करौली: मंडरायल करनपुर क्षेत्र में चंबल नदी उफान पर, क्षेत्र के दर्जनों गांवों का कटा संपर्क

करौली: मंडरायल करनपुर क्षेत्र में चंबल नदी उफान पर, क्षेत्र के दर्जनों गांवों का कटा संपर्क

करौली: मंडरायल करनपुर क्षेत्र में चंबल नदी उफान पर, क्षेत्र के दर्जनों गांवों का कटा संपर्क

करौली: कोटा बैराज से की गई जल निकासी के चलते जिले में मंडरायल करनपुर क्षेत्र में चंबल नदी उफान पर है. कलेक्टर सिद्धार्थ सिहाग ने चंबल तटीय क्षेत्र में अलर्ट जारी किया है और ग्रामीणों से सतर्क रहने निचले इलाके में नहीं जाने की अपील की है. चंबल नदी का जलस्तर बढ़ने के कारण दर्जनों गांवों का संपर्क कट गया है और आवागमन बाधित है. वहीं करीब एक दर्जन गांवों के चंबल के पानी में घिरने की आशंका है.

हंगामेदार रहा राजस्थान विधानसभा का सत्र, कार्यवाही अनिश्चितकाल के लिए स्थगित, कई विधेयक हुए पारित

चंबल के जल स्तर पर नजर रखी जा रही:  
वहीं मल्लापुरा और गोटा गांव के ग्रामीण पानी में घिरने के बाद जरूरत का सामान और मवेशी को लेकर सुरक्षित स्थानों पर पहुंचे हैं.  हालांकि अभी महिलाएं और बच्चे गांव में ही हैं. अधिक जल स्तर बढ़ने पर ग्रामीण गांव छोड़कर सुरक्षित स्थानों पर शरण लेने को मजबूर होंगे. सपोटरा एसडीएम ओपी मीणा ने कहा है कि चंबल के जल स्तर पर नजर रखी जा रही है. क्षेत्र के अधिकारी कर्मचारियों को भी अलर्ट रहने को कहा गया है. 

सोनिया गांधी बनीं रहेंगी कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष, CWC बैठक में सोनिया के नाम पर रजामंदी

गत वर्ष भी ग्रामीणों को सुरक्षित स्थानों पर शरण लेनी पड़ी थी:
गौरतलब है कि गत वर्ष भी चंबल का जलस्तर बढ़ने के कारण करीब एक दर्जन गांवों के पानी में गिरने के बाद ग्रामीणों को सुरक्षित स्थानों पर शरण लेनी पड़ी थी. करणपुर मंडरायल क्षेत्र में करीब एक दर्जन गांव ऐसे हैं जहां चंबल का जलस्तर बढ़ने पर वे डूब में आ जाते हैं और ग्रामीणों को सुरक्षित स्थानों पर शरण लेनी पड़ती है लेकिन जमीन और मवेशी के कारण ग्रामीणों ने इसे अपनी नियति मान लिया है. 

और पढ़ें