Live News »

मौसम विभाग का अलर्ट जारी, देश के कई राज्यों में हो सकती है तेज बारिश, उत्तर प्रदेश के वाराणसी में गंगा उफान पर 

मौसम विभाग का अलर्ट जारी, देश के कई राज्यों में हो सकती है तेज बारिश, उत्तर प्रदेश के वाराणसी में गंगा उफान पर 

नई दिल्ली: देश के कई राज्यों में बारिश और बाढ़ का सिलसिला जारी है. मौसम विभाग ने शनिवार को कई राज्यों में भारी बारिश का अलर्ट जारी किया है. मौसम विभाग के अनुसार  मध्य प्रदेश, ओडिशा, गुजरात, राजस्थान, पश्चिम बंगाल और असम में मध्यम से भारी बारिश की संभावना है. 

यूपी में कई जगह बाढ़ जैसे हालात:
मीडिया रिपोर्टस के मुताबिक यूपी के के फर्रुखाबाद वाराणसी में गंगा नदी उफान पर है. गंगा के तटवर्ती इलाके में बाढ़ का पानी घुस गया है. वाराणसी में गंगा में बढ़ते जलस्तर के कारण से कई घाट डूब गए हैं. राज्य के कई में बाढ़ जैसे हालात हो गए हैं. अकेले बाराबंकी में 80 से ज्यादा गांव प्रभावित हो चुके हैं. सरकारी आंकड़ों के अनुसार 13 हजार से ज्यादा परिवार बाढ़ की चपेट में हैं. 

उदयपुर ACB टीम की बड़ी कार्रवाई, पटवारी को 4 हजार रुपए की रिश्वत लेते किया ट्रैप

रिहायशी इलाकों में भरा पानी:
मीडिया रिपोर्टस के मुताबिक यूपी के उन्नाव जिले में गत 24 घंटे में 1 मीटर से ज्यादा जलस्तर बढ़ा है. गंगा नदी का जलस्तर चेतावनी बिंदु पर पहुंचने से तटवर्ती क्षेत्रों में बाढ़ का पानी घुसने लगा है. जिससे जनपद के कई गांवों में बाढ़ का खतरा मंडरा रहा है. लोगों की रातों की नींद उड़ी हुई हैं. वहीं गंगाघट नगर पालिका परिषद के रिहायशी इलाकों में पानी भरने के साथ ही लोगों का घरों से पलायन शुरू हो गया है.

गुलाब चंद कटारिया बोले, कोरोना के कारण लोग संकट में, सभी मिलकर ही इस महामारी से लड़ सकते है

और पढ़ें

Most Related Stories

भाजपा नेता का विवादित बयान, कहा- मोदी ने तय कर दिया है कि पाकिस्‍तान और चीन से युद्ध कब होना

भाजपा नेता का विवादित बयान, कहा- मोदी ने तय कर दिया है कि पाकिस्‍तान और चीन से युद्ध कब होना

बलिया: भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्‍यक्ष स्‍वतंत्र देव सिंह ने एक विवादित टिप्पणी में कहा है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने तय कर दिया है कि पाकिस्‍तान और चीन से युद्ध कब होना है. उनकी यह टिप्पणी शुक्रवार को आई. उल्लेखनीय है कि वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर भारत और चीन के बीच तनाव व्याप्त है, जहां दोनों देशों के सैनिक काफी संख्या में तैनात हैं.

स्‍वतंत्र देव सिंह का वीडियो हुआ वायरलः 
भाजपा नेता ने अपने दावे को अयोध्या में राम मंदिर का निर्माण प्रारंभ होने और ज्म्मू कश्मीर का विशेष दर्जा समाप्त किये जाने से संबद्ध किया है. दरअसल, सिंह का एक वीडियो वायरल हुआ है, जिसमें उन्‍होंने कहा है कि 'राम मंदिर और अनुच्छेद 370 पर निर्णय की तरह ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने तय कर दिया है कि पाकिस्‍तान और चीन से युद्ध कब होना है. संबंधित तिथि तय है कि कब क्‍या होना है.  सिंह ने गत 23 अक्‍टूबर को बलिया जिले के सिकंदरपुर में भाजपा विधायक संजय यादव के आवास पर पार्टी कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए यह टिप्पणी की थी. भाजपा विधायक संजय यादव ने रविवार को यह वीडियो जारी किया.

{related}

क्षेत्रीय भाजपा नेताओं का बयान- कार्यकर्ताओं का जोश बढ़ाने के लिए ऐसा कहाः
स्‍वतंत्र देव सिंह ने अपने संबोधन में समाजवादी पार्टी, बहुजन समाज पार्टी और कांग्रेस के नेताओं की तुलना आतंकवादियों से की. इस संदर्भ में जब भाजपा के क्षेत्रीय सांसद रवींद्र कुशवाहा से पूछा गया, तो उन्‍होंने कहा कि प्रदेश अध्‍यक्ष ने कार्यकर्ताओं का जोश बढ़ाने के लिए ऐसा कहा है.
सोर्स भाषा

योगी सरकार ने प्रशासनिक अमले में किया फेरबदल,  3 पीसीएस अफसरों का किया तबादला

 योगी सरकार ने प्रशासनिक अमले में किया फेरबदल,  3 पीसीएस अफसरों का किया तबादला

लखनऊ: उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने प्रशासनिक अमले में फेरबदल किया है. योगी सरकार ने 3 पीसीएस अफसरों का तबादला किया है. जिसमें गाजीपुर जिले के डिप्टी कलेक्टर PCS सत्य प्रिय सिंह को उन्नाव जिले का डिप्टी कलेक्टर बनाया गया है.

महाराजगंज के डिप्टी कलेक्टर पीसीएस योगेश्वर सिंह को संत कबीर नगर का डिप्टी कलेक्टर बनाया गया है. वहीं वाराणसी में तैनात डिप्टी कलेक्टर PCS शुभांगी शुक्ला को गाजियाबाद का नया डिप्टी कलेक्टर बनाया गया है. सरकार ने ये सभी तबादले जनहित में किए हैं. 

{related}

यूपी में पीसीएस अफसरों का बड़े पैमाने पर तबादला काफी महीनों से रुका हुआ है, कोविड-19 के चलते भी अब की साल होने वाला तबादला नहीं हुआ. लिहाजा सरकार पर पीसीएस अफसरों का दबाव बेहद ज्यादा है ऐसे में सरकार बहुत ही छुप छुप कर बेहद कम संख्या में तबादले कर रही है, ताकि राजनीतिक और प्रशासनिक दबाव से बचा जा सके. 

दशहरे पर रावण दहन नहीं उनकी पूजा-अर्चना करते हैं यहां के लोग

दशहरे पर रावण दहन नहीं उनकी पूजा-अर्चना करते हैं यहां के लोग

मथुरा: भारत में दशहरे को बुराई पर अच्छाई की जीत के तौर पर जाना जाता है और इस दिन पूरे देश में रावण के पुतले का दहन किया जाता है.लेकिन जब दशहरे पर देश में रावण का दहन होता है उसी दिन कुछ लोग इनकी उपासना भी करते हैं.
 
दशहरे के दिन होती है रावण की पूजा-अर्चनाः
दशहरे के अवसर पर देश भर में बुराई का प्रतीक माने जाने वाले रावण का पुतला जलाया जाता है, लेकिन भगवान कृष्ण की नगरी में एक वर्ग ऐसा भी है जो रावण का पुतला जलाने का विरोध करता है और उस दिन रावण की पूजा-अर्चना करता है. ब्राह्मण समाज के सारस्वत गोत्र के लोगों ने रावण के प्रति अपनी आस्था दर्शाने के लिए लंकेश भक्त मंडल का गठन कर रखा है जो पिछले दो दशक से रावण के पुतले दहन करने का विरोध करता आ रहा है. 

रावण, भगवान महादेव के परम भक्त थे और बहुत ही विद्वान थे इसलिए लोग करते हैं नमनः 
लंकेश भक्त मंडल के संयोजक ओमवीर सारस्वत का कहना है कि संगठन के लोग हर वर्ष दशहरे के मौके पर मथुरा के सदर क्षेत्र में यमुना किनारे स्थित एक शिव मंदिर में रावण की पूजा करते हैं. इस वर्ष भी लंकेश भक्त मंडल के सदस्य रविवार को दोपहर बारह बजे रावण की पूजा करेंगे. उन्होंने कहा कि महाराज रावण भगवान महादेव के परम भक्त थे और बहुत ही विद्वान थे, इसीलिए वे लोग उनका नमन करते हैं. प्रकांड विद्वान होने के नाते किसी को भी उनका पुतला दहन नहीं करना चाहिए, इसलिए वे उनके पुतले जलाए जाने का विरोध करते हैं. उन्होंने कहा कि ऐसा करना किसी भी विद्वान के अनादर के समान है और एक ब्राह्मण के मामले में तो यह ‘‘ब्रह्महत्या’’ सरीखी है.

हिंदू रीति-रिवाजों के अनुसार मृत व्यक्ति का पुतला दहन करना उसका अपमान करने जैसाः 
सारस्वत ने कहा कि वैसे भी हिंदू रीति-रिवाजों के अनुसार मृत व्यक्ति का पुतला दहन करना अपमान करने समान है जिसकी कानून भी इजाजत नहीं देता. सारस्वत ने कहा कि हमारे संविधान में भी किसी की भी धार्मिक आस्थाओं को ठेस पहुंचाना दंडनीय अपराध है, समाज का एक वर्ग दशानन के पुतले दहन कर दूसरे वर्ग की धार्मिक आस्था को चोट पहुंचाता है और इसे रोका जाना चाहिए.
सोर्स भाषा

UP: छेड़खानी का विरोध करने पर तीन युवकों ने नाबालिग लड़की के साथ किया ऐसा, पढ़कर कांप जाएगी आपकी रूह

UP: छेड़खानी का विरोध करने पर तीन युवकों ने नाबालिग लड़की के साथ किया ऐसा, पढ़कर कांप जाएगी आपकी रूह

मऊ (उप्र): उत्तर प्रदेश के मऊ जिले में  एक नाबालिग लड़की को छेड़खानी के बाद छत से नीचे फेंकने का मामला सामने आया है. यहां तीन युवकों ने एक नाबालिग लड़की से पहले छेड़खानी की और फिर उसे जबरन उठाकर छत पर ले गए और वहां से नीचे फेंक दिया. लड़की गम्भीर रूप से घायल अवस्था में अस्पताल में भर्ती कराया गया है.

पुलिस ने तीन आरोपियों को किया गिरफ्तारः
जानकारी के अनुसार मऊ जिले के मोहम्दाबाद कोतवाली क्षेत्र के वलीदपुर में एक नाबालिग लड़की को उसके मुहल्ले के तीन युवक उठाकर छत पर ले गये और कथित तौर पर छेड़खानी करने लगे. बाद में उसके शोर मचाने पर लड़कों ने उसे छत के नीचे फेंक दिया. पुलिस के अनुसार शुक्रवार शाम हुई इस घटना में छत से फेंकने से लड़की गम्भीर रूप से घायल हो गई, जिसका इलाज आजमगढ़ के अस्पताल में चल रहा है. मामले में पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर तीन आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है.

{related}

पहले छेड़खानी की फिर की मारपीटः 
मामले में मऊ के पुलिस अधीक्षक सुशील घुले ने बताया कि पुलिस को पीड़ित लड़की के परिजनों द्वारा बताया गया कि उनकी बेटी से मुहल्ले के रहने वाले तीन युवकों ने छेड़खानी की फिर उसके साथ मार पीट कर छत से नीचे गिरा दिया. इसी के आधार पर परिजनों द्वारा तीन युवकों को मुकदमे में दर्ज कराया गया उनको तत्काल गिरफ्तार कर लिया गया.

शोर मचाने पर छत से नीचे फेंकाः
पुलिस ने बताया कि वलीदपुर मुहल्ले में रहने वाली एक लड़की (करीब 15 साल) अपने घर जा रही थी कि रास्ते मे ही मुहल्ले के रहने वाले शकील, शकील का भतीजा जुनैद और एक अन्य युवक मिलकर उसे छत पर ले गये और उसके साथ में छेड़खानी की और फिर शोर मचाने पर उसको छत से फेंक दिया. घुले ने बताया कि मेडिकल परीक्षण के आधार पर आगे की कार्रवाई की जाएगी, लड़की का इलाज आजमगढ़ के अस्पताल में चल रहा है.
सोर्स भाषा

ट्रक में मिली 500 अवैध मवेशी, 12 के खिलाफ मामला दर्ज

ट्रक में मिली 500 अवैध मवेशी, 12 के खिलाफ मामला दर्ज

नोएडा: उत्तर प्रदेश के नोएडा पुलिस ने पांच ट्रकों में भरकर ले जाई जा रही करीब 500 बकरियों को शनिवार को मुक्त कराया और 12 लोगों के खिलाफ पशु क्रूरता कानून के तहत मुकदमा दर्ज किया है. पुलिस कुछ आरोपियों को हिरासत में लेकर पूछताछ कर रही है. थाना जेवर के प्रभारी निरीक्षक उमेश कुमार सिंह ने बताया कि शनिवार दोपहर यमुना एक्सप्रेस- वे पर जांच के दौरान एक साथ पांच ट्रक आए थे और शक होने पर पुलिस ने जांच की तो पाया की ट्रकों के अंदर बकरियां भरी हुई थी. 

उन्होंने बताया कि इन ट्रकों में 500 से ज्यादा बकरियां भरी हुई थीं. थाना प्रभारी ने बताया कि इस मामले में 12 लोगों के खिलाफ पशु क्रूरता अधिनियम के तहत मुकदमा दर्ज कराया है.फिलहाल मामला जारी है और आगे भी जांच की जा रही  है. इस बीच एक अन्य घटना में सेक्टर 12 के पास बीती रात सड़क निर्माण कार्य में लगे एक युवक को अज्ञात ट्रक चालक ने टक्कर मार दी है. 

बताया जा रहा है कि हादसे में उसे गंभीर हालत में नोएडा के जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया है. पुलिस कमिश्नर आलोक सिंह के मीडिया प्रभारी ने यह जानकारी दी है. उन्होंने बताया कि मृतक राजदीप कुमार बिहार में मधेपुरा का निवासी था. फिलहाल पुलिस ड्राईवर की खाोज में लगी हुई है. (सोर्स-भाषा)

झगड़े के बाद पति के लाख मनाने पर नहीं लौटी पत्नी तो गुस्साए पति ने की आत्नहत्या

झगड़े के बाद पति के लाख मनाने पर नहीं लौटी पत्नी तो गुस्साए पति ने की आत्नहत्या

मुजफ्फरनगर:   उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर में पति-पत्नी का मामूली झगड़ा इतना बढ़ गया की पति कारग्रास हो गया. बताया जा रहा है कि पति-पत्नी के झगड़े के बाद कथित तौर पर वह मायके चली गई और वापिस लौटने से इनकार करने लगी जिसके बाद गुस्साए पति ने तैश में आके आत्महत्या कर ली है. न्यू मंडी पुलिस थाने के प्रभारी योगेश शर्मा ने शनिवार को बताया कि मुकेश (35) की पत्नी पारिवारिक विवाद के बाद मायके चली गई थी.

आगे जानकारी देते हुए उन्होंने बताया कि शुक्रवार को मुकेश पत्नी को लाने ससुराल गया था लेकिन पत्नी ने आने से मना कर दिया जिसके बाद उसने जहर खा लिया है. पुलिस ने बताया कि मुकेश को अस्पताल ले जाया गया जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया है. फिलहाल मामले की बारिकी से जांच की जा रही है. (सोर्स-भाषा)

{related}

छापेमारी के दौरान पुलिस पर चलाई गोली, 2 आरोपियों को 7 साल की सजा

छापेमारी के दौरान  पुलिस पर चलाई गोली, 2 आरोपियों  को 7 साल की सजा

मुजफ्फरनगर: उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर जिले  में दो साल पुराने एक मामले में अदालत ने आरोपियों को सजा सुना दी है. खबर है कि एक अदालत ने दो साल पहले एक अवैध हथियार निर्माण इकाई में छापेमारी के दौरान पुलिस टीम पर गोलीबारी करने के जुर्म में, दो लोगों को सात साल की कैद की सजा सुनाई है और हर्जाना भरने के लिए भी कहा है. यदि हर्जाना नहीं भर पाते है तो सजा के औऱ भी बढ़ने की संभावना बनी है. 

अपर जिला सत्र न्यायाधीश राधे श्याम यादव ने उस्तकीम और रहीसुद्दीन पर 20 - 20 हजार रुपये का जुर्माना भी लगाया है. अभियोजन पक्ष के अनुसार दोषियों ने 2018 में जिले में एक अवैध हथियार निर्माण इकाई में छापे के दौरान पुलिस टीम पर गोलीबारी की थी. जिसमें भारी नुकसान हुआ था और  मामला कोर्ट तक पहुंच गया था मगर दो साल बाद न्याय मिल ही गया है. (सोर्स-भाषा)

{related}

13 साल पुराने अपहरण और हत्‍या के मामले में छह लोगों को उम्रकैद

13 साल पुराने अपहरण और हत्‍या के मामले में छह लोगों को उम्रकैद

ललितपुर: उत्तर प्रदेश  के ललितपुर जिले की एक अदालत ने 13 साल पहले घर से एक महिला का अपहरण कर हत्या की कोशिश करने के मामले में छह अभियुक्तों को उम्रकैद की सजा सुनाई है और उन पर जुर्माना लगाया है. सहायक शासकीय अधिवक्ता खुशीलाल लोधी ने शनिवार को बताया कि अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश (प्रथम) उमेश कुमार सिरोही की अदालत ने अभियोजन और बचाव पक्ष के अधिवक्ताओं की दलीलें सुनने के बाद यह फैसला सुनाया है. 

खुशीलाल के मुताबिक 23 जनवरी 2007 की शाम करीब छह बजे घर में घुसकर रूबी सिंह नामक महिला का अपहरण कर घोंटा गांव के जंगल में उसे गोली मारकर (हत्या की कोशिश) घायलावस्था में फेंक दिए जाने का दोषी पाए गए है. इसी के तहत कडेसरा गांव के लक्ष्मण सिंह, जंडैल सिंह, दुर्जन सिंह, दीवान सिंह, हाकिम सिंह और नन्दू रावत को उम्रकैद की सजा सुनाई है तथा लक्ष्मण सिंह व जंडैल सिंह पर 29-29 हजार रुपये और बाकी चार दोषियों पर 26-26 हजार रुपये का जुर्माना लगाया है. 

उन्होंने बताया कि इस मामले के दो आरोपी गजेंद्र सिंह व जीतू सिंह नाबालिग हैं, लिहाजा उनका मामला किशोर न्यायालय में विचाराधीन है. एक आरोपी कमल सिंह शुक्रवार को अदालत में हाजिर नहीं हुआ, इसलिए उसे फरार घोषित कर दिया गया है. जानकारी में मामला प्रेम प्रसंग और शादी में धोखे की ओर इशारा करता नजर आया है. आपको बता दे कि महाराज सिंह यादव ने लक्ष्मण सिंह बुंदेला की पत्नी रूबी सिंह से 2006 में प्रेम विवाह (कोर्ट मैरिज) कर लिया था.

जिसके बाद पहले लक्ष्मण सिंह बुंदेला, जंडैल सिंह और कमल सिंह ने 23 जनवरी 2007 को महाराज सिंह के बड़े भाई नन्दराम की गोली मारकर हत्या कर दी थी. फिर उसके करीब एक घंटे बाद लक्ष्मण सिंह अपने अन्य साथियों के साथ महाराज सिंह के घर घुसकर अपनी पूर्व पत्नी रूबी सिंह को घसीटते हुए घोंटी गांव के जंगल ले गए और वहां उसे गोली मार दी. वे लोग उसे मरा समझकर फरार हो गए. हालांकि इलाज से रूबी की जान बच गयी थी. 

मामले की पुरी जानकारी देते हुए अधिकारी लोधी ने बताया कि नन्दराम की हत्या के मामले में संदेह का लाभ देते हुए अदालत ने लक्ष्मण सिंह, कमल सिंह और जंडैल सिंह को बरी कर दिया लेकिन रूबी सिंह के बयानों के आधार पर उसकी हत्या की कोशिश किये जाने के मामले में दोषी ठहराते हुए आरोपियों को उम्रकैद की सजा सुनाई है और जुर्माना भी ठोका गया है. (सोर्स-भाषा)

{related}