नई दिल्ली Maruti Suzuki का चालू वित्त वर्ष में 6 लाख CNG वाहन यूनिट बेचने का लक्ष्य

Maruti Suzuki का चालू वित्त वर्ष में 6 लाख CNG वाहन यूनिट बेचने का लक्ष्य

Maruti Suzuki  का चालू वित्त वर्ष में 6 लाख CNG वाहन यूनिट बेचने का लक्ष्य

नई दिल्ली: देश की सबसे बड़ी कार कंपनी मारुति सुजुकी इंडिया (एमएसआई) का लक्ष्य चालू वित्त वर्ष 2022-23 में चार से छह लाख सीएनजी वाहनों की बिक्री का है. कंपनी का मानना है कि यदि आवश्यक कलपुर्जों की आपूर्ति की स्थिति सुधरती है, तो वह इस लक्ष्य को हासिल कर लेगी. कंपनी ने 2021-22 में करीब 2.3 लाख सीएनजी वाहन बेचे हैं. फिलहाल मारुति अपने 15 मॉडलों में से नौ को सीएनजी पावरट्रेन के साथ बेचती है. कंपनी का इरादा आने वाले दिनों में ऐसी प्रौद्योगिकी वाले और मॉडल लाने का है.

मारुति सुजुकी के वरिष्ठ कार्यकारी निदेशक (बिक्री एवं विपणन) शशांक श्रीवास्तव ने पीटीआई-भाषा से बातचीत में कहा कि यह उपलब्धता (आवश्यक कलपुर्जों की) पर निर्भर करता है. लेकिन हम चालू वित्त वर्ष में चार लाख से छह लाख सीएनजी वाहन बेचने का लक्ष्य लेकर चल रहे हैं. उनसे पूछा गया था कि चालू वित्त वर्ष में सीएनजी खंड में कंपनी की बिक्री कितनी रहेगी. श्रीवास्तव ने कहा कि कंपनी की कुल बिक्री में सीएनजी वाहनों की हिस्सेदारी बढ़ेगी. कंपनी का इरादा वैकल्पिक ईंधन वाले और मॉडल लाने का है.

इन मॉडल में सीएनजी की हिस्सेदारी लगभग 32-33 प्रतिशत है:

उन्होंने कहा कि अभी हमारी कुल बिक्री में सीएनजी का हिस्सा लगभग 17 प्रतिशत है. हमारे पास नौ मॉडलों में सीएनजी है. इन मॉडल में सीएनजी की हिस्सेदारी लगभग 32-33 प्रतिशत है. श्रीवास्तव ने कहा कि ईंधन की लगातार बढ़ती कीमतों तथा सीएनजी की कम लागत की वजह से लोगों में इस वैकल्पिक ईंधन का आकर्षण बढ़ रहा है. पिछले कुछ वर्षों में कंपनी के सीएनजी वाहनों की बिक्री में इजाफा हुआ है. वर्ष 2016-17 में कंपनी ने 74,000 सीएनजी वाहन बेचे थे. 2018-19 में यह आंकड़ा लगभग एक लाख इकाई, 2019-20 में 1.05 लाख इकाई और 2020-21 में 1.62 लाख इकाई रहा.

पिछले वित्त वर्ष में 10 सबसे अधिक बिकने वाले मॉडलों में से आठ मारुति के थे:

वाहन क्षेत्र की प्रमुख कंपनी ने पूर्व में कहा था कि उसकी एस-सीएनजी वाहन श्रृंखला सरकार के कच्चे तेल का आयात घटाने और देश के ऊर्जा इस्तेमाल में प्राकृतिक गैस का हिस्सा मौजूदा के 6.2 प्रतिशत से बढ़ाकर 2030 तक 15 प्रतिशत करने के दृष्टिकोण के अनुरूप है. श्रीवास्तव ने कहा कि सरकार भी अपनी तरफ से देश में सीएनजी ईंधन स्टेशन की संख्या बढ़ाने पर काम कर रही है. देश के यात्री वाहन बाजार में कंपनी के दबदबे का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि पिछले वित्त वर्ष में 10 सबसे अधिक बिकने वाले मॉडलों में से आठ मारुति के थे. सोर्स-भाषा   

और पढ़ें