कैनबरा ऑस्ट्रेलियाई उच्च न्यायालय का फैसला, फेसबुक पेज पर टिप्पणियों के लिए मीडिया कंपनियां जिम्मेदार

ऑस्ट्रेलियाई उच्च न्यायालय का फैसला, फेसबुक पेज पर टिप्पणियों के लिए मीडिया कंपनियां जिम्मेदार

ऑस्ट्रेलियाई उच्च न्यायालय का फैसला, फेसबुक पेज पर टिप्पणियों के लिए मीडिया कंपनियां जिम्मेदार

कैनबरा: ऑस्ट्रेलिया की शीर्ष अदालत ने बुधवार को एक ऐतिहासिक फैसला सुनाते हुए कहा कि मीडिया कंपनियां उनके आधिकारिक फेसबुक पेज पर तीसरे पक्षों द्वारा लिखी गई टिप्पणियों के लिए जिम्मेदार हैं. उच्च न्यायालय ने इस बारे में ऑस्ट्रेलिया के कुछ बड़े मीडिया कंपनियों...फेयरफैक्स मीडिया पब्लिकेशंस, नेशनवाइड न्यूज और आस्ट्रेलियन न्यूज चैनल की दलीलों को खारिज करते हुए कहा कि वे टिप्पणियों की ‘प्रकाशक’ हैं. 

अदालत ने मीडिया कंपनियों के खिलाफ 5-2 मत से फैसला दिया. अदालत ने कहा कि मीडिया कंपनियों ने इस टिप्पणियों को प्रोत्साहन दिया और वे पूरी बातचीत में शामिल रहीं. इस फैसले के बाद पूर्व में हिरासत में लिए नाबालिग डायलैन वॉलर इन मीडिया संगठनों के खिलाफ अवमानना का मामला चला सकता है. वॉलर ने द सिडनी मॉर्निंग हेरल्ड, द ऑस्ट्रेलियन, सेंट्रेलियन एडवोकेट, स्काई न्यूज ऑस्ट्रेलिया और द बोल्ट रिपोर्ट जैसे टेलीविजन प्रसारकों तथा समाचार पत्रों के फेसबुक पृष्ठों पर टिप्पणियों के खिलाफ अवमानना का मामला चलाने की अपील की थी.

वॉलर का अवमानना का मामला न्यू साउथ वेल्स राज्य सुप्रीम कोर्ट में 2017 में रोक दिया गया था. उस समय इस सवाल का जवाब नहीं मिला था कि क्या मीडिया कंपनियां फेसबुक प्रयोगकर्ताओं की टिप्पणियों के लिए जिम्मेदार हैं. इन कंपनियों ने वॉलर के नॉर्दर्न क्षेत्र के नाबालिग हिरासत केंद्र में बिताए गए समय से संबंधित रिपोर्ट प्रकाशित की थी. उसके बाद फेसबुक प्रयोगकर्ताओं ने वॉलर के खिलाफ अपमानजनक टिप्पणियां की थीं. इस बारे में फेसबुक ने तत्काल कोई टिप्पणी नहीं की है. सोर्स-भाषा

और पढ़ें