प्रदेश में मावठ की बरसात के बाद लुढ़का पारा

FirstIndia Correspondent Published Date 2018/12/13 08:45

नागौर। प्रदेश में विधानसभा चुनाव में मतगणना से पहले आई मावठ की बारिश किसानों के लिए फायदेमंद साबित हो रही है और मतगणना के बाद कांग्रेस को मिला बहुमत भी कांग्रेस को सरकार बनाने के लिए अच्छा साबित होने वाला है मगर जैसे ही मावठ की बरसात के बाद मौसम में ठंडक बढ़ी है, ठीक वैसे ही प्रदेश के सियासी मौसम में भी बदलाव आया है और विधायकों की बैठक के बाद भी अभी तक निर्णय नही हो पाया है और जिस तरह मौसम में कोहरा छाया है और धुंध छाई हुई है वैसे ही प्रदेश के सियासी मौसम में भी धुंध बरकरार है और आम जनता में अभी भी सस्पेंस बरकरार है। 

प्रदेश में बीते दो दिनों से लगातार कोहरा छा रहा है कोहरा काफी घना है, इसकी वजह से ठंडक बढ़ी है और आमजन जीवन काफी प्रभावित हुआ है, तो नागौर की अगर बात करे तो दो दिनों से बदले मौसम से आम जनजीवन काफी प्रभावित है और डीडवाना शहर से निकलने वाले रतनगढ़ किशनगढ़ मेगा हाइवे पर 10 फिट से कम की विजबलिटी होने की वजह से वाहनों को रेंग रेंग कर चलना पड़ रहा है और हादसे की आशंका भी घने कोहरे की वजह से बनी रहती है। अचानक बदला मौसम किसानों के लिए फायदेमंद साबित होने वाला है मगर अब यह देखना होगा कि प्रदेश में मुख्यमंत्री को लेकर छाई धुंध कब साफ होती है। किसके तस्वीर साफ हो पाती है। 
नरपत ज़ोया
संवाददाता
1St इंडिया 
नागौर

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in

कांग्रेस-बीजेपी के भरोसे\'मंद\' - 25 !

सैम पित्रोदा के बयान पर कांग्रेस की किरकिरी
सैम पित्रोदा के एयर स्ट्राइक पर विवादित बयान को लेकर सियासत
लोकसभा चुनाव का सियासी गणित
धन संबधित परेशानी है तो जानिए कुछ असरकारी टोटके| Good Luck Tips
BJP ने 182 लोकसभा उम्मीदवारों की पहली सूची की जारी
BJP थोड़ी देर में जारी करेगी उम्मीदवारों की पहली सूची
देश के 3 प्रमुख मंदिरों की होली