पपला की गिरफ्तारी पर बोले बहरोड़ थाने के तत्कालीन थानाधिकारी, कहा-आज मिला है मुझे न्याय

पपला की गिरफ्तारी पर बोले बहरोड़ थाने के तत्कालीन थानाधिकारी, कहा-आज मिला है मुझे न्याय

पपला की  गिरफ्तारी पर बोले बहरोड़ थाने के तत्कालीन थानाधिकारी, कहा-आज मिला है मुझे न्याय

जयपुरः मोस्ट वांटेड विक्रम उर्फ पपला गुर्जर को राजस्थान पुलिस ने महाराष्ट्र के कोल्हापुर से गिरफ्तार कर लिया हैं. पपला गुर्जर 6 सितंबर 2019 को अलवर के बहरोड़ थाने से फरार हुआ था. जिसको लेकर बहरोड़ थाने के तत्कालीन थानाधिकारी सुगन सिंह का बयान आया हैं. सुगन सिंह ने कहा कि आज मुझे न्याय मिला है. सुगन सिंह ने कहा कि 5 सितंबर की रात मैंने ही पपला गुर्जर को गिरफ्तार किया था. 31 लाख की नकदी के साथ गिरफ्तार किया था. गिरफ्तारी और नकदी की सूचना अधिकारियों को दे दी थी, लेकिन उस समय हम नहीं पहचान पाए कि ये मोस्ट वांटेड पपला है. पपला ने पुलिस को खुद का बदला हुआ नाम बताया था. 

पपला को किया महाराष्ट्र के कोल्हापुर से जयपुर रेंज की टीम ने गिरफ्तार:

आपको बता दें कि मोस्ट वांटेड पपला गुर्जर को महाराष्ट्र के कोल्हापुर से जयपुर रेंज की टीम ने गिरफ्तार किया हैं. अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक सिद्धांत शर्मा,पुलिस निरीक्षक जहीर अब्बास, इंसार अली,उप निरीक्षक सुनील जांगिड़,मुकेश वर्मा और 16 ईआरटी के कमांडो ऑपरेशन में मौजूद रहे. इससे पहले पहले पपला गुर्जर के 30 साथी के गिरफ्तार हो चुके है. सभी बदमाश जेल में सजा काट रहे. 


 

6 सितंबर 2019 की सुबह बहरोड़ थाने से हुआ था फरार: 

गौरतलब हैं कि पपला गुर्जर 6 सितंबर 2019 की सुबह बहरोड़ थाने से फरार हुआ था. पपला के साथियों ने थाने पर फायरिंग कर पपला को छुड़ाया था. घटना के बाद बहरोड़ थाना प्रभारी सुगन सिंह ने एफआईआर दर्ज करवाई थी.  पपला गुर्जर फरारी प्रकरण की जांच एसओजी को दी गई थी. एसओजी ने पपला गिरोह के 30 बदमाशों को गिरफ्तार कर लिया था. लोगों के मन से भय निकालने के लिए बदमाशों की परेड करवाई गई थी. बहरोड़ के बाजार में बदमाशों की परेड करवाई गई थी. फरारी के बाद से ही पपला मोबाइल का इस्तेमाल नहीं कर रहा था.

कौन है पपला गुर्जर?

गैंगस्टर विक्रम उर्फ पपला गुर्जर हरियाणा, राजस्थान और दिल्ली में कुख्यात है. तीनों राज्यों की पुलिस के लिए यह सिरदर्द बना हुआ था.  गैंगस्टर पपला गुर्जर राजस्थान में बहरोड़ थाना पुलिस ने पकड़ा था. तब पपला के साथियों ने एके-47 सहित अन्य खतरनाक हथियारों से थाने पर धावा बोलकर पपला को छुड़ा लिया था. इसके बाद से पपला गुर्जर फरार चल रहा था. पुलिस की टीमें उसकी तलाश में दिन-रात एक किए हुए थे. 

और पढ़ें