मुंबई Maharashtra Politics: क्या महाराष्ट्र में हो रहा कोई उलटफेर ? उद्धव सरकार पर मंडराया खतरे का बादल; जानकार सूत्रों के हवाले से बड़ी खबर

Maharashtra Politics: क्या महाराष्ट्र में हो रहा कोई उलटफेर ? उद्धव सरकार पर मंडराया खतरे का बादल; जानकार सूत्रों के हवाले से बड़ी खबर

Maharashtra Politics: क्या महाराष्ट्र में हो रहा कोई उलटफेर ? उद्धव सरकार पर मंडराया खतरे का बादल; जानकार सूत्रों के हवाले से बड़ी खबर

मुंबई: महाराष्ट्र में एक बार उद्धव सरकार के सत्ता पलट के संकेत मिल रहे हैं. महाराष्ट्र (Maharashtra) में सत्तारूढ़ महा विकास आघाड़ी (MVA) को राज्य विधान परिषद चुनावों में हार से झटका मिलने के एक दिन बाद मंगलवार को पार्टी के दो दर्जन से ज्यादा विधायकों के बागी होने की खबर मिली. जानकार सूत्रों के हवाले से मिली खबर के अनुसार एकनाथ शिंदे (Eknath Shinde) के साथ करीब 25 से अधिक विधायक हो सकते हैं. 

विधायक एकनाथ शिंदे के साथ सूरत की एक होटल में होने की जानकारी सामने आ रही हैं. शिंदे कल से शिवसेना के संपर्क में नहीं थे. वे महाराष्ट्र में शिवसेना के वरिष्ठ नेता हैं और वर्तमान में ठाकरे सरकार में शहरी विकास मंत्री हैं. बताया गया है कि उनकी ठाकरे परिवार से अनबन चल रही है. वे पार्टी प्रमुख व सीएम उद्धव ठाकरे के भी फोन नहीं उठा रहे हैं. 

वहीं पार्टी के एक नेता ने मंगलवार को कहा कि राज्य के मंत्री और शिवसेना के वरिष्ठ नेता एकनाथ शिंदे से संपर्क नहीं हो पा रहा है. पार्टी ने छह सीटों पर चुनाव लड़ा था. यह घटनाक्रम शिवसेना, राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) और कांग्रेस के गठबंधन एमवीए को खटक सकता है, क्योंकि माना जाता है कि शिवसेना के कुछ विधायक शिंदे के संपर्क में हैं. पार्टी के एक नेता ने कहा कि शिंदे कुछ विधायकों के साथ गुजरात में हो सकते हैं.

नेता ने उन विधायकों की संख्या और उनके विवरण का खुलासा नहीं किया जो शिंदे के साथ हो सकते हैं. शिंदे का मुंबई के कुछ उपनगरों में प्रभाव है. नेता ने कहा कि वह (शिंदे) सोमवार को विधानसभा परिसर में शिवसेना कार्यालय में थे, जब मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे वहां मौजूद थे. लेकिन उसके बाद उनके बारे में किसी को पता नहीं है. वह मतगणना (विधान परिषद चुनावों के लिए) के दौरान मौजूद नहीं थे.

कांग्रेस उम्मीदवार एवं दलित नेता चंद्रकांत हांडोर हार गए:
विपक्षी दल भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने सोमवार को राज्य विधान परिषद में 10 सीटों के चुनाव में पांच उम्मीदवार उतारे थे और पार्टी ने सभी पांच सीटों पर जीत हासिल की. वहीं, कांग्रेस उम्मीदवार एवं दलित नेता चंद्रकांत हांडोर हार गए. इस महीने की शुरुआत में हुए राज्यसभा चुनावों के बाद एमवीए के लिए यह एक और झटका था.

विधान परिषद की 10 सीटों पर चुनाव होना था और 11 उम्मीदवार चुनाव मैदान में थे:
शिवसेना और राकांपा के दो-दो उम्मीदवार जीते, जबकि कांग्रेस सिर्फ एक सीट हासिल करने में सफल रही. विधान परिषद की 10 सीटों पर चुनाव होना था और 11 उम्मीदवार चुनाव मैदान में थे. विधान परिषद का चुनाव राज्यसभा चुनाव के कुछ दिन बाद हुआ है, जिसमें भाजपा से शिवसेना के नेतृत्व वाले सत्तारूढ़ गठबंधन को शर्मनाक हार का सामना करना पड़ा था.

और पढ़ें