कुआलालंपुर मलेशिया में चिकित्सा कर्मचारी आए संक्रमण की चपेट में, सरकार ने वैक्सीनेशन केंद्र को किया बंद

मलेशिया में चिकित्सा कर्मचारी आए संक्रमण की चपेट में, सरकार ने वैक्सीनेशन केंद्र को किया बंद

मलेशिया में चिकित्सा कर्मचारी आए संक्रमण की चपेट में, सरकार ने वैक्सीनेशन केंद्र को किया बंद

कुआलालंपुर: मलेशिया में 200 से अधिक चिकित्साकर्मियों के संक्रमण की चपेट में आने के बाद सरकार ने बड़े वैक्सीनेशन को बंद कर दिया है. विज्ञान मंत्री खैरी जमालुद्दीन ने कहा कि यह तय करना मुश्किल है कि क्या टीकाकरण केंद्र से संक्रमण फैला. साथ ही इसे रेखांकित किया कि सरकार की त्वरित कार्रवाई ने बड़े स्तर पर संक्रमण फैलने से रोक दिया. उन्होंने शुक्रवार से केंद्र में टीका लेने वाले लोगों को संक्रमण के लक्षण दिखने पर 10 दिनों के लिए अलग-थलग रहने का अनुरोध किया.

संक्रमित पाए गए 204 लोगों में मामूली लक्षण दिखे:
राष्ट्रीय टीकाकरण कार्यक्रम के प्रभारी खैरी ने कहा कि उन्होंने दो स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं के संक्रमित होने के बाद सेलांगोर राज्य में टीकाकरण केंद्र के सभी 453 कर्मियों की कोविड-19 जांच का आदेश दिया है. खैरी ने कहा कि संक्रमित पाए गए 204 लोगों में मामूली लक्षण दिखे हैं.

वैक्सीनेशन सेंटरों को सफाई के लिए किया जा रहा है बंद:
केंद्र को साफ-सफाई के लिए बंद कर दिया गया है और उसके सभी कर्मचारियों को अलग-थलग किया जा रहा है. खैरी ने कहा कि चिकित्साकर्मियों की एक नई टीम के साथ केंद्र बुधवार को फिर से खुलेगा.

मलेशिया में एक जून से कड़े लॉकडाउन के बावजूद संक्रमण के मामले बढ़ते जा रहे हैं. देश में अब तक कोरोना वायरस संक्रमण के 8,44,000 मामले आ चुके हैं और 6200 से ज्यादा लोगों की मौत हुई है जबकि 11 प्रतिशत आबादी का टीकाकरण हुआ है.

और पढ़ें