देवरानी व जेठानी से सामूहिक दुष्कर्म के बाद 24 वें दिन मेडिकल परीक्षण, परिजनों ने लगाए गंभीर आरोप

FirstIndia Correspondent Published Date 2019/05/10 07:56

कामां(भरतपुर)। कामां मेवात क्षेत्र के कैथवाड़ा थाने के गांव बुहापुरगढ़ी के चर्चित देवरानी जेठानी सामूहिक दुष्कर्म प्रकरण में पुलिस ने घटना के 24 वें दिन शुक्रवार को सीकरी अस्पताल में पीड़िता का मेडिकल परीक्षण करवाया। 

मेडिकल करवाते हुए पीड़िता तथा उसके परिजनों ने पुलिस पर गंभीर आरोप लगाते हुए कहा कि पुलिस ने रसूखदार कंपनी मालिक के दबाव के चलते जानबूझकर समय पर मेडिकल नहीं करवाया था। पीड़िता के पति ने कहा कि पहले तो पुलिस ने कई दिनों तक चक्कर काटने के बाद भी मुकदमा दर्ज नहीं किया था। पीड़िता द्वारा थाने के बाहर अनशन पर बैठने तथा मीडिया में खबरें प्रकाशित होने पर कई दिन बाद पुलिस द्वारा मजबूर होकर मुकदमा दर्ज किया गया था। मुकदमा दर्ज होने के बाद भी पुलिस ने मामले में निष्क्रियता दिखाई। 

पुलिस पर जानबूझकर केस को कमजोर करने का आरोप
पीड़िता के पति ने आरोप लगाया कि हमारे द्वारा बार-बार कहने के बावजूद पुलिस ने पीड़िता का समय पर मेडिकल नहीं करवाया। उन्होंने आरोप लगाया कि पुलिस जानबूझकर केस को कमजोर करने तथा सबूतों को मिटाने एवं मुलजिम पक्ष का बचाव करने की कोशिश कर रही है। पुलिस ने घटना के 19 दिन बाद न्यायालय में पीड़िताओं के बयान दर्ज करवाए थे तथा आज तक मामले में कोई गिरफ्तारी नहीं की गई है। पीड़िताओं द्वारा मजबूर होकर राज्य महिला आयोग जयपुर में भी न्याय की गुहार लगाई जा चुकी है। शुक्रवार को सीकरी अस्पताल में मेडिकल परीक्षण कराने के बाद पीड़िताओं ने पुलिस महानिदेशक जयपुर सहित अन्य अधिकारियों के नाम एक प्रार्थना पत्र लिखा तथा उसमें कहा गया कि पुलिस द्वारा मुलजिम को बचाने एवं केस को कमजोर करने के लिए घटना के 24 दिन बाद आज हमारा मेडिकल करवाया जा रहा है। जबकि नियमानुसार हमारा मेडिकल घटना के तुरंत बाद होना चाहिए था। पीड़िताओं ने प्रार्थना पत्र में महानिदेशक शहीद उच्चाधिकारियों से गुहार लगाई है कि दोषियों की शीध्र गिरफ्तारी कर उन्हें न्याय मिलना चाहिए। 

क्या था मामला 
कैथवाडा क्षेत्र के गांव भुआपुर गढी में गत 16 अप्रैल को देवरानी जेठानी दो महिलाएं जंगल में बुहारी काटने गई थी। जहां पर वे दोनों महिलाएं बुहारी काट रही थी वहां से थोड़ी दूर पर एक खनन कंपनी द्वारा खनन कार्य किया जाता है। खनन कंपनी में कार्य करने वाले लगभग आधा दर्जन कर्मचारियों ने उनमें से एक महिला को पकड़ लिया तथा उसके साथ दुष्कर्म किया। उस महिला द्वारा शोर मचाने पर उसकी जेठानी भी वहां पर आ गई। जिस पर उन लोगों ने उसके साथ भी दुष्कर्म करने का प्रयास किया। उन दोनों के शोर की आवाज सुनकर थोड़ी ही दूर पर दुकान चलाने वाला एक लड़का वहां पर आ गया जिसे देख कर वे लोग वहां से भाग गए। दोनों पीड़ित महिलाएं अपने परिजनों के साथ कैथवाड़ा थाने में मुकदमा दर्ज कराने आई लेकिन पुलिस द्वारा कई दिनों तक मामला दर्ज नहीं करने पर महिलाएं कैथवाड़ा थाने के सामने अनशन पर बैठ गई। जिस पर संज्ञान लेते हुए पुलिस अधीक्षक हैदर अली जैदी ने मुकदमा दर्ज करने के निर्देश दिए तथा कैथवाडा पुलिस द्वारा मुकदमा दर्ज किया गया। मुकदमा दर्ज होने के बाद अभी तक पुलिस द्वारा किसी की भी गिरफ्तारी नहीं की गई है जिससे परेशान होकर पीड़ित महिलाओं द्वारा राज्य महिला आयोग जयपुर में भी न्याय की गुहार लगाई जा चुकी है। जिसके बाद पीड़ित महिलाओं का आज मेडिकल कराया गया।

.....देवेंद्र भट्टाचार्य फर्स्ट इंडिया न्यूज़ कामां भरतपुर

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in