Toolkit पर Manipulated media: संबित पात्रा की पोस्ट पर Tag से खफा केंद्र सरकार, Twitter को नसीहत- जांच में न दो दखल

Toolkit पर Manipulated media: संबित पात्रा की पोस्ट पर Tag से खफा केंद्र सरकार, Twitter को नसीहत- जांच में न दो दखल

Toolkit पर Manipulated media: संबित पात्रा की पोस्ट पर Tag से खफा केंद्र सरकार, Twitter को नसीहत- जांच में न दो दखल

नई दिल्ली: BJP प्रवक्ता संबित पात्रा (BJP Spokesperson Sambit Patra) की ओर से टूलकिट (Toolkit) वाले ट्वीट (Tweet) को मैन्युप्लेटिड मीडिया (Manipulated Media) यानी गुमराह करने वाली पोस्ट करार देने पर केंद्र सरकार ने ट्विटर से नाराजगी जताई है. केंद्र सरकार ने सोशल मीडिया (Social Media) कंपनी को पत्र लिखकर उसके इस कदम पर कड़ा ऐतराज (Strict Objection) जताया है.

ट्विटर को मैन्युप्लेटिड मीडिया वाले टैग को हटाने के निर्देश:
सरकार ने ट्विटर से साफ तौर पर कहा है कि वह इस तरह के टैग (Tag) (मैन्युप्लेटिड मीडिया) को हटाए, जिन्हें पूर्वाग्रह के तहत लगाया है. समानता और पक्षपात रहित (Equality and Non Partisanship) माहौल और अवसर के लिए यह जरूरी है. सरकार की ओर से ट्विटर से कहा गया है कि उसकी भूमिका एक माध्यम के तौर पर है और इसके जरिए उसने फैसला देने का प्रयास किया है, जो गलत है.

आईटी मिनिस्ट्री की ओर से लिखा गया है पत्र:
IT मिनिस्ट्री (IT Ministry) की ओर से पत्र लिखकर कहा गया है कि टूलकिट के मामले में संबंधित पक्षों की ओर से शिकायतें की गई हैं और कानूनी एजेंसियों (Legal Agencies) की ओर से जांच की जा रही है. ऐसे में इस मामले पर ट्विटर की ओर से कोई फैसला देने गलत है. यही नहीं सरकार ने ट्विटर की इस कार्रवाई को पूर्वाग्रह, पूर्वानुमान और सोचे-समझी रणनीति (Well Thought Out Strategy) का हिस्सा बताया है ताकि जांच को प्रभावित किया जा सके. मंत्रालय ने ट्विटर को लिखे पत्र में स्पष्ट तौर पर लिखा है कि मंत्रालय ट्विटर के इस कदम को एकतरफा फैसला और जांच की उचित प्रक्रिया को प्रभावित करने वाला मानता है. यह अपने अधिकार से बाहर जाने जैसा है, जिसे स्वीकार नहीं किया जा सकता.

संबित पात्रा ने कांग्रेस पर लगाया था टूलकिट सहारे PM की छवि खराब करने का आरोप:
हालांकि केंद्र सरकार (Central Government) की ओर से अपने पत्र में संबित पात्रा के ट्वीट पर कंपनी के एक्शन का जिक्र नहीं किया गया है, लेकिन उसके लेटर से साफ है कि BJP प्रवक्ता की पोस्ट को लेकर ही उसने यह बात कही है. इससे पहले 18 मई को संबित पात्रा ने एक ट्वीट किया था, जिसमें कांग्रेस का लेटरहेड (Congress letterhead) था और उसमें यह बताया गया था कि सोशल मीडिया पर किस तरह ट्वीट और जानकारी साझा करनी है. संबित पात्रा ने कांग्रेस पर आरोप लगाया था कि वो एक कथित टूलकिट के सहारे सोशल मीडिया पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) की छवि बिगाड़ने का काम कर रही है.


गुरूवार को ट्विटर ने इसी पोस्ट को बताया था मैन्युप्लेटिड मीडिया:
उनका कहना था कि कांग्रेस कुछ बुद्धिजीवियों (Intellectuals) की मदद से सरकार के खिलाफ माहौल बनाने का काम कर रही है. उनकी इसी पोस्ट को गुरुवार को ट्विटर ने मैन्युप्लेटिड मीडिया यानी गुमराह करने वाली पोस्ट करार दे दिया था. बता दें कि बीते कई दिनों से BJP की ओर से कथित टूलकिट को लेकर कांग्रेस पर हमला बोला जा रहा है. वहीं कांग्रेस ने टूलकिट के आरोपों को फर्जी करार दिया है और BJP चीफ जेपी नड्डा (BJP Chief JP Nadda) समेत पार्टी के कई नेताओं के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई है.


क्या है मैन्युप्लेटिड मीडिया के टैग का मतलब:
ट्विटर की ओर से ऐसा टैग किसी पोस्ट को तब दिया जाता है, जब वह यह समझता कि संबंधित पोस्ट भ्रमित (Post Confused) करने वाली है. बता दें कि अमेरिका (USA) में राष्ट्रपति चुनाव (Presidential Election) के दौरान पूर्व प्रेसिडेंट डोनाल्ड ट्रंप (Former President Donald Trump) के कई ट्वीट्स को भी ट्विटर ने मैनिप्युलेटेड बताया था और बाद में उनका अकाउंट स्थायी रूप से सस्पेंड (Acount Permanently Suspended) कर दिया गया था.

और पढ़ें