Live News »

PoK में भूकंप से बड़ा नुकसान, मीरपुर में गिरी बिल्डिंग, 5 लोगों की मौत, करीब 50 जख्मी

PoK में भूकंप से बड़ा नुकसान, मीरपुर में गिरी बिल्डिंग, 5 लोगों की मौत, करीब 50 जख्मी

नई दिल्ली: पीओके में आज शाम 4 बजकर 35 मिनट पर भूकंप के तीव्र झटके महसूस किए गए. यूरोपियन-मेडिटेरेनियन सीस्मोलॉजिकल सेंटर के अनुसार रिक्टर स्केल पर भूकंप की तीव्रता 6.3 दर्ज की गई है. इस जलजले का असर उत्तर भारत में भी देखने को मिला. अब तक मिली जानकारी के अनुसार पीओके में 5 लोगों की मौत और 50 लोगों के घायल होने की खबर है.

दरअसल पीओके के जाटलान इलाके में भूकंप का केंद्र बताया जा रहा है, जो लाहौर से 173 किमी उत्तर पश्चिम में है. शुरुआती खबरों के मुताबिक पीओके में सड़कें बीच से फट गई और गाड़ियां पलट गईं. इसके अलावा दिल्ली एनसीआर और कश्मीर में भूकंप के तीव्र झटके महसूस किए गए. वहीं भूकंप के झटके हरियाणा, पंजाब, हिमाचल प्रदेश की अलग-अलग जगहों पर भी महसूस किया गया है. जम्मू-कश्मीर पुलिस के डीजीपी दिलबाग सिंह ने कहा है कि भूकंप से फिलहाल राज्य में किसी नुकसान की खबर नहीं है.

बता दें कि भूकंप के बाद लोगों में दहशत फैल गई और लोग अपने-अपने दफ्तर और घरों से बाहर निकल गए. लोग भूकंप से बुरी तरह से डरे हुए हैं. 
 

और पढ़ें

Most Related Stories

नकली शराब पीने से तीन लोगों की मौत

नकली शराब पीने से तीन लोगों की मौत

पलक्कड़:  केरल के पलक्कड़ जिले के निकट कांजीकोड़ में आदिवासी कॉलोनी में कथित रूप से नकली शराब पीने से तीन लोगों की मौत हो गई और तीन महिलाओं सहित नौ अन्य लोगों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है. पुलिस ने सोमवार को यह जानकारी दी है. पुलिस ने कहा कि कॉलोनी के निवासी अय्यप्पन और रमन की कल मौत हो गई थी और उन्हें दफनाया जा चुका है. दोनों की आयु 52 वर्ष से अधिक है.

जांच अधिकारी ने  बताया कि आज सुबह कॉलोनी के निवासियों को सीवन (37) नाम का एक व्यक्ति अपने घर के बाहर मृत मिला है, जिसके बाद उन्होंने हमें इसकी जानकारी दी है. हम तीन प्राथमिकियां दर्ज कर रहे हैं. पुलिस ने कहा कि तीन महिलाओं समेत नौ लोगों का यहां जिला अस्पताल में इलाज चल रहा है. सभी ने कल शराब पी थी. अब वह शराब ही थी या कुछ और कहा नहीं जा सकता है. 

पलक्कड़ के एसपीजी शिव विक्रम ने मीडिया से कहा कि हमें यह नहीं पता कि उन्होंने जिस चीज का सेवन किया वह शराब थी या नहीं. जिंदा बचे लोगों ने बताया कि वह सफेद रंग का कोई पदार्थ था, जिसकी सुगंध फिनाइल जैसी थी.  हम सभी कोणों से मामले की जांच कर रहे हैं. पुलिस मौत के कारणों की पुष्टि के लिये पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट आने की प्रतीक्षा कर रही है. उन्होंने संदेह जताया कि शराब के साथ सैनिटाइजर मिलाया गया होगा. पुलिस ने कहा कि इस घटना में जान गंवाने वाले दो लोगों के शवों को कब्रों से बाहर निकाला जाएगा. (सोर्स-भाषा)

{related}

वॉटर लाइन की मरम्मत के दौरान लगा करंट, दो की मौत, पांच घायल

वॉटर लाइन की मरम्मत के दौरान लगा करंट, दो की मौत, पांच घायल

मुंबई:  मुंबई के सुमन नगर इलाके में पानी की पाइप लाइन की मरम्मत के दौरान सोमवार को करंट लगने से दो मजदूरों की मौत हो गई जबकि पांच अन्य झुलस गये है.स्थानीय निकाय के अधिकारी ने बताया कि घटना सुबह करीब आठ बजे कुर्ला पूर्व यातायात पुलिस चौकी के पीछे बीएमसी की जलापूर्ति विभाग की पाइप लाइन के पास हुई है जहां लाइन ठीक करते हुए ये हादसा हो गया है. 

पुलिस अधिकारी ने बताया की सभी मजदूरों को तुरंत राजावाड़ी अस्पताल ले जाया गया जहां डॉक्टरों ने दो को मृत लाया गया घोषित कर दिया है और अन्य पांच की हालत स्थिर बताई जा रही है. फिलहाल मामले की विस्तृत जानकारी मिलने का इंतजार है. परिजनों को शव सुपुर्द करने की तैयारी की जा रही है. (सोर्स-भाषा)

{related}

13 वर्षीय बच्चे के अपहरण व हत्या केस के मुख्य आरोपी की गिरफ्तारी के एक घंटे बाद मौत, कारण का खुलासा नहीं

 13 वर्षीय बच्चे के अपहरण व हत्या केस के मुख्य आरोपी की गिरफ्तारी के एक घंटे बाद मौत, कारण का खुलासा नहीं

जबलपुर: मध्य प्रदेश के जबलपुर से 13 वर्षीय बच्चे का अपहरण और हत्या करने के मामले में एक दिलचस्प मोड़ आया है. असल में पुलिस ने शक के चलते तीन आरोपियों को गिरफ्तार था जिसमें से मुख्य आरोपी की गिरफ्तारी के महज एक घंटे बाद ही मौत हो गई है. ऐसा क्यूं हुआ इसका कारण अभी जाहिर नहीं किया गया है. पुलिस ने पुष्टि करते हुए बताया है कि  तीन आरोपियों की गिरफ्तारी के कुछ ही देर बाद मुख्य आरोपी की गिरफ्तारी के कुछ ही घंटे बाद मौत हो गई है. 

अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक गोपाल खांडेल ने सोमवार को बताया कि रविवार शाम को जबलपुर में हुई प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान मुख्य आरोपी राहुल उर्फ मोनू विश्वकर्मा (30) का अचानक स्वास्थ्य खराब हो गया, जिसके कारण उसे जबलपुर जिला अस्पताल ले जाया गया, जहां उसकी उपचार के दौरान रविवार रात को मौत हो गई. उन्होंने कहा कि शव को पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दिया गया है. पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट आने के बाद ही पता चलेगा कि उसकी मौत कैसे हुई होगी. 

आपको बता दे कि जबलपुर से चार दिन पहले ट्रांसपोर्ट व्यापारी मुकेश लांबा के अपहृत बेटे आदित्य (13) का शव यहां से 20 किलोमीटर दूर ग्राम बिछुआ के समीप बरगी बांध नहर में रविवार सुबह मिला था. पुलिस ने हत्या व अपहरण की वारदात को अंजाम देने वाले तीनों आरोपियों राहुल उर्फ मोनू विश्वकर्मा (30), मलय राव (25) एवं करण जग्गी (24) को रविवार को गिरफ्तार किया था. 

इन आरोपियों ने दो करोड़ रूपये की फिरौती मांगी थी और उसमें से आठ लाख रूपये उन्हें अपहृत बच्चे के परिजनों ने दे भी दिए थे. मगर फिर भी इन्होनें बच्चें की गला घोटकर हत्या कर दी और शव को पास के तालाब में फेंक दिया था. फिलहाल एक आरोपी की मौत हो चुकी है और बाकी के दो पुलिस की गिरफ्त मेॆ है. (सोर्स-भाषा)

{related}

नांदेड़ गुरुद्वारा जुलूस मामले में SC ने SDMA पर छोड़ा फैसला

 नांदेड़ गुरुद्वारा जुलूस मामले में SC ने SDMA पर छोड़ा फैसला

नांदेड़:  महाराष्ट्र के उच्चतम न्यायालय ने कोरोना वायरस महामारी के बीच महानांदेड़ गुरद्वारा जुलूस के संबंध में एसडीएमए को जमीनी स्थिति के आधार पर निर्णय करने का आदेश दिया है. आपको बता दे कि गुरुद्वारा प्रंबधन ने अदालत से 300 साल पुरानी रस्म के पालन और जुलूस निकालने की इजाजत मांगी थी. इस जुलूस के अंतर्गत दशहरा, तख्त इंसान, दीपमाला और गुर्ता गद्दी जैसी बड़ी रस्मों की अदायगी की जाती है. 

मगर कोरोना के चलते गुरुद्वारा प्रबंधन को उच्चतम न्यायालय का दरवाजा खटखटाना पड़ा था. जिसके बाद अदालत ने कहा है कि राष्ट्र एसडीएमए को ऐतिहासिक नांदेड़ गुरद्वारे में दशहरा जुलूस निकालने पर फैसला लेने का आदेश दिया है. उच्चतम न्यायालय ने नांदेड़ गुरद्वारा प्रबंधन से एसडीएमए के समक्ष कल तक प्रतिवेदन दाखिल करने के लिये कहा है और अदालत ने ये भी कहा है कि अगर गुरद्वारा प्रबंधन से महाराष्ट्र एसडीएमए के निर्णय से संतुष्ट नहीं होता है तो वह बम्बई उच्च न्यायालय में जाके आगे कार्यवाही की मांग कर सकते है. (सोर्स-भाषा)

{related} 

दो अलग-अलग झीलों में दो व्यक्तियों की डूबने से मौत

दो अलग-अलग झीलों में दो व्यक्तियों की डूबने से मौत

ठाणे: महाराष्ट्र के ठाणे शहर में झीलों में डूबने के मामले सामने आए है जिसमें दोनों की मौत हो गई है. बताया जा रहा है कि दो अलग-अलग झीलों में एक महिला और एक लड़का डूबने की खबर है. एक अधिकारी ने यह जानकारी देते हुए घटना की पुष्टि की है. क्षेत्रीय आपदा प्रबंधन प्रकोष्ठ (आरडीएमसी) के प्रमुख संतोष कदम ने बताया कि सोमवार तड़के करीब दो बजे ठाणे नगरपालिका मुख्यालय के पास कचराली झील में तकरीबन 35 से 40 साल की उम्र की अज्ञात महिला का शव मिला. 

अधिकारी ने बताया कि एक अन्य घटना में, यहां के चराई इलाके में रहने वाला एक 16 वर्षीय लड़का रविवार शाम शहर की उपवन झील में डूब गया. जिसके बाद आरडीएमसी और दमकल कर्मियों की एक टीम ने शव को बाहर निकाला और पुलिस को आगे की कार्यवाही के लिए पुलिस को बुलाया गया. उन्होंने बताया कि शहर पुलिस ने बाद में इन घटनाओं को लेकर दुर्घटनावश मौत के मामले दर्ज किए है. फिलहाल शवों को परिवारों को सौपनें की तैयारी की जा रही है. (सोर्स-भाषा)

{related} 

ED कर रही फारूक अब्दुल्ला से पूछताछ, जानिए क्या है मामला

ED कर रही फारूक अब्दुल्ला से पूछताछ, जानिए क्या है मामला

नई दिल्ली: नेशनल कॉन्फ्रेंस के नेता और जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री फारूक अब्दुल्ला से प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) पूछताछ कर रही है. ईडी की टीम श्रीनगर स्थित पूर्व सीएम के घर पहुंची है. फारूक अब्दुल्ला से जम्मू-कश्मीर क्रिकेट एसोसिएशन में पैसों की गड़बड़ी के मामले में पूछताछ की जा रही है. ईडी ने इस मामले में पहले भी उन्हें तलब किया था. 

एफआईआर वर्ष 2015 में दर्ज कराई गई थी: 
यह एफआईआर वर्ष 2015 में दर्ज कराई गई थी. सीबीआई ने जम्मू-कश्मीर क्रिकेट संघ के कोष में अनियमितताओं और गबन के मामले में फारुख अब्दुल्ला और तीन अन्य के खिलाफ श्रीनगर की एक अदालत में कुछ समय पहले आरोप पत्र दाखिल किया था. इसी केस के सिलसिले में मनी लॉन्ड्रिंग के आरोपों तहत ED यह पूछताछ कर रही है. 

{related}

आरोप है कि इसमें से 43.69 करोड़ रुपए से ज्यादा का गबन किया गया: 
इससे पहले सीबीआई की जांच में ये बात सामने आई थी कि BCCI ने 2002 से 2012 के बीच JKCA को राज्य में खेल का बढ़ावा देने के लिए 113 करोड़ रुपए दिए थे, लेकिन इस फंड को पूरी तरह खर्च नहीं किया गया. आरोप है कि इसमें से 43.69 करोड़ रुपए से ज्यादा का गबन किया गया और इस पैसे को खिलाड़ियों पर भी खर्च नहीं किया गया.

कथित 113 करोड़ रुपये की धांधली का मामला काफी पुराना:
आपको बता दें कि जम्मू-कश्मीर क्रिकेट संघ में कथित 113 करोड़ रुपये की धांधली का मामला काफी पुराना है. पहले ये जांच जम्मू-कश्मीर पुलिस कर रही थी, जिसके बाद अदालत ने इसे सीबीआई के हवाले सौंपा था. बाद में इस पूरे केस में ईडी की एंट्री हुई थी, क्योंकि मामला मनी लॉन्ड्रिंग से जोड़ा गया था. 


 

MP में कमलनाथ की विवादित टिप्पणी से खफा CM शिवराजसिंह चौहान 2 घंटे के मौन व्रत पर

MP में कमलनाथ की विवादित टिप्पणी से खफा CM शिवराजसिंह चौहान 2 घंटे के मौन व्रत पर

भोपाल: मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने प्रदेश की मंत्री इमरती देवी को प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ द्वारा कथित तौर पर ‘आइटम’ कहे जाने पर उनकी तीखी आलोचना करते हुए कहा कि पूर्व मुख्यमंत्री ने अपने ओछे बयान से कांग्रेस की विकृत और घृणित मानसिकता का फिर परिचय दिया है.चौहान ने रविवार को ट्वीट किया कि आपने (कमलनाथ ने) इमरती देवी ही नहीं, बल्कि ग्वालियर-चंबल क्षेत्र की एक-एक बेटी और बहन का अपमान किया है.

कमलनाथ की उक्त टिप्पणी के प्रति विरोध जताने एवं इस संबंध में जनजागरण के लिए भाजपा नेताओं और कार्यकर्ताओं ने पूरे प्रदेश में सोमवार सुबह 10 बजे से धरने पर बैठकर दो घंटे का मौन व्रत शुरू किया. मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान भोपाल में, पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष विष्णु दत्त शर्मा ग्वालियर में और पार्टी नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया इंदौर में पार्टी कार्यकर्ताओं के साथ धरने पर बैठे हैं.

इमरती देवी के खिलाफ डबरा विधानसभा सीट से चुनाव लड़ रहे कांग्रेस प्रत्याशी सुरेश राजे के लिए चुनाव प्रचार करते हुए कमलनाथ ने रविवार को कहा था कि डबरा से सुरेश राजे जी हमारे उम्मीदवार हैं. सरल स्वभाव के, सीधे-सादे हैं. ये तो उसके जैसे नहीं हैं. क्या है उसका नाम? इसी बीच वहां मौजूद जनता जोर-जोर से ‘इमरती देवी’, ‘इमरती देवी’ कहने लगी.इसके बाद कमलनाथ ने हंसते हुए कहा कि मैं क्या उसका (डबरा की भाजपा प्रत्याशी का) नाम लूं. आप तो उसको मेरे से ज्यादा पहचानते हैं. आपको तो मुझे पहले ही सावधान कर देना चाहिए था. ये क्या आइटम है. 

इस पर चौहान ने ट्वीट किया कि कमलनाथ जी, आज आपने अपने ओछे बयान के द्वारा कांग्रेस की विकृत और घृणित मानसिकता का फिर परिचय दिया है. आपने श्रीमती इमरती देवी ही नहीं, ग्वालियर-चंबल क्षेत्र की एक-एक बेटी और बहन का अपमान किया है.कमलनाथ जी, आपको किसी भी महिला के सम्मान के साथ खिलवाड़ करने का अधिकार किसने दिया? गौरतलब है कि डबरा समेत राज्य की 28 विधानसभा सीटों पर तीन नवंबर को उपचुनाव होना है. ऐसे में सभी अपना उल्लू सीधा करने में लगे हुए है. (सोर्स-भाषा)

{related}

महाराष्ट्र और ओडिशा की पुलिस की तुलना पाक से करने के मामले में BJP राष्ट्रीय उपाध्यक्ष बैजयंत पांडा विपक्ष के निशाने पर

महाराष्ट्र और ओडिशा की पुलिस की तुलना पाक से करने के मामले में  BJP राष्ट्रीय उपाध्यक्ष बैजयंत पांडा विपक्ष के निशाने पर

भुवनेश्वर: भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष बैजयंत पांडा ने पिछले सप्ताह ओडिशा और महाराष्ट्र में पत्रकारों पर हुई पुलिसिया कार्रवाई की तुलना पाकिस्तान में पत्रकारों के उत्पीड़न से करके एक नये विवाद को जन्म दे दिया है. पूर्व सांसद ने पांडा परिवार के मालिकाना हक वाली कंपनी ओटीवी के एक संवाददाता से हिरासत में पूछताछ की निंदा करते हुए कहा कि फासीवाद का विरोध जरूर किया जाना चाहिए.

वहीं उन्होंने रिपब्लिक टीवी के एक पत्रकार से भी अपील की है कि वह महाराष्ट्र में इसी तरह के अनुभव के बारे में आवाज उठाएं. पांडा का दावा है कि महाराष्ट्र में संबंधित पत्रकार के साथ ऐसा व्यवहार हुआ है. वरिष्ठ भाजपा नेता ने शनिवार को ट्वीट किया कि अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता. आगे भी उन्होनें आरोपों का सिलसिला जारी रखा. उन्होनें ओडिशा और महाराष्ट्र पुलिस की तुलना पाकिस्तान से कर दी. 

यह शर्मनाक है कि महाराष्ट्र और ओडिशा की पुलिस कानून का पालन किए बगैर पाकिस्तान की तरह पत्रकारों को पकड़ रही है और उन्हें प्रताड़ित कर रही है और हिरासत में पूछताछ कर रही है. यही वास्तविक फासीवाद है. ओटीवी न्यूज के पत्रकार रमेश रथ और रिपब्लिक के प्रदीप के लिए आवाज उठाएं. उन्होंने इस ट्वीट में दोनों पत्रकारों को टैग किया था. पांडा ने दावा किया कि उचित वारंट नहीं होने के बाद भी ओडिशा पुलिस ने छापेमारी की और ओटीवी के पत्रकार से बिना कानून का पालन किए हुए पूछताछ की है. 

पांडा के ट्वीट पर प्रतिक्रिया देते हुए सत्तारूढ़ बीजद के नेताओं ने ओडिशा की तुलना पाकिस्तान’ से करने के लिए उनकी निंदा की है. राज्य सभा सांसद सस्मित पात्रा ने अपने पूर्व सहकर्मी के बयान को दुर्भाग्यूपर्ण करार दिया है. भाजपा विधायक प्रणब प्रकाश दास ने एक बयान में कहा कि पांडा ने ‘राज्य की तुलना पाकिस्तान से करके’ राज्य का अनादर किया है. (सोर्स-भाषा)

{related}