Live News »

सक्रिय युथ ही कर सकेगा लोकसभा चुनाव में बूथ मजबूत - मास्टर भंवरलाल

सक्रिय युथ ही कर सकेगा लोकसभा चुनाव में बूथ मजबूत - मास्टर भंवरलाल

सराड़ा(उदयपुर)। आगामी लोकसभा चुनावों में अपनी जीत केलिए कांग्रेस ने अपनी कमर कस ली है। पार्टी के दिग्गज कार्यकर्ताओं की नब्ज टटोलकर पिछले विधानसभा चुनावों में सलूम्बर विधानसभा में हार के कारणों की समीक्षा के साथ बूथ स्तर व जमीनी लेवल से जुडे कार्यकर्ताओं को प्रशिक्षण देकर मजबूत बनाने की कवायद में जुटे हुए है। पार्टी की लोक सभा चुनावों में जीत के लिए उम्मीदें लगाए कांग्रेस के दिग्गज नेताओं ने शुक्रवार को जयसमन्द स्थित कल्लाजी विकास संस्थान परिसर में सलूम्बर विधानसभा क्षेत्र के पदाधिकारियों व कार्यकर्ताओं का बूथ स्तरिय प्रशिक्षण का आयोजन किया। 

प्रभारी मंत्री मास्टर भंवरलाल मेघवाल ने बूथ कार्यकर्ताओं को प्रशिक्षण शिविर का उद्देश्य कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी की लोकतांत्रिक विचारधारा के अनुसार कांग्रेस पार्टी को मजबूत करना बताया साथ ही कहा कि बूथ पर युवा कार्यकर्ताओ की सक्रियता से बूथ की मजबूती संभव है। इस लिए बिना किसी शंका के लोक सभा चुवाव में पार्टी की जीत के लिए जी जान से जुट जाए। 

इस अवसर सचिव तरूण कुमार ने भी पार्टी को मजबूत बनाने के लिए संगठित रह कर कार्य करने का आह्वान किया। प्रभारी शंकर यादव ने कार्यकर्ताओं को प्रशिक्षण देते हुए कहा कि कांग्रेस पार्टी भगवान महावीर,महात्मा गौतम बुद्ध के अहिंसा के आदर्शों का पालन करती है जो सबके साथ समानता में विश्वास करती है व अहिंसा कांग्रेस की प्रभावी निति रही है, आरएसएस -बीजेपी जो कि सबके लिए नही है हिंसा का आधार बना लेती है। सहप्रभारी  सुमित्रा जैन ने पार्टी के इतिहास, विचारधारा एवं साठ वर्ष तक  देश के विकास मे योगदान के लिए बताया साथ ही बूथ स्तर तक जानकारी पहुंचाने की बात कही एवं केन्द्र की मोदी सरकार की विफलताओं के बारे मे बताया गया। इस दौरान समन्वयक राजेंद्र आर्य, दिलीप सर्राफ , प्रवीण गुप्ता, श्यामलाल चौधरी, जिला अध्यक्ष सीमा चोरडिया, उदयपुर पूर्व सांसद रघुवीर सिंह मीणा, आईटी बांसवाड़ा जितेंद्र पाटीदार सलूबंर पूर्व विधायक बसंती देवी मीणा, पूर्व उप जिला प्रमुख  लक्ष्मी लाल पंड्या, परमानन्द मेहता सहित सलूबंर व सराडा ब्लॉक से बूथ कार्यकर्त्ता सहित कई उपस्थित थे।

और पढ़ें

Most Related Stories

उदयपुर: 13 साल की लड़की से दुष्कर्म, गर्भवती होने के बाद सामने आया मामला

उदयपुर: 13 साल की लड़की से दुष्कर्म, गर्भवती होने के बाद सामने आया मामला

सराड़ा(उदयपुर): जिले में एक बार फिर शर्मसार करने वाली घटना सामने आई है. युवती से गैंगरेप के बाद अब एक तेरह साल की एक नाबालिग के दुष्कर्म के शिकार होने का मामला सामने आया है. मामले का खुलासा तब हुआ जब तेरह वर्षीय बालिका तीन महिने की गर्भवती हो गई. पीड़िता सराड़ा थाना क्षेत्र के बलुआ की रहने वाली है और विधवा मां जो की उदयपुर में मजदूरी करती है उसके साथ रहती है. 

माध्यमिक शिक्षा बोर्ड की 12वीं की परीक्षाएं आज से शुरू, अभ्यर्थियों को सघन जांच-पड़ताल के बाद दिया प्रवेश 

नाबालिग को एक युवक बहला-फुसलाकर ले गया आरोपी: 
जानकारी के अनुसार नाबालिग को एक युवक बहला-फुसलाकर अपने साथ ले गया और उसे अपनी पत्नी की तरह साथ रखने लगा, लेकिन जब वह गर्भवती हो गई तो वह उसे छोड़कर चल गया. सूचना मिलने पर पुलिस ने पॉक्सो एक्ट के तहत सराड़ा थाना क्षेत्र के कालीघाटी निवासी नगजी मीणा नाम के युवको दुष्कर्म के आरोप में गिरफ्तार किया है. 

राजस्थान हाईकोर्ट को मिले 6 नए जज, फिर भी हाईकोर्ट में स्वीकृत 50 पदों पर 27 जज ही होंगे कार्यरत 

चाचा के घर से हुई लापता:
वहीं धानमंडी थानाधिकारी के अनुसार नाबालिग अपने चाचा के साथ शहर में रही थी. लेकिन जब वह चाचा के घर से लापता हुई तो नाबालिग के परिजनों ने धानमंडी थाने में गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज करवाई. हालांकि पुलिस जांच में दुष्कर्म सामने आने के बाद पुलिस ने इस मामले में तत्परता दिखाते हुए युवक को गिरफ्तार करते हुए नाबालिग के न्यायालय में 164 के भी बयान दर्ज करवाए हैं. पुलिस अब इस मामले में आगे की जांच में जुटी हुई है. 
 

VIDEO: नेशनल हाईवे-8 पर दर्दनाक हादसे में 4 की मौत, तीन की हालत गंभीर

VIDEO: नेशनल हाईवे-8 पर दर्दनाक हादसे में 4 की मौत, तीन की हालत गंभीर

उदयपुर: उदयपुर-अहमदाबाद राष्ट्रीय राजमार्ग NH-8 पर सुबह करीब साढ़े दस बजे उदयपुर घूमने आ रहे गुजरात के बडौदा शहर के पादरा के रहने वाले गुजराती पर्यटकों की कार परसाद थाना क्षेत्र के पारेई के समीप खड़ी ट्रक में घुस गई. हादसा इतना भीषण हुआ कि जिसमें कार के परखच्चे उड़ गये. कार पुरी तरह चूरचूर हो गई. वहीं कार में सवार एक महिला व तीन पुरुषों सहित चार की करुण मौत हो गई. 

हादसे में बाल-बाल बची डेढ साल की मासूम:
हादसे में दो महिलाओं व एक बच्ची गंभीर रुप से घायल हो गये, जिन्हें परसाद होस्पीटल में प्राथमिक उपचार के बाद उदयपुर एमबी होस्पीटल रेफर कर दिया. वहीं इस ह्रदय विदारक दुर्घटना में एक डेढ साल की मासूम बच्ची का बाल-बाल बचना और खरोंच तक नहीं आना किसी चमत्कार से कम नहीं है. मासूम बच्ची की देखभाल हादसे के बाद से एएसआई प्रताप सिंह व किराणा दूकान चलाने वाले दम्पति कर रहे हैं.

वेगनर कार में दो बच्चों सहित आठ लोग सवार:
हादसे के समय पांच सिटर वेगनर कार में दो बच्चों सहित आठ लोग सवार थे. कार की स्पीड तेज और नियंत्रण खोने से खड़े ट्रक में पिछे से घुस गई. जोरदार धमाके की आवाज सुनकर दौडे लोगों को चारों और सड़क पर लोगों व कार के चिथेड ही नजर आये. मौके पर पहूंची पुलिस ने ग्रामीणों की मदद से घायलों व शवों को बाहर तो निकलवाया, लेकिन 108 लचर तंत्र की वजह से आधे घंटे तक नहीं पहूंची और न ही कंट्रोल रुम से सन्तोषप्रद जवाब मिला. इसी बीच पुलिस के जवानों ने मजबूरी में खुद की जीप में डालकर होस्पीटल पहूंचाए. क्षेत्र की सभी 108 केस लेकर गई होने की बात सामने आई. ईधर अवकाश के बावजूद हॉस्पिटल स्टाफ ने मानवता दिखाते हुए त्वरित पहूंच कर घायलों को प्राथमिक उपचार उपलब्ध करवाया. मृतक और घायल सभी आपस में मित्र है और दीपावली पर छुट्टियों होने से घूमने आ रहे थे. सूचना पर थानाधिकारी सुभाष परमार, एडीशनल एसपी आताउर्रहमान मौके पर पहूंचे व मृतकों के परिजनों को सूचना दी. 

... सराडा (उदयपुर) से अनिल वैष्णव की रिपोर्ट

वरिष्ठ अध्यापक भर्ती 2018 की विसंगति को टीएसपी बेरोजगारों ने बताया अभिशाप

वरिष्ठ अध्यापक भर्ती 2018 की विसंगति को टीएसपी बेरोजगारों ने बताया अभिशाप

सराडा: वरिष्ठ अध्यापक भर्ती 2018 का प्रोविजन परिणाम टीएसपी और नॉन टीएसपी का अलग-अलग घोषित किया था, जिसमें टीएसपी क्षेत्र संशोधन के तहत नये एरिये को शामिल तो किया गया, लेकिन बढे हुए क्षेत्र के हिसाब से पदों की संख्या नही बढाने से अभ्यार्थियों ने नाराजगी जताते हुए सरकार के फैसले का विरोध किया है.

आरपीएस के फैसले पर विरोध:
वरिष्ठ अध्यापक भर्ती के सैंकडों अभ्यर्थियों ने सलूम्बर में रैली निकाल कर सरकार और आरपीएस के फैसले पर विरोध जताया. साथ ही पुनर्विचार करने की मांग की. अभ्यर्थियों ने बताया कि आरपीएससी सचिव का कहना है कि जो वरीयता टीएससी और नॉन टीएसपी का भरा है, उसके हिसाब से परिणाम घोषित किया गया. जबकि वरीयता प्रभाव चयन के समय ना होकर नियुक्ति के समय किया गया. आरपीएससी के ऐसा करने से अधिक प्राप्तांक वाले व्यक्ति कैटेगरी वाइज नॉन टीएसपी में माइग्रेट नहीं हो रहे हैं. इससे उनकी कट ऑफ अधिक जा सकती है, जिससे टीएसपी के आरक्षण का उचित लाभ नहीं मिल पा रहा है. जबकि पूर्व में इसका लाभ मिल रहा था.

इस भर्ती में टीएसपी का लाभ नहीं मिलना चाहिए था:
अभ्यर्थियों का कहना है कि टीएसपी के विस्तारित क्षेत्र को इस भर्ती में टीएसपी का लाभ नहीं मिलना चाहिए था. 19 मई 2018 की अधिसूचना के तहत आगामी भर्ती में उन्हें डीएसपी का लाभ मिलना चाहिए था, जबकि इस भर्ती की विज्ञप्ति 9 अप्रैल 18 को प्रकाशित हो चुकी थी. आरपीएससी में शुद्धि पत्र के द्वारा विस्तारित क्षेत्र के अभ्यर्थियों को वरीयता दी, लेकिन पदों का वर्गीकरण पूर्व की तरह रखा. विस्तारित क्षेत्र के पद वर्तमान में नॉन टीएसपी में है, शुद्धि पत्र के द्वारा उन पदों को भी टीएसपी में सम्मिलित किया जाए.

टीएसपी के सभी अभ्यर्थियों ने मुख्यमंत्री से मांग की है कि इस भर्ती को पूर्व के वरिष्ठ अध्यापक भर्ती की तरह सुचारू रूप से आरक्षण का लाभ लेते हुए कार्रवाई करवाएं. इस दौरान उदयपुर, डूंगरपुर, बांसवाडा तथा प्रतापगढ जिलों से अभ्यर्थी शामिल हुए.

... सराडा से अनिल वैष्णव की रिपोर्ट 
 

Open Covid-19