close ads


Jaipur: मकर संक्रांति पर दो दर्जन से अधिक घरों में खलल! अकेले SMS ट्रोमा सेन्टर में पहुंचे 18 मरीज

Jaipur: मकर संक्रांति पर दो दर्जन से अधिक घरों में खलल! अकेले SMS ट्रोमा सेन्टर में पहुंचे 18 मरीज

जयपुर: राजस्थान में मकर संक्रांति का पर्व धूमधाम से मनाया जा रहा है. अगर राजधानी जयपुर की बात करें तो यहां की पतंगबाजी देश दुनिया में मशहूर है. लेकिन, उत्साह और उल्लास के इस पर्व के बीच कुछ हादसे की खबरें भी आ रही हैं. त्यौहारी उत्साह के बीच हादसों में घायल लोग अस्पताल पहुंच रहे हैं. अकेले SMS ट्रोमा सेन्टर में खबर लिखे जाने तक पतंग-मांझे से कटने से 18 मरीज पहुंच चुके हैं. हालांकि कोई गंभीर मामला सामने नहीं आया है. 

कोटा में पतंग लूटते समय एक बालक की मौत: 
वहीं दूसरी ओर कोटा में पतंग लूटते समय एक बालक की मौत हो गई. पतंग लूटते समय वह बालक ट्रेन के इंजन से टकरा गया. वहीं, झुंझुनूं में पतंगबाजी के दौरान 70 साल की बुजुर्ग का चाइनीज मांझे से पैर कट गया. जिन्हें पांच टांके लगाए गए हैं. सीकर में भी मांझे से घायल होने के कई मामले सामने आए है. यह सभी सरकारी अस्पताल पहुंचे हैं. कई और शहरों से मांझे से लोगों के घायल होने की सूचनाएं भी हैं. दूसरी ओर राजधानी जयपुर, सीकर, कोटा समेत कई शहरों में परिंदे भी मांझे में उलझकर जमीन पर गिरे मिले हैं. 

वन विभाग की ओर से जयपुर में कई जगह पर पक्षी उपचार केंद्र बनाए गए: 
बता दें कि मकर सक्रांति पर पतंगबाजी बेजुबान पक्षियों के लिए जानलेवा बन जाती है. पतंगबाजी से दौर में फंसकर बेजुबान पक्षी घायल हो जाते हैं तो कई पक्षियों की मौत हो जाती है. घायल पक्षियों के इलाज के लिए वन विभाग की ओर से जयपुर में कई जगह पर पक्षी उपचार केंद्र बनाए गए है. वन विभाग एनजीओ के सहयोग से पक्षियों के लिए उपचार की व्यवस्था कर रहा है. 


 

और पढ़ें