भोपाल मप्र सरकार कार्तिक आर्यन की फिल्म के शीर्षक पर कार्रवाई करेगी: गृहमंत्री मिश्रा

मप्र सरकार कार्तिक आर्यन की फिल्म के शीर्षक पर कार्रवाई करेगी: गृहमंत्री मिश्रा

मप्र सरकार कार्तिक आर्यन की फिल्म के शीर्षक पर कार्रवाई करेगी: गृहमंत्री मिश्रा

भोपाल: मध्यप्रदेश के गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने फिल्म निर्माताओं पर हिंदू-देवी देवताओं को आसानी से निशाना बनाने का आरोप लगाते हुए सोमवार को कहा कि कार्तिक आर्यन अभिनीत आगामी फिल्म “सत्यनारायण की कथा”  की जांच पुलिस करेगी और उसके खिलाफ कार्रवाई करेगी..

हिन्दू देवी-देवताओं को टारगेट करना बंद करे: 
इस फिल्म के शीर्षक पर आपत्ति जताते हुए एक संगठन ने कहा कि यह शीर्षक हिन्दू देवताओं का अपमान है और संगठन ने फिल्म निर्माता से माफी की मांग की. फिल्म सत्यनारायण की कथा का हिन्दू संगठनों द्वारा विरोध किये जाने के बारे में पूछे जाने पर मिश्रा ने कहा कि सभी फिल्म और वेब सीरीज निर्माताओं से मेरा आग्रह है कि वे हिन्दू देवी-देवताओं को टारगेट करना बंद करें. वेब सीरीज सत्यनारायण में विवादास्पद कंटेंट की जांच के लिए मैंने डीजीपी को निर्देशित किया है. जांच रिपोर्ट के आधार पर कार्रवाई का निर्णय लिया जाएगा.

साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर को एक ज्ञापन सौंपा: 
पिछले माह निर्माता साजिद नाडियाडवाला ने घोषणा की कि बॉलीवुड स्टार कार्तिक आर्यन उनकी आगामी फिल्म सत्यनारायण की कथा में मुख्य भूमिका निभाएंगे.  मिश्रा ने आरोप लगाया कि बॉलीवुड फिल्म निर्माता अपनी फिल्मों में हिंदू देवी-देवताओं को निशाना बनाते हैं. उन्होंने पूछा कि ये फिल्म निर्माता कभी अन्य धर्मों के बारे में ऐसी फिल्में नहीं बनाते हैं, क्या आपने कभी सुना है कि उन्होंने अल्पसंख्यकों के बारे में ऐसी फिल्म लिखी और बनाई हो. उन्होंने कहा कि वे यह नहीं कर सकते हमारे देवी-देवता उनके लिए आसान निशाना हैं. इससे पहले रविवार को संस्कृति बचाओ मंच नाम के एक हिंदू संगठन ने आगामी फिल्म सत्यनारायण की कथा के निर्माता के खिलाफ कार्रवाई की मांग करते हुए विरोध प्रदर्शन किया. मंच के अध्यक्ष चंद्रशेखर तिवारी ने कहा कि हमने रविवार को भोपाल की सांसद साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर को एक ज्ञापन सौंपा है.  और मांग की है कि इस फिल्म का निर्माण बंद किया जाए. मंच ने यह भी मांग की कि निर्माता के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की जानी चाहिए. उन्होंने इस फिल्म के निर्माता से माफी की भी मांग की है. सोर्स भाषा

और पढ़ें