आयुर्वेद को ध्यान में रखते हुए इसका विकास किया गया.

केशुभाई पटेल को श्रद्धांजलि अर्पित की:
दो दिवसीय दौरे पर आज गुजरात पहुंचे प्रधानमंत्री ने पहले गांधीनगर में गुजरात के पूर्व मुख्यमंत्री केशुभाई पटेल और गुजराती सिनेमा के सुपरस्टार नरेश कनोडिया व उनके संगीतकार भाई महेश कनोडिया को श्रद्धांजलि अर्पित की. यहां से प्रधानमंत्री केवडिया पहुंचे और आरोग्य वन का लोकार्पण किया. उन्होंने राज्यपाल आचार्य देवव्रत और मुख्यमंत्री विजय रूपाणी के साथ इसका अवलोकन भी किया. प्रधानमंत्री ने एकता मॉल का भी उद्घाटन किया. इस मॉल में भारत की मौजूदा हस्तकलाओं और पारंपरिक उत्पादों का प्रदर्शन किया गया है. यहां पर पूरे देश से आए उत्पाद प्रदर्शित किए गए हैं.

एकता मॉल को केवल 110 दिनों में निर्मित किया गया: 
एक आधिकारिक बयान के मुताबिक उसका उद्देश्य एकता का संदेश देना है. यह मॉल 35 हजार वर्गफुट में फैला हुआ है. मॉल में 20 एम्पोरियम हैं, जो प्रत्येक राज्य का प्रतिनिधत्व करते हैं. एकता मॉल को केवल 110 दिनों में निर्मित किया गया है. प्रधानमंत्री ने बच्चों के लिए पोषक पार्क का भी उद्घाटन किया. उन्होंने पार्क का भ्रमण किया और बच्चों को आकर्षित करने वाली विभिन्न सुविधाओं का अवलोकन किया. यह दुनिया का पहला प्रौद्योगिकी आधारित पार्क है जो 35 हजार वर्गफुट में फैला हुआ है.

{related}

पार्क में एक न्यूट्री ट्रेन की भी व्यवस्था: 
पार्क में एक न्यूट्री ट्रेन की भी व्यवस्था है, जिसके स्टेशन के नाम भी काफी रोचक रखे गए हैं. जिनके फलशाखा गृहम, पायोनागिरी, अन्नपूर्णा, पोषण पुराण, स्वस्थ भारत नाम दिए गए हैं. प्रधानमंत्री ने न्यूट्री ट्रेन की सवारी करते हुए विभिन्न स्टेशनों का मुआयना किया. इस पार्क का उद्देश्य विभिन्न गतिविधियों के जरिए पोषक भोजन के प्रति जागरूकता फैलाना है. पार्क में इसके लिए मिरर मेज, 5डी वर्चुअल रियल्टी थिएटर और ऑगमेंटेंड रियल्टी गेम की भी व्यवस्था की गई है.

महामारी फैलने के बाद गुजरात का यह पहला दौरा:
मार्च में कोरोना वायरस महामारी फैलने के बाद से मोदी का अपने गृह राज्य गुजरात का यह पहला दौरा है. इस दौरान वह केवडिया और अहमदाबाद के बीच समुद्री विमान सेवा की शुरुआत भी करेंगे. वह सरदार पटेल जुओलॉजिकल पार्क ‘जंगल सफारी’ का उद्घाटन करेंगे, जो भारत के ‘लौह पुरुष’ की 182 मीटर लंबी प्रतिमा ‘‘स्टैच्यू ऑफ यूनिटी’’ के पास स्थित है. मोदी अपनी यात्रा के दौरान स्वतंत्र भारत के पहले गृह मंत्री सरदार वल्लभ भाई पटेल को 31 अक्टूबर को उनकी जयंती के दिन ‘स्टैच्यू ऑफ यूनिटी’ जाकर श्रद्धांजलि भी अर्पित करेंगे.
सोर्स- भाषा

उत्तर प्रदेश की जनता बदलाव चाहती है : सचिन पायलट

उत्तर प्रदेश की जनता बदलाव चाहती है : सचिन पायलट

नोएडा(यूपी): राजस्थान के पूर्व उप-मुख्यमंत्री सचिन पायलट ने ‘उत्तर प्रदेश में भ्रष्टाचार चरम पर होने’ का आरोप लगाते हुए शुक्रवार को यहां दावा किया कि राज्य की जनता परिवर्तन चाहती है.

बुलंदशहर उपचुनाव में कांग्रेस के प्रत्याशी के प्रचार के लिए जाते वक्त पायलट नोएडा से गुजरे और इस दौरान पार्टी कार्यकर्ताओं ने डीएनडी फ्लाईवे एवं परी चौक पर उनका स्वागत किया. इस मौके पर पायलट ने संवाददाताओं से बातचीत में कहा कि उत्तर प्रदेश की जनता बदहाल कानून व्यवस्था, बढ़ते भ्रष्ट्राचार से आजिज आ गई है और बदलाव चाह रही है.

{related}

उपचुनाव में जीत से बदलाव का एक संदेश जाएगा: 
उन्होंने कहा कि उपचुनाव में जीत से किसी पार्टी को कुछ खास फर्क नहीं पड़ेगा लेकिन इससे बदलाव का एक संदेश जरूर जनता में जाएगा. पायलट ने बिहार चुनावों के संदर्भ में उम्मीद जताई कि वहां भी बदलाव की हवा चल रही है और महागठबंधन बेहतर प्रदर्शन करेगा.

एमपी उप-चुनाव में लगभग सभी सीटों पर कांग्रेस को विजय मिलने की संभावना: 
मध्य प्रदेश में 28 विधानसभा सीटों पर हो रहे उप-चुनाव के बारे में उन्होंने दावा किया कि वहां कांग्रेस की स्थिति अच्छी है और लगभग सभी सीटों पर कांग्रेस को विजय मिलने की संभावना है. पायलट ने हाल ही में बसपा सुप्रीमो मायावती के भाजपा को समर्थन देने का विकल्प खुला होने संबंधी बयान पर तंज कसते हुए कहा कि इससे स्पष्ट हो गया है कि कौन किसके साथ है. उन्होंने कहा कि जनता भी समझदार है और इसका जवाब चुनावों में देगी. उत्तर प्रदेश में केवल कांग्रेस ही मजबूत सरकार दे सकती है.

अलवर के बहरोड़ में सब इंस्पेक्टर ने की आत्महत्या, 14 दिन के लिए था क्वारंटाइन

अलवर के बहरोड़ में सब इंस्पेक्टर ने की आत्महत्या, 14 दिन के लिए था क्वारंटाइन

अलवर: जिले के बहरोड़ में सब इंस्पेक्टर द्वारा आत्महत्या करने का मामला सामने आया है. मृतक SI दलबीर सिंह ने अनंतपुरा गांव स्थित CISF सेंटर में फांसी लगाई. सूचना के बाद SHO विनोद सांखला मौके पर पहुंचे हैं. मिली जानकारी के अनुसार दलबीर सिंह सेंटर में बने कमरों में 14 दिन के लिए क्वारंटाइन था. 

राष्ट्रपति ट्रंप को वोट देने का अर्थ है एक बेहतर अमेरिका के लिए वोट देना: मेलानिया ट्रंप

राष्ट्रपति ट्रंप को वोट देने का अर्थ है एक बेहतर अमेरिका के लिए वोट देना: मेलानिया ट्रंप

वाशिंगटन: अमेरिका की प्रथम महिला मेलानिया ट्रंप ने यहां एक जनसभा को संबोधित करते हुए कहा कि राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप का ध्यान देश के भविष्य के लिए केंद्रित है और उन्हें वोट देने का अर्थ है एक बेहतर अमेरिका को वोट देना. मेलानिया, बृहस्पतिवार को फ्लोरिडा के टंपा में पहली बार अपने पति के साथ किसी चुनावी रैली में नजर आईं. यह उनकी दूसरी चुनावी रैली थी.

मेलानिया ने कहा कि जिन्हें अब भी यह निर्णय करना है कि वे मंगलवार को किसे वोट देंगे, मुझे उम्मीद है कि मैं आपसे जो कहूंगी उससे साबित होगा कि राष्ट्रपति ट्रंप को वोट देने का अर्थ एक बेहतर अमेरिका को वोट देना होगा. उन्होंने कहा कि ऐसे समय में जब मीडिया के जरिये हमारे घरों में घृणा, नकारात्मकता और भय का संदेश दिया जा रहा है और प्रौद्योगिकी क्षेत्र की बड़ी कंपनियां राजनीतिक दृष्टिकोण को काट-छांट कर प्रस्तुत कर रही हैं, हमें यह याद रखना जरूरी है कि क्या आवश्यक है. मेरे पति के प्रशासन का ध्यान भविष्य पर केंद्रित है. मेलानिया ने कहा कि ट्रंप प्रशासन ने शोर को बंद कर अमेरिकी लोगों पर ध्यान केंद्रित किया है.

उन्होंने कहा कि मेरे पति के नेतृत्व में हमारे राष्ट्र को फिर से सम्मान मिला है, हमारी सीमाएं सुरक्षित हैं, हमने युद्ध जीते हैं और नए युद्धों से दूरी बनाई है. हमने मध्य पूर्व में शांति के समझौते किये हैं. हमने केवल इसके बारे में बात ही नहीं की बल्कि यरुशलम में अपना दूतावास स्थानांतरित किया. उन्होंने चुनावी सभा में चार साल और के नारे लगवाए और कहा कि ट्रंप के नेतृत्व में अमेरिकी मूल्य और विचार सुरक्षित हैं. कोविड-19 की वैक्सीन के बारे में मेलानिया ने कहा कि देशवासियों को इसमें राजनीति नहीं करनी चाहिए. (भाषा)