MP में मैरिज ब्यूरो का कारनामा: पैसे लेकर फोटो दिखाया किसी और का, मिलाया किसी दूसरी लड़की से, पैसे वापस मांगे तो भेज दिया कानूनी नोटिस

MP में मैरिज ब्यूरो का कारनामा: पैसे लेकर फोटो दिखाया किसी और का, मिलाया किसी दूसरी लड़की से, पैसे वापस मांगे तो भेज दिया कानूनी नोटिस

MP में मैरिज ब्यूरो का कारनामा: पैसे लेकर फोटो दिखाया किसी और का, मिलाया किसी दूसरी लड़की से, पैसे वापस मांगे तो भेज दिया कानूनी नोटिस


भोपाल: अशोका गार्डन इलाके में एक मैरिज ब्यूरो पर भोपाल के एक युवक ने मैचिंग के नाम पर धोखाधड़ी करने का आरोप लगाया है. पीड़ित मनोज श्रीवास्ताव का आरोप है कि उससे 11 हजार रुपए लेकर मैरिज ब्यूरो ने फोटो किसी लड़की का दिखाया और किसी दूसरी लड़की से मिला दिया. खास बात तो यह है कि पीड़ित ने लड़की पसंद नहीं आने पर दूसरा रिश्ता तय कराने या रूपयें वापस देने को बोला तो उसे मैरिज ब्यूरो ने वकील के माध्यम से महिलाओं को परेशान करने का कानूनी नोटिस भिजवा दिया. इसके बाद पीड़ित ने भी अशोका गार्डन पुलिस को शिकायत दे दी. पुलिस ने धोखाधड़ी का केस दर्ज कर जांच शुरू कर दी है.

ब्यूरो ने 11 हजार लेकर जल्द ही चाही गई लड़की की जानकारी देने का दिया झांसा: 
राजगढ़ निवासी मनोज श्रीवास्तव (28) एक रेस्टारेंट में मैनेजमेंट का काम संभालते हैं. भोपाल के एक मैरिज ब्यूरो का नंबर पर उसने शादी करने के लिए 21 जनवरी 2021 को संपर्क किया. मैरिज ब्यूरो की संचालिका ने मनोज को मिलने बुलाया. मनोज अपने एक साथी के साथ मैरिज ब्यूरो के अशोका गार्डन स्थित कार्यालय पहुंचे. यहां पसंद अनुसार लड़की से शादी तय कराने की बात हुई. इसके बाद 11 हजार रुपए लेकर जल्द ही लड़की की जानकारी शेयर करने की बात कही गई. 

 

ब्यूरो वालों ने रुपये लेने के कुछ दिनों बाद व्हाट्सएप पर एक लड़की का फोटो भेजा:
पीड़ित ने बताया कि कुछ दिन बाद उसके वाट्सऐप पर एक लड़की का फोटो भेजा. फोटो पंसद आने के बाद पीड़ित अपने एक साथी के साथ लड़की से मिलने के लिए तय तारीख को भोपाल मैरिज ब्यूराे कार्यालय पहुंचे. यहां पर डेढ़ घंटे बैठाने के बाद लड़की और उसके परिवार को बुलाया गया. लड़की को देखकर मनोज दंग रह गया क्योंकि मिलने आई लड़की वह लड़की नहीं थी जिसकी फोटो मैरिज ब्यूरो ने उसे दिखाई थी.

आपत्ति के बाद दिखाई गई दूसरी लड़की, वो भी निकली बेवफा:
मैरिज ब्यूरो की तरफ से जिस लड़की की फोटो भेजी गई थी और सामने बैठी लड़की से अलग थी. इस पर आपत्ति के बाद पीड़ित को एक दूसरी लड़की दिखाई गई. मनोज ने लड़की पसंद कर ली और लड़की वाले भी तैयार हो गए. इसके बाद मिलने के लिए तारीख तय हुई. जब मनोज ने लड़की के परिवार वालों को फोन किया तो उन्होंने फोन ही नहीं उठाया. कुछ दिन बाद बात हुई तो उन्होंने अगली तारीख पर आने की बात कही.

कोर्ट की तरह मनोज को ब्यूरो वाले देते रहे तारीख पर तारीख:
तारीख पर तारीख इसी तरह उनके द्वारा तारीख पर तारीख दी जाती रही. डेढ़ महीने बाद मनोज ने मैरिज ब्यूरो फोन किया और आपबीती बता दूसरा रिश्ता बताने के लिए कहा. इस पर मैरिज ब्यूरो की संचालिका ने एक सप्ताह का समय मांगा. इधर मनोज दूसरे रिश्ते का इंतजार कर ही रहे थे कि उन्हें एक नोटिस मिल गया. नोटिस मैरिज ब्यूरो के वकील की तरफ से भेजा गया था. इसमे उस पर आरोप लगाया गया कि वह अलग-अलग नंबर से महिलाओं को परेशान कर रहे हैं. नोटिस में पीड़ित को 15 दिन में माफी मांगने या फिर कोर्ट की कार्रवाई का पूरा खर्चा उठाने की चेतावनी दी गई है.

मां कहती है बीमार, उनका सपना पूरा करने के लिए मैरिज ब्यूरो से शादी करने को हुआ तैयार:
वहीं, पीड़ित का कहना है कि हम क्यों परेशान करेंगे. मेरी मां बीमार रहती है. मां की इच्छा है कि उसके सामने ही मेरी भी शादी हो जाए. इसी कारण पीड़ित मनोज ने मैरिज ब्यूरो से जल्द शादी करवाने के लिए हां भरी थी. हम दो भाई बहन है। बहन की शादी हो चुकी है. माता-पिता के कहने पर शादी करने तैयार हुआ तो मैरिज ब्यूरो ने मेरे साथ ही धोखाधड़ी कर ली. (सोर्स भाषा)

और पढ़ें