चिकित्सा मंत्री डॉ.रघु शर्मा बने गुजरात के प्रभारी, आखिर कैसे हुआ ये चमत्कार ?

चिकित्सा मंत्री डॉ.रघु शर्मा बने गुजरात के प्रभारी, आखिर कैसे हुआ ये चमत्कार ?

नई दिल्ली: कांग्रेस ने गुरुवार को राजस्थान के स्वास्थ्य मंत्री डॉक्टर रघु शर्मा को गुजरात के लिए अपना नया प्रभारी नियुक्त किया. रघु शर्मा के गुजरात प्रभारी बनने पर सबसे बड़ा सवाल यह खड़ा हो रहा है कि आखिर ये चमत्कार कैसे हुआ? इससे पहले सचिन पायलय की गुजरात प्रभारी बनने की चर्चा थी. लेकिन ऐनवक्त पर डॉ. रघु शर्मा के नाम की घोषणा हुई और साथ ही रघु को दादर-नागर हवेली और दमन-दीव का चार्ज दिया गया है. इसके साथ ही CWC में स्थायी आमंत्रित सदस्य भी नियुक्त किया गया है. 

अलबत्ता डॉ रघु शर्मा पिछले दिनों राहुल गांधी के बुलावे पर दिल्ली गए थे और मुलाकात के बाद खुश होकर जयपुर लौटे थे. शायद राहुल ने उन्हें इस जिम्मेदारी के संकेत दिए थे. जिम्मेदारी गुजरात की, लेकिन इसकी चर्चा राजस्थान में ज्यादा है. राजस्थान में मंत्री रहते हुए गुजरात की ये जिम्मेदारी मिलना एक महत्वपूर्ण घटना है. 

गहलोत को इस घटनाक्रम की पहले से जानकारी थी:
फिलहाल रघु गहलोत के दूसरे हनुमान धर्मेंद्र राठौड़ के साथ डेरा डाले हुए वल्लभनगर में हैं. अलबत्ता सूत्रों के अनुसार गहलोत को इस घटनाक्रम की पहले से जानकारी थी. डॉ. रघु शर्मा गहलोत कैंप के सेनापति माने जाते हैं. खुद गहलोत भी पिछले विधानसभा चुनाव में गुजरात के प्रभारी रह चुके हैं. 

गुजरात के साथ ही दमन एवं दीव और दादरा एवं नगर हवेली का प्रभारी नियुक्त:
आपको बता दें कि पार्टी के संगठन महासचिव केसी वेणुगोपाल की ओर से जारी बयान के मुताबिक, कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने रघु शर्मा को गुजरात के साथ ही दमन एवं दीव और दादरा एवं नगर हवेली के लिए अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी का प्रभारी नियुक्त किया. राजीव सातव के निधन के बाद से यह पद खाली था. राज्यसभा सदस्य सातव का कोरोना संक्रमण की वजह इसी साल 16 मई को मात्र 46 वर्ष की आयु में निधन हो गया था.

गुजरात में अगले साल नवंबर-दिसंबर में विधानसभा चुनाव:
रघु शर्मा वर्तमान समय में राजस्थान की अशोक गहलोत के नेतृत्व वाली कांग्रेस सरकार में स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री हैं. वह अजमेर जिले की केकड़ी विधानसभा सीट से विधायक हैं. पहले वह लोकसभा सदस्य भी रह चुके हैं. गुजरात में अगले साल नवंबर-दिसंबर में विधानसभा चुनाव होना है.

और पढ़ें